पाकिस्तान के तेज गेंदबाज शोएब अख्तर ने मानी थी अपनी गलती, 14 साल बाद किया धोनी से माफी मांगने का खुलासा

एमएस धोनी (MS Dhoni) के पहले शतक का पाकिस्तान (Pakistan) से कुछ खास रिश्ता है. दिलचस्प बात है कि धोनी ने वनडे और टेस्ट दोनों ही फॉर्मेट में पहला शतक पाकिस्तान के खिलाफ लगाया है. दोनों ही बार उन्होंने 148 रन बनाए हैं.

Shoaib Akhtar on MS Dhoni, पाकिस्तान के तेज गेंदबाज शोएब अख्तर ने मानी थी अपनी गलती, 14 साल बाद किया धोनी से माफी मांगने का खुलासा

साल 2006 की बात है. 2004 में 14 साल बाद भारत और पाकिस्तान (Pakistan) के बीच क्रिकेट रिश्तों की बहाली के बाद ये भारत का दूसरा पाकिस्तान दौरा था. इसी सीरीज में फैसलाबाद में महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) ने अपने टेस्ट करियर का पहला शतक लगाया था. फैसलाबाद टेस्ट मैच ड्रॉ हो गया था. इसी टेस्ट मैच में धोनी को गेंदबाजी करते भी देखा गया था.

दिलचस्प बात ये है कि अपनी 148 रनों की पारी में धोनी ने 19 चौके और 4 छक्के लगाए थे. इन्हीं 19 चौकों में से 3 चौके उन्होंने शोएब अख्तर के एक ही ओवर में लगा दिए थे. अपनी धुनाई देखकर शोएब अख्तर (Shoaib Akhtar) को गुस्सा आ गया. उन्होंने राउंड द विकेट आकर धोनी को ‘बीमर’ फेंका था. जिस पर पांच रन चले गए थे. बाद में शोएब अख्तर ने अपनी उस हरकत के लिए धोनी से माफी मांगी थी.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

आकाश चोपड़ा के साथ बातचीत में किया खुलासा

शोएब अख्तर भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज के साथ बातचीत कर रहे थे. इसी बातचीत के दौरान उन्होंने खुलासा किया. उस मैच के 14 साल बाद शोएब अख्तर ने कहा, ”उस मैच में मैंने 8-9 ओवर का स्पेल किया था. वो एक तेज स्पेल था. धोनी ने सैकड़ा किया था. मैंने जानबूझकर धोनी को ‘बीमर’ फेंकी थी. बाद में मैंने उनसे माफी भी मांगी थी. वो मेरी झुंझलाहट थी.

मैंने जिंदगी में पहली बार जानबूझकर ‘बीमर’ फेंकी थी. मुझे ऐसा नहीं करना चाहिए था. बाद में मुझे बहुत पछतावा हुआ. वो बहुत अच्छा खेल रहे थे और विकेट भी काफी ‘स्लो’ था. मैं चाहे जितनी तेज फेंकू वो लगातार शॉट्स लगा रहे थे. लिहाजा मुझे हताशा हुई थ”.

पाकिस्तान से धोनी का है खास रिश्ता

धोनी के पहले शतक का पाकिस्तान से कुछ खास रिश्ता है. दिलचस्प बात है कि धोनी ने वनडे और टेस्ट दोनों ही फॉर्मेट में पहला शतक पाकिस्तान के खिलाफ लगाया है. दोनों ही बार उन्होंने 148 रन बनाए हैं. और दोनों ही बार वनडे और टेस्ट करियर के पांचवें मैच में उन्होंने अपना पहला शतक लगाया है.

शोएब अख्तर ने इसी बातचीत के दौरान ये भी बताया कि उन्होंने 2006 की सीरीज किस तरह चोट के साथ खेली थी. उस सीरीज के तीन मैचों में शोएब अख्तर को सिर्फ 4 विकेट से संतोष करना पड़ा था. अख्तर ने बताया कि उन्हें 1997 में ही घुटनों में तकलीफ हो गई थी और इसके बाद अगले 10 साल तक उन्होंने इंजेक्शन के भरोसे क्रिकेट खेली.

Related Posts