सही समय पर बोला शुभमन गिल का बल्ला, जिंदा रखी KKR की प्लेऑफ में पहुंचने की उम्मीदें

शुभमन गिल ने पिछले दो मुकाबलों में अर्धशतकीय पारी खेलकर कोलकाता नाइट राइडर्स को जीत दिलाई है और प्लेऑफ में पहुंचने की उम्मीदों को जिंदा रखा है.

मोहाली. युवा बल्लेबाज शुभमन गिल (नाबाद 65) की परिपक्व पारी ने इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) के 12वें सीजन में कोलकाता नाइट राइडर्स को शुक्रवार को मेजबान किंग्स इलेवन पंजाब के ऊपर सात विकेट से बेहद अहम जीत दिला दी. कोलकाता के लिए ये जीत बिलकुल सभी समय पर आई है. इसकी मदद से कोलकाता की प्लेऑफ में पहुंचने की दावेदारी बची हुई है.

पंजाब ने बल्लेबाजी की न्योता मिलने पर सैम कुरन (नाबाद 55) की आखिरी के ओवरों में खेली गई आतिशी पारी के दम पर कोलकाता को 184 रनों का लक्ष्य दिया. कोलकाता ने दो ओवर पहले ही महज तीन विकेट खोकर लक्ष्य हासिल कर अपने आप को अंतिम-4 की रेस में बनाए रखा है. इस जीत के साथ कोलकाता के 13 मैचों में छह जीत और सात हार के बाद 12 अंक हो गए हैं और वह पांचवें स्थान पर है. इस जीत ने उसे प्लेऑफ की रेस में बनाए रखा है.

गिल रहे जीत के नायक 

कोलकाता की जीत के नायक युवा बल्लेबाज गिल रहे, जिन्होंने अपनी परिपक्वता का परिचय देते हुए शुरू से लेकर अंत तक एक छोर संभाले रखा और मुश्किल परिस्थति में भी खड़े रहकर टीम को जीत दिलाई. गिल ने अपनी पारी में 49 गेंदें खेलीं, जिनमें से पांच पर चौके और दो पर छक्के मारे.

गिल को बाकी बल्लेबाजों का भी अच्छा साथ मिला. अपनी टीम के साथियों के साथ गिल ने अच्छी साझेदारियां कीं. उन्होंने पहले अपने सलामी जोड़ीदार क्रिस लिन के साथ पहले विकेट के लिए 62 रन बोर्ड पर टांगे. एंड्रयू टाई ने अपनी ही गेंद पर लिन का कैच ले कोलकाता को पहला झटका दिया. लिन ने 22 गेंदों पर 46 रन बनाए. उनकी पारी में पांच चौके और तीन छक्के शामिल रहे.

SHUBHMAN
शुभमन गिल ने पिछले मुकाबले में मुंबई के खिलाफ 76 रनों की साझेदारी की.

इसके बाद गिल ने रोबिन उथप्पा के साथ मिलकर टीम को 100 के आंकड़े तक पहुंचा दिया. यहीं उथप्पा, रविचंद्रन अश्विन के हाथों आउट हो गए. उन्होंने 14 गेंदों पर दो चौके और एक छक्के की मदद से 22 रनों की पारी खेली.

दूसरे छोर पर गिल अपनी अंदाज में बल्लेबाजी कर रहे थे और बड़े शॉट्स लगा रहे थे. उथप्पा के जाने के बाद उन्हें तूफानी बल्लेबाज आंद्रे रसेल का साथ मिला.  दोनों ने मिलकर जो बल्लेबाजी की उससे पंजाब की जीत की उम्मीदें धाराशायी हो गई थीं. इन दोनों ने 26 गेंदों पर 50 रनों की साझेदारी कर कोलकाता को जीत की दहलीज के करीब पहुंचा दिया.

रसेल की पारी को मोहम्मद शमी ने खत्म किया. रसेल ने 14 गेंदों का सामना करते हुए दो-दो छक्के और चौकों की मदद से 24 रन बनाए. रसेल जब आउट हुए तब कोलकाता को जीत के लिए 31 गेंदों पर 34 रनों की जरूरत थी और गिल एक छोर संभाले हुए थे. गिल ने फिर कप्तान दिनेश कार्तिक के साथ मिलकर जरूरी रन दो ओवर पहले ही बना लिए और अपनी टीम को जीत दिलाई. कार्तिक नौ गेंदों पर दो चौके और एक छक्के की मदद से 21 रन बनाकर नाबाद लौटे.

कुरन ने खेली थी शानदार पारी

इससे पहले, कुरन ने आखिरी ओवर में 22 रन बना पंजाब को निर्धारित 20 ओवरों में छह विकेट के नुकसान पर 183 के स्कोर तक पहुंचाया. कुरन ने अपनी नाबाद पारी में 24 गेंदें खेलीं और सात चौकों के अलावा दो छक्के मारे.  आई.एस. बिंद्रा स्टेडियम में खेले जा रहे मैच में कोलकाता के कप्तान कार्तिक ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला किया. संदीप वॉरियर ने कोलकाता को अच्छी शुरुआत दी. उन्होंने पहले लोकेश राहुल (2) और फिर क्रिस गेल (14) को पवेलियन भेज दिया. निकोलस पूरन और मयंक अग्रवाल ने तीसरे विकेट के लिए 69 रनों की साझेदारी कर पंजाब को मजबूती दी.

SAM CURRAN
सैम कुरन ने 24 गेंदों में 55 रनों की नाबाद पारी खेली.

पूरन को नीतीश राणा ने 91 के कुल स्कोर पर संदीप के हाथों कैच करा पंजाब को तीसरा झटका दिया. पूरन ने 27 गेंदों पर तीन चौके और चार छक्के मार 48 रनों की पारी खेली.  मयंक की पारी का अंत रन आउट के साथ हुआ। उन्होंने 26 गेंदें खेली जिनमें से दो चौके और एक छक्का मार 36 रन बनाए. मयंक के जाने के बाद पंजाब की स्थिति बिगड़ने और कोलकाता के हावी होने का डर था, लेकिन कुरन और मनदीप सिंह (25) ने ऐसा नहीं होने दिया.  दोनों आराम से स्कोरबोर्ड चलाते रहे.

इस बीच सुनील नरेन की गेंद पर रिंकू सिंह ने कुरन का कैच भी छोड़ा. हैरी गार्ने ने मनदीप को आउट कर कोलकाता को राहत दी. कप्तान रविचंद्रन अश्विन को रसेल ने खाता नहीं खोलने दिया. कोलकाता एक बार फिर हावी होने की कगार पर थी, लेकिन यहां से कुरन का बल्ला तेज हो गया. उन्होंने इसी ओवर में रसे पर दो चौके मारे. गार्ने द्वारा फेंके गए आखिरी ओवर में कुरन ने तीन चौके और एक छक्का लगा पंजाब को मजबूत स्कोर दिया. कोलकाता के लिए संदीप ने दो विकेट लिए. गार्ने, आंद्र, नीतिश राणा को एक-एक सफलता मिली.