‘क्या हम अपनी किट जला दें और नौकरी की तलाश करें’ जिम्बाब्वे क्रिकेट को सस्पेंड करने पर उमड़ा खिलाड़ी का दर्द

ICC ने जिम्बाब्वे क्रिकेट को सस्पेंड करने का कारण क्रिकेट में राजनीतिक दखल को न रोक पाना बताया था.

लंदन. अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (ICC) ने गुरुवार को लंदन में हुई सालाना बैठक में  जिम्बाब्वे क्रिकेट बोर्ड (Zimbabwe Cricket Board) को तत्काल प्रभाव से निलंबित करने का फैसला किया था, इसपर जिम्बाब्वे टीम के हरफनमौला खिलाड़ी सिकंदर रजा ने अपनी टीम की मनोदशा को दर्शाने के लिए तीन शब्दों का इस्तेमाल किया है- निराशा, आशाहीन्ता और दिल टूटना. रजा ने ESPN क्रिकइन्फो से बात करते हुए कहा, “क्या अब हम सब को अपनी किट जला देनी चाहिए और कोई नौकरी तलाशनी चाहिए.”

बता दें कि, ICC ने जिम्बाब्वे क्रिकेट को सस्पेंड करने का कारण क्रिकेट में राजनीतिक दखल को न रोक पाना बताया था.  अब जिम्बाब्वे क्रिकेट बोर्ड को अक्टूबर में होने वाली ICC की अगली बैठक तक बोर्ड में राजनीतिक दखल को समाप्त करना होगा.

रजा और टीम के बाकी सदस्यों में वैसी ही भावनाएं हैं जैसे कि पिछले साल वर्ल्ड कप क्वालीफायर में हार के बाद थी. वर्ल्ड कप क्वालीफायर में जिम्बाब्वे की टीम यूएई के हाथों हारकर बाहर हो गई थी. उन्होंने बताया कि खिलाड़ी अपने भविष्य को लेकर चिंतित हैं. जिम्बाब्वे को सितम्बर में बांग्लादेश में मेजबान और अफगानिस्तान के खिलाफ T20 सीरीज खेलनी थी. इसके बाद उन्हें यूएई में T20 वर्ल्ड कप क्वालीफायर भी खेलना था. अब जब बोर्ड को सस्पेंड किया जा चुका है और बोर्ड से जुड़ी टीमों को किसी ICC इवेंट में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं है ऐसे में जिम्बाब्वे टीम का महिला T20 और पुरुष T20 वर्ल्ड कप क्वालीफायर में खेल पाना लगभग नामुमकिन है.

रजा ने कहा कि ICC समान शर्तें लागू कर सकता था लेकिन कम से कम उन्हें क्रिकेट खेलने की अनुमति दे देता.

दुखी रजा ने कहा, “मुझे नहीं पता कि हम अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटरों के रूप में कहां जाएंगे. क्या हमारे लिए क्लब क्रिकेट या फिर कोई क्रिकेट नहीं है? क्या हम अपनी किट जला दें और नौकरियों के लिए आवेदन करें? मुझे नहीं पता कि हमें अभी क्या करना है.” रजा ने ये भी कहा कि, “हम सभी का दिल से टूट गया हैं, हम सदमे में हैं ये देखते हुए कि किस तरह हमारा इंटरनेशनल करियर समाप्त होता दिख रहा है. ये सिर्फ एक खिलाड़ी की बात नहीं है, बल्कि पूरे देश की बात है. हम यहां से कहां जाएंगे ? क्या और कोई रास्ता है?” रजा ने पिछले साल वर्ल्ड कप क्वालीफायर में प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट चुने जाने पर अवार्ड लेने से मना कर दिया था और कहा था कि

बता दें कि, ICC ने गुरुवार को लंदन में हुई सालाना बैठक में  जिम्बाब्वे क्रिकेट बोर्ड (Zimbabwe Cricket Board) को तत्काल प्रभाव से निलंबित करने का फैसला किया था. इसके मुताबिक निलंबन के साथ ही जिम्बाब्वे क्रिकेट को ICC की फंडिंग मिलना बंद हो जाएगी और उसका प्रतिनिधित्व करने वाली टीमें किसी भी ICC इवेंट में हिस्सा नहीं ले सकेंगी. 

ICC चेयरमैन शशांक मनोहर ने कहा कि, “हम एक सदस्य को निलंबित करने के निर्णय को हल्के में नहीं लेते हैं, लेकिन हमें अपने खेल को राजनीतिक हस्तक्षेप से मुक्त रखना है. जिम्बाब्वे में जो हुआ है वह ICC संविधान का गंभीर उल्लंघन है और हम इसे अनियंत्रित जारी रखने की अनुमति नहीं दे सकते.” उन्होंने आगे कहा, “ICC चाहता है कि जिम्बाब्वे में क्रिकेट ICC संविधान के अनुसार जारी रहे.” ICC के इस निर्णय से जिम्बाब्वे पुरुष टीम की T20 वर्ल्ड कप क्वालीफायर में भागीदारी भी खतरे में पड़ जाएगी.

बता दें है कि हाल में सरकार के खेल एवं मनोरंजन आयोग ने जिम्बाब्वे क्रिकेट को संवैधानिक नियमों का उल्लघंन करने के लिए निलंबित कर दिया था. ICC की बैठक में ये भी कहा गया कि, जिम्बाब्वे क्रिकेट लोकतांत्रिक तरीके से निष्पक्ष चुनाव कराने में नाकाम रहा है और क्रिकेट में सरकार के दखल को दूर नहीं रख सका है.

ये भी पढ़ें: CWC फाइनल के सुपर ओवर में नीशम का छक्का देख उनके कोच को आया हार्ट अटैक, मौत

ये भी पढ़ें: देश का सपना चकनाचूर करने वाले बेन स्टोक्स को न्यूजीलैंड क्यों दे रहा है सम्मान

Related Posts