भारतीय क्रिकेट में सट्टेबाजों की पहुंच कहां तक? सौरव गांगुली ने किया बड़ा खुलासा

गांगुली ने कहा, "बुकीज का प्‍लेयर्स को कॉन्‍टैक्‍ट करना उतनी बड़ी समस्‍या नहीं है, गलत वह होता है जो खिलाड़ियों से ऐसे संपर्क किए जाने के बाद होता है."

BCCI अध्यक्ष सौरव गांगुली ने बताया है कि सैयद मुश्ताक अली टी-20 टूर्नामेंट में एक सट्टेबाज ने एक खिलाड़ी से मुलाकात की. इस घटना की जानकारी खिलाड़ी ने BCCI की एंटी करप्‍शन यूनिट (ACU) को दी है.

गांगुली ने BCCI की सालाना आमसभा (AGM) के बाद प्रेस कांफ्रेंस में कहा, “मुझे बताया गया है कि यहां तक कि सैयद मुश्ताक अली टी-20 मुकाबले में एक सट्टेबाज ने एक खिलाड़ी से मुलाकात करने की कोशिश की. हालांकि मैं ठीक ठीक से उसका नाम नहीं जानता हूं लेकिन संपर्क करने की कोशिश की गई और खिलाड़ी ने इसकी जानकारी दी.”

गांगुली ने कहा, “संपर्क की इस कोशिश से उतनी समस्या नहीं है, गलत वह होता है जो खिलाड़ियों से ऐसे संपर्क किए जाने के बाद होता है. हम इससे निपट रहे हैं (TNPL और KPL के मामले में). हमने संबंधित राज्य संघों से इस बारे में बात की है.” उन्होंने कहा कि ऐसे मामलों से निपटने के लिए BCCI अपनी ACU को मजबूत करेगा.

अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (ICC) ने कर्नाटक प्रीमियर लीग (KPL) में हुए भ्रष्टाचार घोटाले में बेंगलुरू पुलिस को समर्थन दिया है. ICC के अलावा BCCI ने भी बेंगलुरू पुलिस से संपर्क किया है.

पेंशन स्‍कीम बदलेंगे गांगुली

गांगुली ने एक और अहम बात कही. गांगुली ने कहा कि वह क्रिकेटरों के लिए BCCI की पेंशन स्कीम को नए सिरे से तैयार करना चाहते हैं. गांगुली ने कहा कि कई खिलाड़ियों के पास नौकरी है और वे तब भी पेंशन ले रहे हैं. ऐसे में यह सुनिश्चत किया जाएगा कि पेंशन उन्हीं को मिले, जिनको इसकी सबसे अधिक जरूरत है.

ये भी पढ़ें

क्या धोनी T-20 वर्ल्ड कप में खेलेंगे? गांगुली बोले- उन्हीं से पूछ लो

“हिटमैन रोहित शर्मा तोड़ सकते हैं ब्रायन लारा का रिकॉर्ड”