सौरव गांगुली का बड़ा बयान- IPL का स्पॉन्सर जाना छोटी बात, इसे वित्तीय संकट नहीं कहूंगा

सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) ने कहा, “मैं इसे वित्तीय संकट नहीं कहूंगा. ये छोटी सी बात है. हमारे लिए लंबे समय से चला रहा पेशेवर रवैया ज़रूरी है. बड़ी चीज़ें रातों रात नहीं आती और बड़ी चीज़ें रात रातों रात जाती भी नहीं हैं.

Sourav Ganguly Said IPL sponsor is a small thing, सौरव गांगुली का बड़ा बयान- IPL का स्पॉन्सर जाना छोटी बात, इसे वित्तीय संकट नहीं कहूंगा

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) के अध्यक्ष सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) ने कहा है कि IPL की स्पॉन्सरशिप से ‘वीवो’ के हटने को ‘फ़ाइनेंशियल क्राइसिस’ या वित्तीय संकट के तौर पर नहीं देखा जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि ये एक छोटी सी परेशानी है. इस पूरे मामले में सौरव गांगुली ने कहा, “मैं इसे वित्तीय संकट नहीं कहूंगा. ये छोटी सी बात है. हमारे लिए लंबे समय से चला रहा पेशेवर रवैया ज़रूरी है. बड़ी चीज़ें रातों रात नहीं आती और बड़ी चीज़ें रात रातों रात जाती भी नहीं हैं. लंबे समय से की जा रही तैयारी आपको नुक़सान के लिए तैयार रहने में मदद करती है. आपको सफलता दिलाती है.”

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

गांगुली ने ये सारी बातें एक वेबिनार के दौरान कही. उन्होंने ये भी कहा, “आपको अपने सभी विकल्प खुले रखने चाहिए. ये प्लान A और प्लान B की तरह है. समझदार लोग ऐसा करते हैं, समझदार ब्रांड ऐसा करते हैं, समझदार कॉरपोरेट ऐसा करते हैं. BCCI का एक मज़बूत आधार है. इस खेल में खिलाड़ियों और एडमिनिसट्रेटर्स ने अपनी सूझ-बूझ से इसे इतना मज़बूत बनाया है कि BCCI इस तरह की चुनौतियों का सामना कर सकती है.

चीन के विरोध में वीवो से अलग होना पड़ा

चीन (China) को लेकर देश भर में चल रहे विरोध का असर आईपीएल पर भी पड़ा था. IPL की स्पॉन्सरशिप से चीनी कंपनी को हटना पड़ा था. बीते मंगलवार को दोपहर बाद ये खबर आई थी कि आईपीएल की टाइटिल स्पॉन्सरशिप अब चीनी कंपनी के पास नहीं रहेगी. बता दें कि ‘ViVO’ ने 2199 करोड़ रुपए में ये स्पॉन्सरशिप ख़रीदी थी. 2017 में शुरू हुए इस करार की मियाद पांच साल के लिए थी. पूरे देश में इन दिनों चीन के बायकॉट की मांग जोर पर है. सरकार की तरफ से कई चाइनीज मोबाइल ऐप्स को बैन किया गया है. इसके अलावा और भी कई तरीके से चीन को अलग थलग करने की कोशिशे हुई हैं. देश के आम लोगों में भी चीन को लेकर जबरदस्त नाराजगी है. लोग चीन के बनाए तमाम उत्पादों के इस्तेमाल से बच रहे हैं. ऐसे वक्त में आईपीएल के साथ चीन की कंपनी के जुड़े रहने पर निश्चित ही बवाल होता. लिहाजा ये मामला आईपीएल की गवर्निंग काउंसिल या बीसीसीआई से आगे निकलकर सरकार के पाले में जाना तय था. इन्हीं बातों के मद्देनजर वीवो से रिश्ता तोड़ने का फैसला लिया गया था.

सौरव के बयान से कम होगी टीम मालिकों की चिंता

2199 करोड़ की स्पॉन्सरशिप का सीधा मतलब है कि हर साल के करीब 440 करोड़. इस रकम को कैसे ‘एडजस्ट’ करना है ये अभी देखना होगा. साथ ही नए स्पॉन्सर की तलाश करनी होगी. इतनी बड़ी रकम के एक स्पॉन्सर को ढूंढना आसान नहीं होगा. क्योंकि कोरोना की वजह से मंदी का दौर हर किसी के सामने है. लेकिन सौरव गांगुली के ताज़ा बयान के बाद टीम मालिकों की चिंताएं कम हुई होंगी. बताते चलें कि 2020 IPL 19 सितंबर से 10 नवम्बर के बीच UAE में खेला जाएगा. ये टूर्नामेंट 53 दिन तक चलेगा.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

Related Posts