Tokyo Olympics 2020 postpone, ओलंपिक टलने का क्या एक मतलब ये भी है- हीरो बनेंगे जीरो और जीरो बनेंगे हीरो
Tokyo Olympics 2020 postpone, ओलंपिक टलने का क्या एक मतलब ये भी है- हीरो बनेंगे जीरो और जीरो बनेंगे हीरो

ओलंपिक टलने का क्या एक मतलब ये भी है- हीरो बनेंगे जीरो और जीरो बनेंगे हीरो

ऐसा माना जाता है कि एथलीट (Athletes) अगर एक साल में अपनी रफ्तार में कुछ सेकेंड का रिकॉर्ड बेहतर कर ले तो वो सही दिशा में है. कोई टीम अगर चार साल में अपनी वर्ल्ड रैंकिंग में एक पायदान का इजाफा कर ले तो वो सही दिशा में है.
Tokyo Olympics 2020 postpone, ओलंपिक टलने का क्या एक मतलब ये भी है- हीरो बनेंगे जीरो और जीरो बनेंगे हीरो

पहले इस सवाल को समझना होगा. फिर ओलंपिक (Olympic) की ‘प्रॉसेस’ को समझना होगा. तब कहीं जाकर समझ आएगा कि एक साल ओलंपिक टलने का दुनिया भर के एथलीटों  पर क्या असर पड़ेगा. फिलहाल जब से टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olymic) के एक साल टलने की खबर आई है तब से इसके अलग अलग पहलुओं पर चर्चा हो रही है. सबसे बड़ी चर्चा वित्तीय मामलों से जुड़ी हुई है. किसको कितना नुकसान होगा? नुकसान की भरपाई कहां से होगी? टैक्स कौन भरेगा?

इसके अलावा आज चर्चा इस बारे में भी हो रही है कि टोक्यो ओलंपिक के लिए जो गेम्स विलेज बना था उसका अब क्या होगा, उन घरों को वहां बेचा और खरीदा जा चुका है. एक साल टलने की सूरत में उन पैसों का क्या होगा जो खरीदारों से लिए गए हैं. इस तरह के दर्जनों सवाल इन दिनों गर्म हैं.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

हालांकि, असली सवाल अभी दबा हुआ है. असली सवाल ये है कि पिछले चार साल से ओलंपिक की तैयारी में पसीना बहा रहे एथलीट्स के प्रदर्शन पर इसका क्या असर होगा. कोरोना का खतरा इतना बड़ा है कि दुनिया का कोई भी एथलीट टोक्यो ओलंपिक को टालने का विरोध नहीं करेगा. लेकिन इसका असर उसे भी पता होगा कि एक साल में क्या कुछ बदल जाएगा.

चार साल की तैयारी की ‘प्रॉसेस’ को समझिए
ऐसा माना जाता है कि एथलीट अगर एक साल में अपनी रफ्तार में कुछ सेकेंड का रिकॉर्ड बेहतर कर ले तो वो सही दिशा में है. कोई टीम अगर चार साल में अपनी वर्ल्ड रैंकिंग में एक पायदान का इजाफा कर ले तो वो सही दिशा में है. दरअसल, ओलंपिक की तैयारी में जुटी टीम या व्यक्तिगत तौर पर खिलाड़ी अपनी ‘पीक’ पर आने को प्लान करते हैं.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

हर खिलाड़ी इस तरह से तैयारी करता है कि जैसे ही ओलंपिक नजदीक आने वाला हो वो अपने प्रदर्शन के सबसे बेहतरीन दौर में हो. ओलंपिक क्लासीफाइ कर लेने के बाद ये तैयारी और वैज्ञानिक हो जाती है. अगर आपको ये बात ताज्जुब लग रही है तो तो किसी भी एथलीट के पुराने इंटरव्यू देखिए.

बेहद सटीक होती है ट्रेनिंग

आज की तारीख में खिलाड़ियों के साथ देसी विदेशी कोच, साइकॉलजिस्ट, ट्रेनर्स इसलिए मेहनत करते हैं कि वो सबकुछ बिल्कुल सटीक तरीके से प्लान कर सकें. ये तैयारी इतनी वैज्ञानिक होती है कि बाकायदा इस बात का भी पूरा ध्यान रखा जाता है कि ओलंपिक से ठीक पहले किस देश में ट्रेनिंग की जाएगी. जिससे जिस देश में ट्रेनिंग की जा रही है और जहां ओलंपिक होने हैं वहां के मौसम में बहुत ज्यादा अंतर ना हो.

ओलंपिक में शूटिंग और तीरंदाजी जैसे कई इवेंट्स में हवा का बहुत बड़ा रोल होता है, इसलिए खिलाड़ी इस बात का ध्यान रखते हैं कि जिस देश में उन्हें ओलंपिक खेलना है और जिस मौसम में खेलना है उस मौसम की हवा का भी अंदाजा उन्हें पहले से रहे.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

लंदन ओलंपिक में जब भारतीय तीरंदाज दीपिका कुमारी का प्रदर्शन फाइनल में बहुत खराब हुआ तो इसके पीछे की वजह यही थी कि वो लॉर्ड्स में चल रही हवा का रूख भांप ही नहीं पाईं. अब जिन खिलाड़ियों ने इस प्रॉसेस के तहत जुलाई के मौसम और टोक्यो को ध्यान में रखकर पूरी तैयारी की होगी उनके लिए ओलंपिक का टलना बहुत बड़ा झटका है.

एक साल में बदल जाती है पूरी तस्वीर

एक साल का समय बड़ा समय होता है. हॉकी और फुटबॉल जैसे खेल में एक साल में टीम में तमाम बदलाव हो जाते हैं. चुस्ती-फुर्ती वाले खेल में इस एक साल का असर पड़ता है. इस दौरान खिलाड़ी की उम्र ही एक साल नहीं बढ़ती बल्कि लगातार खेलने वालों में चोट का भी खतरा होता है.

कई बार ऐसा भी होता है जब खिलाड़ी अपना रिटायरमेंट प्लान करते हैं. उनके जेहन में इसी तरह की तैयारी रहती है कि फलां इवेंट के बाद वो रिटायरमेंट ले लेंगे. ऐसे खिलाड़ी के लिए अगले एक साल तक फिर से खुद को मॉटिवेट करना आसान नहीं होगा. कुल मिलाकर कहानी ये है कि टोक्यो ओलंपिक जब 2021 में होंगे तो हीरो और जीरो के चेहरे आपको बदले हुए दिख सकते हैं.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

Tokyo Olympics 2020 postpone, ओलंपिक टलने का क्या एक मतलब ये भी है- हीरो बनेंगे जीरो और जीरो बनेंगे हीरो
Tokyo Olympics 2020 postpone, ओलंपिक टलने का क्या एक मतलब ये भी है- हीरो बनेंगे जीरो और जीरो बनेंगे हीरो

Related Posts

Tokyo Olympics 2020 postpone, ओलंपिक टलने का क्या एक मतलब ये भी है- हीरो बनेंगे जीरो और जीरो बनेंगे हीरो
Tokyo Olympics 2020 postpone, ओलंपिक टलने का क्या एक मतलब ये भी है- हीरो बनेंगे जीरो और जीरो बनेंगे हीरो