विराट कोहली की ‘145 किमी प्रति घंटा’ की रफ्तार वाली जीत 

भारतीय कप्तान विराट कोहली भी अपने गेंदबाजों की तारीफ करते हुए खुद को भाग्यशाली करार दे चुके हैं. विराट ने कहा था कि उनके पास जो गेंदबाज हैं वो ड्रीम कॉम्बिनेशन है. 
Virat Kohli victory, विराट कोहली की ‘145 किमी प्रति घंटा’ की रफ्तार वाली जीत 

ईशांत शर्मा, उमेश यादव, मोहम्मद शमी.. टीम इंडिया के इन तीन गेंदबाजों ने वो कर दिखाया जो आज से पहले हिंदुस्तान की जमीन पर कभी नहीं हुआ था. ईशांत, उमेश और शमी ने मैच में सभी 19 विकेट आपस में बांटे. भारतीय जमीन पर पहली बार विरोधी टीम के सभी विकेट तेज गेंदबाजों ने हासिल किया.

इससे पहले सिर्फ एक ही बार टीम इंडिया के तेज गेंदबाजों ने ये कमाल किया था. वो भी साल 2018 में जोहान्सबर्ग टेस्ट मैच में जिसमें टीम इंडिया को जीत मिली थी. बता दें कि बांग्लादेश के बल्लेबाज मेहमदुल्लाह इंजरी की वजह से रिटायर्ड हर्ट हो गए थे, जिसकी वजह से उनके 19 विकेट ही गिरे. वरना मुमकिन था कि 20वां विकेट भी तेज गेंदबाज को ही जाता.

ईशांत बने मैन ऑफ द सीरीज

ईशांत शर्मा ने कोलकाता टेस्ट की पहली पारी में 5 जबकी दूसरी पारी में 4 विकेट हासिल किए. इस शानदार प्रदर्शन के लिए उन्हें मैन ऑफ द मैच चुना गया. वहीं टेस्ट सीरीज में ईशांत ने कुल 12 विकेट अपने नाम किए वो भी सिर्फ 10.7 की औसत से. ईशांत को अपनी यादगार गेंदबाजी के लिए मैन ऑफ द सीरीज भी चुना गया. ईशांत शर्मा अच्छी फॉर्म में दिख रहे हैं. वो मौजूदा भारतीय टीम के सबसे अनुभवी खिलाड़ी है. अपने दुश्मन को कब और कैसे घाव देना हैं वो ईशांत बेहतर तरीके से जानते हैं. इसी का नतीजा है कि वो कप्तान कोहली के भरोसे पर खरे उतर रहे हैं.

उमेश और शमी ने किया रफ्तार से वार

उमेश यादव भी किसी मामले में ईशांत से कम नहीं रहे. बांग्लादेश के खिलाफ उमेश यादव ने जबरदस्त गेंदबाजी की. उन्होंने कोलकाता टेस्ट की पहली पारी में 3 और दूसरी पारी में 5 विकेट हासिल किए. सीरीज में उमेश के भी 12 विकेट हैं. वहीं मोहम्मद शमी ने कोलकाता टेस्ट में बांग्लादेशी बल्लेबाजों को बॉडी लाइन गेंदबाजी का स्वाद चखाया. शमी ने सीरीज में कुल 9 विकेट अपने नाम किए. पहले टेस्ट में शमी को 7 विकेट मिले थे.  दोनों टेस्ट की चारों पारियों में उमेश ने बांग्लादेश के बल्लेबाजों को अपनी स्विंग और रफ्तार से खूब पानी पिलाया.

टेस्ट चैम्पियनशिप में धाक

टीम इंडिया के तेज गेंदबाजों ने टेस्ट चैम्पियशिप में भी अपनी धाक जमा ली है. टेस्ट चैम्पियनशिप में सबसे ज्यादा विकेट हासिल करने वालों में मोहम्मद शमी दूसरे नंबर पर हैं. टेस्ट चैम्पियनशिप के टॉप 5 गेंदबाजों में तीन भारतीय तेज गेंदबाज हैं. भारतीय पेस अटैक में रफ्तार की ऐसी धार पहले कभी नहीं देखी गई थी. यही वजह है कि भारतीय गेंदबाजी का डंका विश्व क्रिकेट में बज रहा है. हर कोई टीम इंडिया के गेंदबाजों की तारीफ में कसीदे पढ़ रहा है. भारतीय कप्तान विराट कोहली भी अपने गेंदबाजों की तारीफ करते हुए खुद को भाग्यशाली करार दे चुके हैं. विराट ने कहा था कि उनके पास जो गेंदबाज हैं वो ड्रीम कॉम्बिनेशन है.

विराट जीत की वजह तेज गेंदबाज

पिछले 2-3 साल में टीम इंडिया के तेज गेंदबाजों ने गजब की धाक जमाई है. जिस टीम में कभी स्पिनर्स का बोलबाला था, उस टीम में अब जीत के हीरो तेज गेंदबाज हो रहे हैं. पिछले 2 साल में टीम इंडिया के लिए सबसे ज्यादा 83 विकेट मोहम्मद शमी ने हासिल किए हैं. उसके बाद नंबर आता है ईशांत शर्मा का जिन्होंने 74 विकेट हासिल किए.

जसप्रीत बुमराह ने 62 विकेट अपने नाम किए हैं. इस साल टीम इंडिया ने सिर्फ 1 मैच छोड़कर बाकी सभी मैच में विराधी टीम को ऑलआउट किया है. ये भी तेज गेंदबाजों की बदौलत ही मुमकिन हो पाया है. ये आंकड़े और टीम इंडिया की कामयाबी, बताते हैं कि मौजूदा वक्त में टीम इंडिया के पास सबसे धाकड़ बॉलिंग अटैक है. जिससे पार पाना फिलहाल किसी दूसरी टीम के बस की बात नजर नहीं आ रही.

ये भी पढ़ें: आखिर विराट कोहली पर सुनील गावस्कर को क्यों आया गुस्सा?

Related Posts