2020 के पहले मैच में ‘कोहली’ खेलेंगे ‘विराट’ पारी

विराट कोहली इस वक्त बेहतरीन फॉर्म में हैं. वो हर फॉर्मेट में रन बना रहे हैं. टी-20 में भी विराट का बल्ला खूब रन बरसा रहा है. पिछले साल टी-20 में विराट कोहली ने 10 टी-20 में 77.6 की धमाकेदार औसत से 466 रन बनाए.

Virat Kohli News, Virat Kohli Batting, Virat Kohli Centuries, Virat Kohli ODI, Virat Kohli ODIs

विराट कोहली का जलवा 2020 में भी बरकरार रहे, ये उम्मीद टीम इंडिया और उनके फैंस को है. विराट कोहली को मालूम है कि ये साल टी-20 वर्ल्ड कप वाला है, यानी कि इस साल विराट को अपना सबसे बेहतरीन प्रदर्शन जारी रखना होगा. खासतौर से टी-20 क्रिकेट में. टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली नए साल में पुराना अंदाज दिखाने की बात कह चुके हैं. विराट वो खिलाड़ी बन चुके हैं जिससे विरोधी टीम डरती है. इस साल भी विराट अपना खौफ बनाए रखना चाहेंगे.

शानदार फॉर्म में है विराट

विराट कोहली इस वक्त बेहतरीन फॉर्म में हैं. वो हर फॉर्मेट में रन बना रहे हैं. टी-20 में भी विराट का बल्ला खूब रन बरसा रहा है. पिछले साल टी-20 में विराट कोहली ने 10 टी-20 में 77.6 की धमाकेदार औसत से 466 रन बनाए. जिसमें 5 अर्धशतकीय पारी शामिल हैं. टी-20 में अपना सर्वाधिक नाबाद 94 रन का स्कोर भी विराट ने पिछली सीरीज में ही बनाया. जिस मैच में विराट कोहली चल गए, उस मैच में टीम इंडिया की जीत पक्की समझिए. वो अब सिर्फ मैच बचाते नहीं बल्कि जीत बनाते हैं.

पिछले साल टी-20 में जो 6 मैच टीम इंडिया जीती उसमें विराट कोहली की बल्लेबाजी औसत 114 की रही. विराट ने पिछले साल 5 में 3 अर्धशतक लक्ष्य का पीछा करते हुए बनाया. ये आंकड़े बताते हैं कि विराट कोहली कैसे टीम इंडिया के लिए मैच विनर साबित हो रहे हैं. दरअसल कप्तानी मिलने के बाद से ही विराट कोहली की बल्लेबाजी में भी गजब का बदलाव देखने को मिला है. अब वो अपनी जिम्मेदारी समझते हैं और मैच के हिसाब से बल्लेबाजी का अंदाज बदलते हैं.

मैच के बीच ही सुधार लेते हैं गलतियां

विराट शुरुआत में लगभग 100 के स्ट्राइक रेट से रन बनाते हैं, लेकिन 15 से 20 ओवर के बीच विराट का स्ट्राइक रेट 200 के पार पहुंच जाता है. विराट ने हाल के दिनों में अपने बल्लेबाजी की गलतियां मैच के बीच में ही सुधारने में कामयाबी हासिल की है. वेस्टइंडीज के खिलाफ हैदराबाद टी-20 में विराट ने पहले लंबे शॉट्स खेलने की कोशिश की थी, लेकिन जल्द ही उन्हें एहसास हुआ कि वो पावर हिटर नहीं बल्कि बेहतरीन टाइमर हैं. उन्होंने बल्लेबाजी अंदाज बदला और टीम के लिए नाबाद 94 रन की मैच विनिंग पारी खेली.

विराट अब जोश में होश नहीं खोते इसलिए अब उनको उकसाना विरोधी टीम पर ही भारी पड़ता है और जो गेंदबाज ऐसी हिमाकत करता है उसे विराट नहीं छोड़ते. श्रीलंका के खिलाफ विराट की असली टक्कर लसिथ मलिंगा से होगी. ऐसी मुश्किल चुनौतियों में तो विराट ही को मजा आता है.

ये भी पढ़ें: भारत के दिग्गज खिलाड़ी का फूटा गुस्सा, कहा- शुभमन गिल को हटा दो कप्तानी से…

Related Posts