जेंटलमैन गेम को बदनाम करने वाले सट्टेबाज संजीव चावला का काला चिट्ठा, पढ़ें Inside Story

डीसीपी डॉक्टर गोपाल नाइक ने बताया कि क्राइम ब्रांच को बड़ी कामयाबी मिली है. बड़ी मेहनत से और एमएचए, यूके हाई कमीशन और इंडियन हाई कमीशन की मदद से संजीव चावला को प्रत्यर्पित कर पाए हैं.

नई दिल्ली: जेंटलमैन गेम को बदनाम करने वाला सट्टेबाज संजीव चावला अब पुलिस रिमांड पर है. चावला सन् 2000 के क्रिकेट बेटिंग में इन्वॉल्व था. डीसीपी डॉक्टर गोपाल नाइक ने बताया कि क्राइम ब्रांच को बड़ी कामयाबी मिली है. बड़ी मेहनत से और एमएचए, यूके हाई कमीशन और इंडियन हाई कमीशन की मदद से संजीव चावला को प्रत्यर्पित कर पाए हैं.

नाइक ने बताया कि संजीव 2000 के क्रिकेट बेटिंग में इन्वॉल्व था. इसमे पहले तीन लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी थी. इस मामले में साउथ अफ्रीका के दिवंगत खिलाड़ी हैंसी क्रोनिए भी शामिल थे. इसी बीच बुकी संजीव चावला लंदन भाग गया था. 2013 में केस की चार्जशीट दाखिल हुए थी. तभी से क्राइम ब्रांच ने कई बार लंदन अथॉरिटीज में इसके प्रत्यर्पण को लेकर लेटर लिखे थे.

आगे उन्होंने बताया, “2013 में इसके प्रत्यर्पण की कोशिश शूरु की. वेस्टमिनिस्टर कोर्ट में एप्लीकेशन लगाई. इसमे गृह मंत्रालय ने मदद की थी एक रिक्वेस्ट भी यूके की वेस्ट मिनिस्टर कोर्ट में दी गयी थी. मई 2017 में उसमें संजीव चावला को राहत मिली और डिस्चार्ज कर दिया था. क्राइम ब्रांच उसके खिलाफ गयी. उसके बाद वहां से हमसे क्लेरिफिकेशन पूछा गया था, जिसका क्राइम ब्रांच ने जवाब दिया था. उसके आधार पर 7 जनवरी 2019 को वहां से संजीव को एक्सट्रॉडिशन के लिये कहा गया.”

डीसीपी ने बताया, “हाईकोर्ट में भी अपील किया गया था. डिवीजन बेंच क्वीन हाईकोर्ट में भी चला गया था. क्वींस बेंच ने परमिशन भी किया था. ह्यूमन राइट्स फ्रांस में भी संजीव ने अपील की थी. वहां भी इसे राहत नहीं मिली. जिसके बाद इस केस को लेकर दिल्ली पुलिस के कमिश्नर ने एक स्पेशल टीम को गठित किया.”

16 जनवरी को क्वींस हाईकोर्ट में इस पर फिर बहस हुई थी और तीन घण्टे चली. उसके बाद डबल बेंच ने चावला की अपील को खारिज किया. 12 फरवरी को मेट्रोपोलिटन पुलिस ने हमे संजीव चावला की कस्टडी दी. आज एसीएम कोर्ट से हमे 12 दिन की कस्टडी मिली है.

संजीव चावला को भारत लाने का जिक्र करते हुए कहा कि आज तक हर दिन इसे परसु किया गया था. हाई कमीशन ऑफ इंडिया, यूके हाईकमीशन तक इन्हें कई जगह तक लेकर जाना है. आज तक इसने जांच ज्वाइन नहीं की है. अभी जांच शुरू नहीं की है. अब करेंगे.

आखिर में उन्होंने कहा कि टोटल 6 आरोपी चार्जशीट में थे 3 गिरफ्तार हुए थे. उनमें से एक हैंसी क्रोनिए थे जो अब नहीं हैं. मनोहर खत्तर है जो usa में है उनसे काफी पूछताछ हुई. गिरफ्तार लोगों में हैंसी क्रोनिए, राजेश कालरा,किशन कुमार, सुनील दारा थे और फरार में संजीव चावला और मनोहर खट्टर थे. उन्होंने कहा कि उस दौरान जहां-जहां मैच हुए थे वहां उनको लेकर जाएगी. सबसे पहले क्राइम ब्रांच संजीव चावला को मुम्बई लेकर जाएगी.