धोनी ने कहा- इस खिलाड़ी को नहीं लूंगा… ये टीम बर्बाद कर देगा

श्रीनिवासन ने उस खिलाड़ी के नाम का खुलासा नहीं किया. लेकिन धोनी की कप्तानी की खूबी जरूर बता दी कि उन्हे टीम की एकजुटता का कितना अंदाजा है. ये तय माना जा रहा है कि सितंबर में शुरू होने वाले IPL से एक बार फिर धोनी मैदान में वापसी करेंगे.
MS Dhoni, धोनी ने कहा- इस खिलाड़ी को नहीं लूंगा… ये टीम बर्बाद कर देगा

भारतीय टीम के कामयाब कप्तान महेंद्र सिंद धोनी IPL के भी सबसे कामयाब कप्तानों में से एक हैं. उन्होंने 10 सीजन में चेन्नई सुपरकिंग्स (Chennai Super Kings) की कप्तानी की है. इसमें से तीन बार उन्होंने अपनी टीम को जीत दिलाई है. IPL में बतौर कप्तान उनसे ज्यादा खिताब सिर्फ रोहित शर्मा ने जीते हैं. चेन्नई सुपरकिंग्स का मालिकाना हक इंडिया सीमेंट्स के पास है. इंडिया सीमेंट्स के मालिक एन श्रीनिवासन और धोनी के संबंध बहुत करीबी रहे हैं. एन श्रीनिवासन भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के अध्यक्ष भी रहे हैं.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

भारतीय क्रिकेट की दुनिया में कहा जाता है, जैसे संबंध कभी जगमोहन डालमिया और सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) के बीच हुआ करते थे कुछ वैसा ही श्रीनिवासन और धोनी के बीच था. हाल ही में श्रीनिवासन ने एक वेबिनार में कहा कि उन्होंने चेन्नई की टीम के लिए एक खिलाड़ी का प्रस्ताव रखा था. लेकिन धोनी (MS Dhoni) ने उस खिलाड़ी को ये कहकर नहीं लिया कि वो खिलाड़ी टीम को बर्बाद कर देगा. ये IPL के शुरूआती सीजन का मामला है.

वो एक आउटस्टैंडिंग खिलाड़ी था: एन श्रीनिवासन

चेन्नई सुपरकिंग्स के एन श्रीनिवासन एक वेबिनार में कहा कि- “हमने एक आउटस्टैंडिंग खिलाड़ी के लिए धोनी को प्रस्ताव दिया. धोनी का जवाब था- नहीं सर. वो टीम को बर्बाद कर देगा. टीम में एकजुटता बहुत जरूरी है. अमेरिका में फ्रेंचाइजी आधारित खेल काफी पुराना है. वहां देखिए. भारत में हम बस इसे शुरू ही कर रहे हैं. हमारे लिए ये नया है. लेकिन इंडिया सीमेंट्स को जूनियर स्तर पर टीमों को चलाने का लंबा अनुभव है.”

श्रीनिवासन ने उस खिलाड़ी के नाम का खुलासा नहीं किया. लेकिन धोनी की कप्तानी की खूबी जरूर बता दी कि उन्हे टीम की एकजुटता का कितना अंदाजा है. ये तय माना जा रहा है कि सितंबर में शुरू होने वाले IPL से एक बार फिर धोनी मैदान में वापसी करेंगे.

श्रीनिवासन ने बताई धोनी की खासियत

श्रीनिवासन ने कहा- टी-20 खेल में गेंदबाजी कोच होता है. जो हर बल्लेबाज का वीडियो चलाकर देखता है कि वो कैसे आउट होता है. उस बल्लेबाज की क्या ताकत है, क्या कमजोरी है? लेकिन एमएस धोनी इस तरह के सेशन में नहीं जाते. वो अपनी ‘इंसटिंक्ट’ पर चलते हैं. ऐसे सेशन में हर कोई होता है. हेड कोच, बॉलिंग कोच, खिलाड़ी. हर कोई अपनी राय देता है. लेकिन धोनी वहां से चले जाते हैं. वो किसी भी बल्लेबाज का आंकलन मैदान में ही करना चाहते हैं. ये उनका फैसला है. दूसरी तरफ हर खिलाड़ी के आंकलन को लेकर इतना ‘डाटा’ मौजूद है कि ‘इंसटिंक्ट’ और डाटा के बीच में एक लाइन खींचना बहुत मुश्किल हो जाता है.

Related Posts