क्या दादा बनेंगे विश्व क्रिकेट के ‘बॉस’? सौरव गांगुली को ICC अध्यक्ष बनाने की मांग

सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) ने कई बार ये साबित किया है कि उनके अंदर स्थिति को संभालने और उसे बेहतर करने का कौशल है. चाहे जब उन्हें भारतीय टीम की कप्तानी दी हो, उस वक्त भारतीय टीम कई तरह की परेशानियों से घिरी हुई थी.
Sourav Ganguly ICC President, क्या दादा बनेंगे विश्व क्रिकेट के ‘बॉस’? सौरव गांगुली को ICC अध्यक्ष बनाने की मांग

पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) इस वक्त बीसीसीआई अध्यक्ष (BCCI President) हैं. पिछले करीब आठ महीने से गांगुली बीसीसीआई को लीड कर रहे हैं. उधर आईसीसी अध्यक्ष शशांक मनोहर का कार्यकाल इसी महीने खत्म हो रहा है. इसके बाद जुलाई में आईसीसी अध्यक्ष के लिए चुनाव होगा.

गांगुली के अब तक के कार्यकाल को देखते हुए आवाज उठ रही है कि सौरव गांगुली को आईसीसी (ICC) अध्यक्ष बनाया जाए. ये मांग सिर्फ भारत की ओर से नहीं बल्कि उनके विरोधी भी कर रहे हैं. साउथ अफ्रीका के पूर्व कप्तान और क्रिकेट साउथ अफ्रीका के अध्यक्ष ग्रीम स्मिथ ने कहा है कि सौरव गांगुली में लीडरशिप क्वॉलिटी है. गांगुली आईसीसी प्रेजिडेंट के लिए सबसे बेहतर हैं.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

सौरव गांगुली के सपोर्ट में ग्रीम स्मिथ

सौरव गांगुली की कप्तानी का लोहा आज भी लोग मानते हैं. उन्होंने भारतीय टीम को विदेशों में जीतना सीखाया. इसके अलावा वो वेस्ट बंगाल क्रिकेट संघ की अध्यक्षता भी कर चुके थे. और अब वो बीसीसीआई के चीफ की भूमिका में हैं. उनके पास एक शानदार कप्तान और बेहतरीन प्रशासक का अनुभव है. अब जुलाई में आईसीसी अध्यक्ष के लिए चुनाव होना है. इसके लिए क्रिकेट साउथ अफ्रीका के अध्यक्ष ग्रीम स्मिथ ने सौरव गांगुली का समर्थन किया है.

ग्रीम स्मिथ ने कहा है कि भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के अध्यक्ष सौरभ गांगुली जैसे अनुभवी व्यक्ति को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद का अध्यक्ष बनना चाहिए. गांगुली जैसे अनुभवी खिलाड़ी के इस पद पर बैठने से क्रिकेट को फायदा मिलेगा. आईसीसी का अध्यक्ष एक बड़ा पद है और गांगुली जैसे व्यक्ति का इस पद पर होना खेल के लिए बेहतर होगा.

उन्होंने कहा कि गांगुली का आईसीसी अध्यक्ष बनना आधुनिक खेल के लिए अच्छा होगा. वो खेल को बेहतर तरीके से समझते हैं. उन्होंने शीर्ष स्तर पर इसे खेला है और टीम की कमान भी संभाली है. क्रिकेट को आगे ले जाने के लिए उनका नेतृत्व बेहतरीन साबित हो सकता है. उनका आईसीसी अध्यक्ष बनना दिलचस्प होगा.

गांगुली की लीडरशिप है लाजवाब

सौरव गांगुली ने कई बार ये साबित किया है कि उनके अंदर स्थिति को संभालने और उसे बेहतर करने का कौशल है. चाहे जब उन्हें भारतीय टीम की कप्तानी दी हो, उस वक्त भारतीय टीम कई तरह की परेशानियों से घिरी हुई थी. इसमें मैच फिक्सिंग एक बड़ी विवाद था, जिसकी वजह से भारतीय टीम के प्रति फैंस में काफी नाराजगी थी. लेकिन गांगुली ने टीम इंडिया को संभाला. विदेशों में भारत की जीत हुई.

गांगुली ने एक अच्छी टीम तैयार की और फैंस का भरोसा जीता. फिर जब उन्हें बीसीसीआई की कमान मिली, उस वक्त भी बोर्ड में चीजें बिखरी हुई थीं. गांगुली पिछले साल अक्टूबर में बीसीसीआई अध्यक्ष बने थे. उसके बाद गांगुली ने राष्ट्रीय टीम से लेकर घरेलू टीम और स्पोर्ट स्टाफ सब पर ध्यान दिया. गांगुली की अध्यक्षता में ही भारत ने बांग्लादेश के खिलाफ कोलकाता में अपना पहला पिंक बॉल टेस्ट मैच खेला था. इसके आयोजन की सभी तैयारिया गांगुली खुद देख रहे थे.

बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली का कार्यकाल भी जुलाई में खत्म हो रहा है. ऐसे में बोर्ड ने सुप्रीम कोर्ट से मांग की थी कि कूलिंग ऑफ के तीन साल के समय के नियम में ढील दी जाए, लेकिन इस मामले पर अभी तक सुनवाई नहीं हुई है.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

Related Posts