युवराज के लिए संन्यास से वापसी की राह नहीं आसान, बोर्ड का ये नियम बन सकता है रुकावट

युवराज सिंह (Yuvraj Singh) ने पिछले साल 10 जून को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया था. इसके बाद युवराज ने कनाडा और अबू धाबी में हुई क्रिकेट लीग में हिस्सा लिया था.

भारतीय क्रिकेट टीम (Indian Cricket Team) के पूर्व सुपरस्टार बल्लेबाज युवराज सिंह के संन्यास से वापसी की कोशिशों में भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) के कुछ नियम आड़े आ सकते हैं. पिछले साल अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट समेत घरेलू क्रिकेट से भी अपने संन्यास का एलान करने वाले युवराज सिंह (Yuvraj Singh) ने हाल ही में फिर से वापसी का इरादा जताया था. युवराज अपने राज्य पंजाब (Punjab Cricket Team) की टीम के लिए घरेलू टी20 टूर्नामेंट में हिस्सा लेना चाहते हैं और इसके लिए उन्होंने बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली (BCCI President Sourav Ganguly) को ईमेल के जरिए संन्यास से वापसी की इच्छा जाहिर की है.

युवराज ने हाल ही में एक क्रिकेट वेबसाइट से बात करते हुए अपनी योजना के बारे में बताया था. उन्होंने कहा था कि वह पंजाब के युवा खिलाड़ियों का मार्गदर्शन करना चाहते हैं और साथ ही पंजाब की टीम के लिए टी20 क्रिकेट खेलना चाहते हैं.

युवराज को मिले हैं रिटायर्ड खिलाड़ियों वाले लाभ

युवराज के संन्यास से वापसी पर बोर्ड की तरफ से अभी तक कोई फैसला नहीं हुआ है, लेकिन बीसीसीआई से जुड़े सूत्रों के मुताबिक कुछ नियम युवराज की वापसी की राह में बाधा बन सकते हैं. न्यूज एजेंसी ANI ने बोर्ड के अधिकारी के हवाले से बताया कि युवराज अब रिटायर खिलाड़ियों में शामिल हैं और उन्हें बोर्ड की तरफ से पूर्व खिलाड़ियों को दिए जाने वाली पेंशन भी मिल रही है.

BCCI अधिकारी के मुताबिक, “उन्हें न सिर्फ, रिटायरमेंट के बाद मिलने वाला ‘वन-टाइम बेनिफिट’ दिया जा चुका है, बल्कि लगभग 22,500 रुपये की पेंशन भी बोर्ड की ओर से मिलती है. 2019 में उनके संन्यास के वक्त से ही यह सब BCCI के खातों में भी दर्ज है. आखिरी फैसला बोर्ड को लेना है.”

वापसी के लिए विदेशी लीग छोड़ने को तैयार युवराज

पिछले साल 10 जून को क्रिकेट से संन्यास का एलान करने वाले युवराज इसके बाद 2 विदेशी लीगों में भी खेल चुके हैं. बीसीसीआई के नियमों के मुताबिक, किसी भी भारतीय खिलाड़ी को विदेशी लीग में खेलने की इजाजत तभी मिल सकती है, जब वह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट और IPL समेत भारतीय घरेलू क्रिकेट के हर स्तर से पूरी तरह संन्यास का एलान कर दे.

युवराज सिंह ने संन्यास से वापसी के बारे में बताते हुए कहा था कि अगर उन्हें पंजाब के लिए दोबारा खेलने की इजाजत मिलती है, तो इसके लिए वह विदेशी क्रिकेट लीगों में खेलने की अपनी योजना को छोड़ देंगे. हालांकि, बोर्ड की ओर से अभी तक युवराज को किसी तरह का जवाब नहीं मिला है.

Related Posts