युवराज सिंह ने किया रिटायरमेंट का ऐलान, कौन भूल पाएगा उनकी यह पारी?

युवी ने 304 ODI खेले हैं. कुल 278 पारियों में उन्‍होंने 36.55 के औसत से 8701 रन बनाए हैं.

नई दिल्‍ली: 2007 टी20 और 2011 विश्‍व कप के हीरो युवराज सिंह ने इंटरनेशनल क्रिकेट से रिटायर होने का फैसला किया है. 2017 में अपना आखिरी मैच खेलने वाले युवराज की पहचान एक स्‍टायलिश बल्‍लेबाज के रूप में होती रही है. 37 साल के युवराज ने एक प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में रिटायरमेंट का ऐलान किया. क्रिकेट के मैदान पर अपना सफर खत्‍म होने की बात करते-करते युवी भावुक हो गए.

युवी ने कहा, “22 गज (क्रिकेट पिच) में 25 साल और इंटरनेशनल क्रिकेट में लगभग 17 साल बिताने के बाद मैंने आगे बढ़ने का फैसला किया है. इस खेल ने मुझे सिखाया है कि कैसे लड़ते हैं, गिरते हैं, मिट्टी पोंछते हैं और फिर खड़े होकर आगे चल देते हैं.”

युवराज ने अपना अंतिम टेस्ट साल 2012 में खेला था. सीमित ओवरों के क्रिकेट में वह अंतिम बार 2017 में दिखे थे. युवराज ने साल 2000 में पहला वनडे, 2003 में पहला टेस्ट और 2007 में पहला टी-20 मैच खेला था.

कैसा रहा है युवराज का कॅरिअर?

युवराज ने 40 टेस्‍ट मैचों में 33.92 के औसत से 1900 रन बनाए हैं. इसमें 3 शतक और 11 अर्द्धशतक शामिल हैं. एकदिवसीय क्रिकेट में उन्‍हें बेहतरीन फील्‍डर के रूप में देखा जाता है. कैफ के साथ मिलकर उन्‍होंने 2000 के दशक में भारतीय फील्डिंग को जिस तरह बदला, उसकी चर्चा अक्‍सर होती है.

वनडे क्रिकेट में युवराज ने 304 मैच खेले हैं. इनमें 278 पारियों में बल्‍लेबाजी कर 36.55 के औसत से 8701 रन बनाए हैं. वर्ल्‍ड कप करिअर को देखें तो युवी ने 23 मैचों की 21 पारियों में 52.71 के बेहतरीन औसत से 738 रन बनाए हैं.

युवराज ने टेस्ट मैचों में 9, वनडे में 111 और टी-20 मैचो में 28 विकेट भी लिए हैं. युवराज ने 2008 के बाद कुल 231 टी-20 मैच खेले हैं और 4857 रन बनाए हैं. उन्होंने टी-20 मैचों में 80 विकेट भी लिए हैं.

2007 में जड़ दिए थे एक ओवर में 6 छक्‍के

2007 में टी-20 वर्ल्‍ड कप में युवी ने धमाकेदार प्रदर्शन किया था. इंग्‍लैंड के खिलाफ तो उन्‍होंने स्‍टुअर्ट ब्रॉड के एक ओवर में 6 छक्‍के लगातार नया इतिहास ही रच दिया था. सेमीफाइनल में ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ 30 गेंदों में 70 रनों की पारी को भला कौन भूल सकता है. युवी की शानदार बल्‍लेबाजी की बदौलत भारत पहला टी20 वर्ल्‍ड कप जीतने में कामयाब रहा.

2011 वर्ल्‍ड कप में ऑलराउंड प्रदर्शन

2011 वर्ल्‍ड कप आया तो युवराज बिल्‍कुल तैयार थे. टूर्नामेंट की 8 पारियों में उन्‍होंने 90.50 के औसत से 362 रन बनाए थे. यही नहीं, गेंदबाजी करते समय 9 मैचों में 15 विकेट्स झटके. ICC ने युवराज को साल 2011 के वर्ल्‍ड कप ‘मैन ऑफ द टूर्नामेंट’ चुना. इसी बीच पता लगा कि युवराज कैंसर से जूझ रहे हैं. वर्ल्‍ड कप खत्‍म हुआ तो युवी इलाज के लिए अमेरिका चले गए. कैंसर को मात दी और जबर्दस्‍त वापसी की.

ये भी पढ़ें

मैदान में खून की उल्टियां करते युवराज सिंह ने जिताया था 2011 वर्ल्‍ड कप

‘2011 विश्वकप फाइनल में 97 रन पर क्यों आउट हुआ था,’ गौतम गंभीर ने खोला राज