अरवल विधानसभा सीट : यहां देखें प्रत्याशी, वोटर्स, जातिगत आंकड़े और इस सीट का पूरा डेटा

LJP के दुलारचंद सिंह लगातार दो बार फरवरी 2005 और अक्टूबर 2005 में यहां जीते थे. RJD के अखिलेश प्रसाद यहां से 2000 में जीते थे. अब तक कुल चुनाव में यहां से 4 बार निर्दलीय, 2-2 बार RJD, LJP, भाकपा और कांग्रेस और 1-1 बार BJP, जनता दल, जनता पार्टी और सोशलिस्ट पार्टी यहां से जीत चुकी है.

अरवल विधानसभा क्षेत्र नक्सलवाद के लिए बदनाम रहा है. नक्सलवाद से जुड़ी कई हिंसक घटनाएं सामने आई हैं. अरवल से सटा जिला औरंगाबाद और जहानाबाद है जो नक्सलवाद का दंश झेल चुके हैं. अब स्थिति पहले से कुछ सुधरी है और घटनाओं में कमी आई है. यहां सबसे पहले सोशलिस्ट पार्टी ने जीत हासिल की थी. यहां किसी एक पार्टी का दबदबा नहीं रहा और विधानसभा चुनावों में जीत-हार का सिलसिला इसी हिसाब से बदलता रहा. 2015 के विधानसभा चुनाव में राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) ने रविंद्र सिंह को मैदान में उतारा था. इस चुनाव में बीजेपी प्रत्याशी चितरंजन कुमार को आरजेडी प्रत्याशी ने भारी मतों से शिकस्त दी थी. इस बार अरवल से बीजेपी ने दीपक शर्मा को प्रत्याशी बनाया है. जहानाबाद लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र में आने वाली अरवल विधानसभा सीट से आरजेडी प्रत्याशी रविंद्र सिंह हैं.

बिहार के अरवल जिले की अरवल विधानसभा सीट का राजनीतिक इतिहास भी बड़ा रोचक है. यहां आगामी विधानसभा चुनाव में 28 अक्टूबर को वोटिंग होगी. RJD के रविंद्र सिंह यहां से वर्तमान विधायक हैं. पिछले चुनाव में रविंद्र सिंह दूसरी बार जीते थे. 2015 में उन्होंने BJP के चितरंजन कुमार को 17,810 वोटों से हराया था. पहली बार रविंद्र सिंह यहां से 1995 में जनता दल के टिकट पर जीते थे. 2010 में चितरंजन कुमार यहां के विधायक बने थे. LJP के दुलारचंद सिंह लगातार दो बार फरवरी 2005 और अक्टूबर 2005 में यहां जीते थे.RJD के अखिलेश प्रसाद यहां से 2000 में जीते थे. अब तक कुल चुनाव में यहां से 4 बार निर्दलीय, 2-2 बार RJD, LJP, भाकपा और कांग्रेस और 1-1 बार BJP, जनता दल, जनता पार्टी और सोशलिस्ट पार्टी यहां से जीत चुकी है.

ये भी पढ़ें: Bihar Election 2020: दागी तो बहुत हैं, लेकिन नीतीश का करीबी वो नेता जिसे लोग ‘पढ़ा-लिखा’ कहते हैं

जातीय समीकरण
इस सीट पर मुख्य रूप से रविदास, यादव, कुर्मी और पासवान अहम भूमिका में रहते हैं. इस सीट पर 1990 विधानसभा चुनाव में सबसे अधिक 74.33 प्रतिशत वोटिंग हुई थी.
कुल वोटरः 2.53 लाख
पुरुष वोटरः 1.31 लाख (51.60%)
महिला वोटरः 1.27 लाख (47.71%)
ट्रांसजेंडर वोटरः 10 (0.003%)

 

Related Posts