Bihar election 2020: पिछले 5 साल में ‘गरीब’ हो गए जीतन राम मांझी, प्रॉपर्टी में 26 फीसद की गिरावट

Bihar election 2020 jeetan manjhi property: पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी 32.38 लाख रुपये की चल संपत्ति के मालिक हैं. चल संपत्तियों में नकद, बैंक बैलेंस, स्टॉक्स-बॉन्ड्स, जूलरी और गाड़ियां आदि आते हैं. चुनावी हलफनामे के मुताबिक, जीतन राम मांझी के पास अभी 88,500 रुपये नकदी है, जबकि पिछले चुनाव में उनके पास 85 हजार रुपये हैं.

जीतन राम मांझी

राजनीति और नेतागिरी पर अक्सर आरोप लगते रहे हैं कि यह पेशा कमाई का जरिया है. नोट से वोट और वोट से नोट बनाने के आरोप भी सर्वविदित हैं. लेकिन क्या वाकई ऐसा होता है? अगर ऐसा होता तो चुनावी हलफनामे में दर्ज आंकड़ों में कुछ नेताओं की प्रॉपर्टी कैसे कम होती. चुनावों के दौरान निर्वाचन आयोग को दिए जाने वाले हलफनामे में कुछ नेताओं की प्रॉपर्टी पिछले 5 साल में घटती दिखाई जाती है. इस बार एक ऐसा ही नाम है जीतन राम मांझी का. जीतन राम मांझी बिहार के मुख्यमंत्री रह चुके हैं और हिंदुस्तान आवाम मोर्चा (हम) के अध्यक्ष हैं. इस बार उनकी प्रॉपर्टी में 26 फीसद का गिरावट दर्ज की गई है.

जीतन राम मांझी की पार्टी हम इस बार जनता दल यूनाइटेड के साथ चुनाव लड़ रही है. हम को जेडीयू ने 7 सीटें दी हैं जिन पर उम्मीदवारों का ऐलान हो गया है. इन 7 सीटों में एक पर वे खुद और दो सीटों पर उनके रिश्तेदार (दामाद और समधिन) चुनाव लड़ रहे हैं. नामांकन दाखिल करते वक्त जीतन राम मांझी ने जो हलफनामा दिया है, उसके मुताबिक इस बार उनके पास 44.38 लाख की प्रॉपर्टी है, जबकि पिछले चुनाव में वे 60 लाख रुपये के मालिक थे. इस लिहाज से पिछले 5 साल में उनकी प्रॉपर्टी में तकरीबन 15 लाख या 26 फीसद की गिरावट आई है. बता दें, अभी हाल में आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने अपने हलफनामे में बताया था कि वे 6 करोड़ रुपये के मालिक हैं और पिछले चुनाव से इस बार उनकी प्रॉपर्टी में 153 फीसद का इजाफा हुआ है. कुछ ऐसी ही बात तेजस्वी यादव के बड़े भाई तेजप्रताप यादव के साथ है जो 2.83 करोड़ रुपये की संपत्ति के मालिक हैं.

मांझी के पास 32.38 लाख की चल संपत्ति
पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी 32.38 लाख रुपये की चल संपत्ति के मालिक हैं. चल संपत्तियों में नकद, बैंक बैलेंस, स्टॉक्स-बॉन्ड्स, जूलरी और गाड़ियां आदि आते हैं. चुनावी हलफनामे के मुताबिक, जीतन राम मांझी के पास अभी 88,500 रुपये नकदी है, जबकि पिछले चुनाव में उनके पास 85 हजार रुपये हैं. पिछले 5 साल में नकदी के तौर पर उनके पास महज साढ़े तीन हजार रुपये बढ़े हैं. मांझी का बैंक बैलेंस देखें तो फिलहाल यह 18.34 लाख रुपये है, जबकि पिछले चुनाव में साढ़े 32 लाख रुपये बैंक बैलेंस था. यानी कि पिछले 5 साल में जीतन राम मांझी ने बैंक से लगभग 14 लाख रुपये निकाल लिए हैं. उनकी प्रॉपर्टी में आई गिरावट की बड़ी वजह इसे माना जा रहा है.

ये भी पढ़ें: Bihar election 2020: तेजप्रताप बनाम तेजस्वी! जानें कौन कितना है धनवान और दोनों के पास कितनी है प्रॉपर्टी

नेता अक्सर अपनी प्रॉपर्टी स्टॉक्स या बॉन्ड्स में खपाते हैं लेकिन जीतन राम मांझी इस श्रेणी में नहीं आते और स्टॉक्स-बॉन्ड्स में उन्होंने एक रुपये का भी निवेश नहीं किया है. अन्य निवेश भी उनके जीरो हैं. हालांकि जूलरी में जीतन राम मांझी ने पिछली बार की तुलना में इस बार कुछ पैसा लगाया है. ‘इंडियन एक्सप्रेस’ की एक रिपोर्ट के मुताबिक, मांझी के पास अभी 4.6 लाख की जूलरी है, जबकि पिछले चुनाव में यह आंकड़ा साढ़े तीन लाख का था. हम अध्यक्ष जीतन राम मांझी के पास 6.5 लाख रुपये का वाहन है, जबकि पिछले चुनाव में उनके पास 7.2 लाख रुपये के वाहन थे. अन्य कैटगरी में जीतन राम मांझी के पास 1.95 लाख रुपये की प्रॉपर्टी है, जबकि पिछले चुनाव में इस श्रेणी में उनके पास 3 लाख की प्रॉपर्टी थी.

भूमिहीन हैं जीतन राम मांझी
इमामगंज से विधायक जीतन राम मांझी 12 लाख रुपये की अचल संपत्ति के मालिक हैं. दिलचस्प बात ये है कि वे बिल्कुल भूमिहीन हैं और उनके पास न तो कृषि भूमि है और ही वे गैर-कृषि जमीन के मालिक हैं. हलफनामे में दी गई जानकारी के मुताबिक, जीतन राम मांझी खेती की जमीन, गैर-खेती की जमीन या कॉमर्शियल जमीन के मामले में बिल्कुल शून्य हैं. इन तीनों कैटगरी में उनके पास कोई प्रॉपर्टी नहीं है. उनके पास सिर्फ एक घर है जिसकी कीमत 12 लाख रुपये हैं. जमीन के मामले में तेजस्वी यादव जीतन राम मांझी से काफी आगे हैं. तेजस्वी के पास 35.7 लाख की कृषि भूमि, 35 लाख की गैर-कृषि जमीन और 30 लाख की कॉमर्शियल प्रॉपर्टी है. जमीन के मामले में हम पार्टी के अध्यक्ष जीतन राम मांझी आरजेडी नेता तेजस्वी यादव से काफी पीछे हैं. जीतन राम मांझी पर 21,317 रुपये की देनदारी है. उनके खिलाफ 6 आपराधिक मामले दर्ज हैं जिनमें 3 केस आचार संहिता उल्लंघन के मामले में लिखे गए हैं.

 

Related Posts