Bihar Election 2020: योगी सबसे बड़े स्टार प्रचारक, बीजेपी प्रत्याशियों की मांग – यूपी सीएम करें हमारा प्रचार

उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Elections 2020) में पीएम नरेंद्र मोदी के बाद सबसे बड़े स्टार प्रचारक होंगे.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 6:55 am, Thu, 15 October 20
Yogi Adityanath
उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ (फाइल फोटो)

उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Elections 2020) में पीएम नरेंद्र मोदी के बाद सबसे बड़े स्टार प्रचारक होंगे. उनकी लोकप्रियता को देखते हुए बड़ी संख्या में प्रत्याशी चाहते हैं की योगी उनके विधानसभा में चुनाव प्रचार करें. कोरोना काल में अप्रवासी मजदूरों की सफल वापसी में योगी सरकार के काम को बीजेपी तो भुनाएगी ही, लेकिन पार्टी इसी बहाने हिंदुत्व कार्ड भी खेलना चाहती है. इसी हिंदुत्व कार्ड ने पहले भी जातीय समीकरण को ध्वस्त किया है और मंच पर योगी होंगे तो राम मंदिर की चर्चा तो होगी ही.

बिहार विधानसभा (Bihar Assembly Elections 2020) के चुनाव में यूपी के सीएम योगी आदित्‍यनाथ (Yogi Adityanath) सबसे बड़े स्टार प्रचारक होंगे और चुनाव प्रचार करने वाले बीजेपी शासित राज्यों के इकलौते मुख्यमंत्री भी. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बाद सीएम योगी की सबसे ज्यादा सभाएं होंगी. बिहार में योगी की लोकप्रियता के जबरदस्त ग्राफ को देखते हुए बीजेपी नेतृत्व ने चुनाव प्रचार का कार्यक्रम तय कर दिया है.

पढ़ें – Bihar Election 2020: जेपी नड्डा की रैली में कोरोना गाइडलाइंस का उल्लंघन, BJP नेता पर केस दर्ज

योगी आदित्यनाथ की राजधानी पटना, गया, नालंदा, सिवान, हाजीपुर, भागलपुर, बक्‍सर, भोजपुर, मुजफ्फरपुर, गोपालगंज, दरभंगा समेत उत्तरी बिहार, मिथिलांचल और मध्य बिहार में खास तौर से सबसे ज्यादा चुनावी सभाएं कराने की योजना है.

योगी करेंगे कई डिजिटल रैली

यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ डिजिटल माध्यम से भी कई क्षेत्रों में प्रचार करेंगे, जिसको गांव, गली-नुक्कड के जरिये भी वोटरों के बीच पहुंचाया जाएगा. सीएम योगी की बेदाग छवि और आक्रामक कार्यशैली को देखते हुए बिहार में बीजेपी के ज्यादातर उम्मीदवार चाहते हैं कि वो उनका प्रचार करें. इसके अलावा गोरक्षपीठ का भी बिहार के कई क्षेत्रों में अच्छा प्रभाव है. इसमें खासतौर पर प्रदेश के सीमावर्ती जिले, उत्तरी बिहार, पूर्वी बिहार और मिथिलांचल का क्षेत्र शामिल हैं. जहां गोरक्षपीठ के अनुनायी लाखों की तादाद में हैं.

प्रवासी मजदूरों की वापसी भी बनेगा मुद्दा

प्रवासी मजदूरों की सफल वापसी को बीजेपी जरूर भुनाना चाहेगी. क्योंकि कोरोना काल में प्रवासी मजदूरों की घर वापसी एक बड़ा मुद्दा थी. इसमें योगी आदित्यनाथ सरकार के काम को यूपी के साथ बिहार में भी सराहा गया था. बिहार के बड़ी संख्या में मजदूरों को बिहार बॉर्डर तक पहुंचाने का काम योगी सरकार ने किया था. इस वजह से वहां लौटे प्रवासी मजदूरों और युवाओं के बीच योगी का जबरदस्त क्रेज है. महाराष्ट्र, गुजरात और तमिलनाडु में फंसे बिहार के तमाम मजदूरों ने योगी सरकार का उदाहरण देते हुए नीतीश सरकार से बिहार वापसी की मांग की थी.

पिछले लोकसभा चुनाव में भी योगी स्टार प्रचारक थे. अमित शाह के बाद सबसे ज़्यादा रैलियां उन्होंने ही की थीं. कई राज्यों के विधानसभा चुनाव में वो स्टार प्रचारक रहे हैं. चाहे वो पूर्वोत्तर के राज्य हों या दक्षिण भारत के. यह देखा गया है कि लोग उनको सुनना चाहते हैं और इसका फायदा भी बीजेपी को हुआ.