Bihar election 2020: मुद्दे खत्म हो गए तो मुंबई से भेज देंगे पार्सल- संजय राउत

संजय राउत (Sanjay Raut) ने कहा, "बिहार (Bihar) में चुनाव विकास, कानून और व्यवस्था, और सुशासन के मुद्दों पर लड़ा जाना चाहिए. अगर ये मुद्दे समाप्त हो गए हैं, तो मुंबई से मुद्दों को पार्सल के रूप में भेजा जा सकता है."

Sanjay Raut on Goa

शिव सेना (Shiv Sena) नेता और राज्य सभा सांसद संजय राउत (Sanjay Raut) ने बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) को लेकर चुटकी ली है. उन्होंने शनिवार को कहा कि बिहार विधान सभा चुनाव सुशासन, विकास और राज्य में कानून-व्यवस्था की मौजूदा स्थिति पर ही लड़ा जाना चाहिए. राउत ने तंज कसते हुए कहा कि अगर ऐसे मुद्दों की कमी हो जाए तो हम मुंबई से पार्सल कर भेज देंगे.

संजय राउत ने समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत में कहा, “बिहार में चुनाव विकास, कानून और व्यवस्था, और सुशासन के मुद्दों पर लड़ा जाना चाहिए. अगर ये मुद्दे समाप्त हो गए हैं, तो मुंबई से मुद्दों को पार्सल के रूप में भेजा जा सकता है.”

‘सुशांत-ड्रग मुद्दे का चुनाव में राजनीतिकरण’

इससे पहले शिवसेना के सांसद ने शुक्रवार दोपहर को घोषणा की कि सुशांत सिंह राजपूत की मौत और ड्रग मामलों की जांच के नतीजों का बिहार चुनाव के दौरान ‘राजनीतिकरण’ होगा. राउत ने कहा, “यह एक लंबा सुनियोजित नाटक था. बिहार सरकार के पास बोलने के लिए कोई विकासात्मक या शासन संबंधी मुद्दे नहीं हैं. उन्होंने सुशांत के पोस्टर के साथ प्रचार करना शुरू कर दिया है. इसलिए यह स्पष्ट है कि सुशांत मामले और ड्रग्स मामलों को इतनी तूल क्यों दी जा रही है.”

Bihar election 2020 : शिवसेना के मैदान में उतरने को लेकर उद्धव करेंगे ऐलान- राउत

उन्होंने यह जानने की मांग की कि नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो द्वारा नियंत्रित ड्रग्स मामले के साथ, “सुशांत मामले में सीबीआई जांच का क्या हुआ”, अब बिहार के पूर्व डीपीजी गुप्तेश्वर पांडेय ने राज्य चुनाव लड़ने के लिए आईपीएस पद से इस्तीफा दे दिया है.

‘महामारी में क्यों कराया जा रहा चुनाव?’

वहीं, फिल्म उद्योग से विभिन्न हस्तियों से पूछताछ के एक सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि एनसीबी की भूमिका विभिन्न देशों के नशीले पदार्थों की सीमा पार से भारत में तस्करी को रोकने की है, चाहे वह हवाई मार्ग से हो, समुद्री मार्ग से हो या सतह मार्गों से हो. उन्होंने कहा, “लेकिन यहां वे व्यक्तियों से पूछताछ कर रहे हैं… किसी को भी बुलाने का उनका विशेषाधिकार है.”

उन्होंने आगे कहा, “कोविड महामारी की स्थिति ने पूरे देश में एक असाधारण स्थिति पैदा कर दी है. क्या बिहार चुनाव कराने का यह सही समय है? क्या महामारी खत्म हो गई है?”

Bihar election 2020: ‘नए दलों’ की भरमार, खाता खोलने के लिए ठोकेंगे ताल

(IANS इनपुट के साथ)

Related Posts