बिहार विधानसभा चुनाव: 115 सीट पर लड़ना चाहती है JDU, बीजेपी और LJP 128 सीटों पर बनाएं आपसी सहमति

जनता दल यूनाइटेड (JDU) राज्य की 243 सीटों में से 115 पर चुनाव लड़ना चाहती और बाकी बची 128 सीटें बीजेपी के लिए छोड़ना चाहती है. JDU यह भी चाहती है कि बीजेपी अपने कोटे में से ही लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) को सीट दे.

बिहार में आगामी विधानसभा चुनाव की तारीखों का अभी ऐलान भले ही न हुआ हो, लेकिन पार्टियां चुनावी मोड आ चुकी हैं. गठबंधन वाले संगठनों और पार्टियों के बीच सीट बंटवारे पर भी मंथन शुरू हो गया है. इसी कड़ी में खबर सामने आई है कि जनता दल यूनाइटेड (JDU) राज्य की 243 सीटों में से 115 पर चुनाव लड़ना चाहती और बाकी बची 128 सीटें बीजेपी के लिए छोड़ना चाहती है.

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, इस अनुमानित सीट समीकरण में JDU यह भी चाहती है कि बीजेपी अपने कोटे में से ही लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) को सीट दे. मालूम हो कि सीट बंटवारे पर एलजेपी के नाराज होने के बाद से बीजेपी और जेडीयू सोच समझकर कदम रख रही हैं.

जेडीयू के सूत्रों ने अखबार को बताया कि पार्टी 115 सीटों पर चुनाव लड़ने का दावा कर रही है. उन्होंने कहा, “2010 में बस JDU और BJP ही थीं. इसलिए तब हमारे पास सीट-बंटवारे को लेकर कोई खींचतान नहीं थी. हम 2015 के विधानसभा चुनावों में ग्रैंड अलायंस का हिस्सा थे और 101 सीटों पर चुनाव लड़े थे. अब जब हम फिर से एनडीए का हिस्सा हैं और वरिष्ठ साथी हैं, तो हम 115 सीटों के लिए दबाव डाल रहे हैं. बीजेपी एलजेपी को अपने कोटे में शामिल कर ले और हम अपने हिस्से से जीतन राम मांझी के हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (सेकुलर) का ख्याल रखेंगे.”

2010 में सीटों का समीकरण

बता दें कि वर्तमान में जेडीयू के पास 71 विधायक हैं और बीजेपी के पास 53 विधायक हैं. वहीं 2010 के विधानसभा चुनाव में नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू 141 सीटों पर चुनाव लड़ी थी, जबकि बीजेपी ने 102 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे थे.

“अब अहसान चुकाने की जेडीयू की बारी”

वहीं बीजेपी के एक नेता ने कहा, “बीजेपी और जेडीयू के शीर्ष नेताओं के बीच दिल्ली में सीट बंटवारे पर चर्च चल रही है. सीटों की संख्या के बारे में अभी कुछ भी कहना मुश्किल है. हमें एक बराबरी पर चुनाव लड़ना चाहिए, जैसा कि हमने पिछले लोकसभा चुनावों में भी किया था. हमारी पार्टी ने लोकसभा चुनाव के दौरान पांच मौजूदा सांसदों को टिकट देने से इनकार कर दिया था और जेडीयू को बराबरी का हक यानी 17 सीटें दी थी. अब इस अहसान का बदला चुकाने की जेडीयू की बारी है.”

उन्होंने आगे कहा कि बीजेपी का केंद्रीय नेतृत्व सीट बंटवारे के मुद्दों को हल करने के लिए LJP के संपर्क में भी है.

“अक्टूबर में हो सकती है सीट बंटवारे की घोषणा”

बीजेपी और जेडीयू के बीच कुछ सीटों पर चल रहे विवाद पर नेता ने कहा ने कहा कि हम उनकी मौजूदा सीटों में से कुछ चाहते हैं और जेडीयू हमारी कुछ सीटें चाहती है. RJD कितनी सीटों पर चुनाव लड़ेगी यह भी निर्भर करता है. सीट बंटवारे की घोषणा कुछ समय बाद अक्टूबर में की जा सकती है.

Related Posts