बिहार चुनाव: जेपी नड्डा से मिले चिराग, कहा- नीतीश से जनता नाखुश, बड़े भाई की भूमिका निभाए भाजपा

जेपी नड्डा (JP Nadda) के साथ हुई चिराग पासवान की मीटिंग को लेकर एक वरिष्ठ नेता ने बताया, "उन्होंने बीजेपी अध्यक्ष को राज्य के जमीनी हालात के बारे में बताया. मुख्यमंत्री के खिलाफ बनी एंटी-इंकम्बेंसी की जानकारी दी और कहा कि मौजूदा हालात में जदयू को सीटों के साथ समझौता करना पड़ेगा."
Bihar Assembly Election, बिहार चुनाव: जेपी नड्डा से मिले चिराग, कहा- नीतीश से जनता नाखुश, बड़े भाई की भूमिका निभाए भाजपा

लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) और जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के बीच तल्खी लगातार बनी हुई है. साथ ही इसे लेकर भी अनिश्चितता की स्थिति है कि क्या लोजपा और जदयू दोनों ही आगामी बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) एनडीए गठबंधन का हिस्सा होंगी या नहीं. इन सबके बीच लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान (Chirag Paswan) ने बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा (JP Nadda) से मुलाकात की है.

पासवान ने इसे लेकर बुधवार को लोजपा के वर्तमान और पूर्व सासंदों की मीटिंग में पार्टी नेताओं से बातचीत की. रिपोर्ट के मुताबिक, उन्होंने मांग रखी कि बिहार चुनावों में जदयू से अधिक सीटों पर बीजेपी अपने उम्मीदवार खड़े करे.

पीएम मोदी को चिराग ने लिखा पत्र

पासवान ने इसे लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी एक पत्र लिखा है. पत्र में उन्होंने राज्य के राजनीतिक हालात के बारे में जानकारी दी है. सूत्रों के मुताबिक, लोजपा अध्यक्ष ने पत्र में नीतीश कुमार की जदयू सरकार को लेकर एंटी-इंकम्बेंसी के बारे में भी लिखा है.

‘नीतीश के खिलाफ एंटी-इंकम्बेंसी’

रिपोर्ट के मुताबिक, नड्डा के साथ हुई पासवान की मीटिंग को लेकर एक वरिष्ठ नेता ने बताया, “उन्होंने बीजेपी अध्यक्ष को राज्य के जमीनी हालात के बारे में बताया. उन्होंने मुख्यमंत्री के खिलाफ बनी एंटी-इंकम्बेंसी की जानकारी दी और कहा कि मौजूदा हालात में जदयू को सीटों के साथ समझौता करना पड़ेगा.”

लोजपा की बैठक में क्या हुआ

बुधवार को हुई लोजपा नेताओं की बैठक में सीएम नीतीश के शासन की जमकर आलोचना की गई. साथ ही राज्य के लिए कई विकास परियोजनाएं पेश करने को लेकर पीएम मोदी की सराहना हुई. सूत्रों की मानें तो कुछ नेताओं ने तो यहां तक कहा कि पार्टी को आगामी चुनाव में जदयू के खिलाफ चुनाव लड़ना चाहिए.

सीट बंटवारे को लेकर खींचतान जारी

बता दें कि जदयू और बीजेपी ने 2019 का लोकसभा चुनाव 17-17 सीटों पर लड़ा था जबकि शेष छह सीटें लोजपा के लिए छोड़ी थी. वहीं, जदयू का कहना है कि उसे विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए बीजेपी से अधिक सीटें मिलनी चाहिए क्योंकि भगवा पार्टी की तुलना में उसके अधिक विधायक हैं.

Related Posts