बिहार विधानसभा चुनाव में एनडीए को फायदा, सीएम के रूप में भी नीतीश कुमार ही पसंद: ओपिनियन पोल

वीएमआर सर्वे (VMR Bihar Opinion Poll) में एक से 10 सितंबर तक का डेटा लिया गया है. इसके लिए 16000 लोगों से बात की गई. इसमें राज्य के अलग-अलग हिस्से के लोग शामिल थे. इसमें एनडीए को फायदा होता दिखाया गया है.

Bihar Legislative Election 2020, बिहार विधानसभा चुनाव में एनडीए को फायदा, सीएम के रूप में भी नीतीश कुमार ही पसंद: ओपिनियन पोल

बिहार में इस साल के आखिर में विधानसभा चुनाव होने हैं. चुनाव से पहले एक सर्वे सामने आया है, जिसमें वहां के राजनीतिक हालात को कुछ हद तक साफ कर दिया है. इसके मुताबिक, चुनावी नतीजों में एनडीए गठबंधन ही सबसे आगे रह सकता है. ऐसा हुआ तो फिर नीतीश कुमार सीएम बन सकते हैं. ऐसा इसलिए क्योंकि सर्वे में अभी भी सीएम के रूप में नीतीश कुमार को देखने की इच्छा रखनेवाले ज्यादा हैं. बिहार विधानसभा चुनाव पर यह ओपिनियन पोल वीएमआर (VMR Bihar Opinion Poll) ने किया है.

वीएमआर सर्वे (VMR Bihar Opinion Poll) में एक से 10 सितंबर तक का डेटा लिया गया है. इसके लिए 16000 लोगों से बात की गई. इसमें राज्य के अलग-अलग हिस्से के लोग शामिल थे.

वीएमआर सर्वे की खास बातें

बिहार विधानसभा चुनाव पर हुए इस ओपिनियन पोल के मुताबिक, एनडीए चुनाव में पहले नंबर पर रहेगी. वहीं आरजेडी वाले गठबंधन का प्रदर्शन लोकसभा चुनाव जैसा बुरा नहीं रहेगा, बल्कि उसमें सुधार की गुंजाइश है. सर्वे के मुताबिक, बिहार में अगर लोकसभा के नतीजों का असर रहा तो एनडीए 243 में से 223 विधानसभा सीट जीत सकती है.

पढ़ें – बिहार चुनाव: जेपी नड्डा से मिले चिराग, कहा- नीतीश से जनता नाखुश, बड़े भाई की भूमिका निभाए भाजपा

नीतीश कुमार के काम से कितने लोग संतुष्ट

सर्वे में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के काम पर जनता कितनी संतुष्ट है इसपर भी सवाल किया गया. इसमें 61 प्रतिशत लोगों ने पूरे तरीके या फिर कुछ मुद्दों पर खुद को नीतीश कुमार की सरकार से संतुष्ट बताया. वहीं 36 प्रतिशत लोगों ने कहा कि उन्हें सरकार का कामकाज पसंद नहीं आया. इसमें 3 प्रतिशत लोगों ने कहा कि कुछ कह नहीं सकते.

सीएम के चेहरे के रूप में कौन पहली पसंद

बिहार के लोगों की सीएम के रूप में पहली पसंद नीतीश कुमार ही बने हुए हैं. कुल लोगों में से 39 प्रतिशत ने नीतीश कुमार के नाम पर हामी भरी. वहीं 21 प्रतिशत लोग तेजस्वी यादव को बिहार का सीएम बनता देखना चाहते हैं. यहां चिराग पासवान (8 प्रतिशत), सुशील मोदी (5 प्रतिशत), पप्पू यादव (2 प्रतिशत), जीतन राम मांझी (3 प्रतिशत), उपेन्द्र कुशवाह (1 प्रतिशत) बहुत पीछे हैं.

सड़क और यातायात सबसे बड़ा मुद्दा

सर्वे के मुताबिक, सड़क और यातायात के साधनों की कमी बिहार में अब भी सबसे बड़ा चुनावी मुद्दा है. 26 प्रतिशत लोग इसे गंभीर समस्या मानते हैं. वहीं 17 प्रतिशत लोग बेरोजगारी, 12 प्रतिशत लोग पीने के पानी, 9 प्रतिशत लोग सीवर, 8 प्रतिशत बिजली, 4 प्रतिशत बाढ़/सूखे, 3-3 प्रतिशत लोग स्कूल/कॉलेज, भ्रष्टाचार, स्वास्थ्य सेवा, कानून व्यवस्था को मुद्दा मानते हैं.

Related Posts