बिहार बंद : पटना की सड़कों पर भिड़े JAP-BJP के कार्यकर्ता, जमकर चले लाठी-डंडे

बिहार बंद (Bihar Band) के दौरान पटना में JAP और BJP कार्यकर्ताओं के बीच विवाद हो गया. BJP मुख्यालय के सामने दोनों पक्षों के बीच मारपीट भी हुई.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 7:37 pm, Fri, 25 September 20
Photo Credit : ANI (Twitter)

बिहार में विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election 2020) की तारीखों का ऐलान होते ही माहौल गर्म हो गया है. शुक्रवार को पटना की सड़कों पर दो राजनीतिक दलों के कार्यकर्ता आपस में भिड़ गए. भारतीय जनता पार्टी (BJP) और जन अधिकार पार्टी (JAP) के कार्यकर्ताओं के बीच जमकर लाठी-डंडे चले और बीजेपी कार्यालय के सामने की सड़क पर जमकर बवाल हुआ.

न्यूज एजेंसी आईएएनएस की खबर के मुताबिक बीजेपी नेताओं का आरोप है कि पप्पू यादव की पार्टी JAP के कार्यकर्ता कृषि सुधार से जुड़े विधेयकों का विरोध करते हुए सड़कों पर उतरे थे. इस दौरान वो बीजेपी कार्यालय में दाखिल होने की कोशिश करने लगे, जिसका बीजेपी कार्यकर्ताओं ने विरोध किया. दोनों पक्षों के बीच विवाद शुरू हुआ जो धीरे-धीरे मारपीट में बदल गया.

यह भी पढ़ें : भारत बंद LIVE: डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला बोले- किसानों के साथ अन्याय नहीं होने देंगे

दूसरी ओर आरोप है कि बीजेपी कार्यकर्ताओं ने जन अधिकार पार्टी के कार्यकर्ताओं की लाठी डंडों से पिटाई शुरू कर दी. इस दौरान सड़क रणक्षेत्र में बदल गई. दोनों पक्षों के बीच किसी तरह मामले को शांत करवाया गया.

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल ने कहा कि किसानों का शोषण कर अपनी राजनीति चमकाने वाले दल और उनके समर्थकों ने प्रदेश बीजेपी मुख्यालय पर हमला कर कायरता का परिचय दिया है. उन्होंने कहा कि बिचौलियों की इस करतूत की जितनी निंदा की जाए वो कम होगी. इसका जवाब अगले महीने होने वाले विधानसभा चुनावों में राज्य के किसान देंगे.

दूसरी ओर JAP के प्रमुख पप्पू यादव ने बीजेपी कार्यकर्ताओं पर गुंडागर्दी करने का आरोप लगाया है. उन्होंने कहा कि बिहार बंद के दौरान बीजेपी कार्यकर्ताओं की गुंडागर्दी दिखाई दी. शांतिपूर्वक प्रदर्शन कर रहे JAP के कार्यकर्ताओं पर बीजेपी के कार्यकर्ताओं ने हमला किया, जिसमें पार्टी के कुछ सदस्य चोटिल हो गए.

पप्पू यादव ने कहा कि पूंजीपतियों की समर्थक बीजेपी, किसानों की आवाज को दबाना चाहती है और पूंजीपतियों को फायदा पहुंचाना चाहती है. बता दें कि 25 सितंबर को कई किसान संगठनों ने कृषि विधेयकों के खिलाफ ‘भारत बंद’ का आह्वान किया था. बिहार समेत कई राज्यों में विपक्ष ने इस बंद का समर्थन किया.