बिहार चुनाव 2020: राजद से खुश नहीं सीपीआई-एमएल, सीट शेयरिंग का नहीं रास आया फॉर्मूला

आरजेडी (RJD) के सिर्फ सात से आठ सीटों की पेशकश के बाद सीपीआई-एमएल 53 से ज़्यादा सीटों पर अकेले चुनाव लड़ने का मन बना चुका है.

बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election 2020) में राजद के नेतृत्व वाले महागठबंधन के साथ वाम दलों के प्रस्तावित गठबंधन से अलग राज्य का प्रमुख वाम दल सीपीआई-एमएल (लिबरेशन) अब अकेले चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहा है. सूत्रों ने कहा कि आरजेडी (RJD) के सिर्फ सात से आठ सीटों की पेशकश के बाद सीपीआई-एमएल इस फैसले पर अमल करने का मन बना चुका है. पार्टी ने राजद से 53 सीटों की मांग की थी. फिलहाल सीपीआई-एमएल के पास वर्तमान में तीन विधायक हैं, 2015 के विधानसभा चुनावों में पार्टी के पास 1.5 फीसदी वोट था.

पार्टी के महासचिव दीपांकर भट्टाचार्च ने शनिवार को कहा कि हमें दी जाने वाली सीटों की संख्या बेहद कम है, ये स्वीकार्य नहीं है. हमने राजद से इसके प्रस्ताव पर पुनर्विचार करने के लिए कहा है, लेकिन अब हम 53 से से ज़्यादा सीटों पर अलग लड़ने के लिए तैयार हैं. अगर राजद कोई सकारात्मक प्रतिक्रिया देता है है तो हम सोचेंगे, गेंद राजद के पाले में है.

2015 के आधार पर नहीं हो सकता सीटों पर फैसला

उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी ने भाजपा-जद (यू) गठबंधन को हराने के लिए राजद के साथ व्यापक वाम एकता के लिए बातचीत शुरू की है. हालांकि कहा जा रहा है कि बातचीत का एक कारण यह है कि आरजेडी ने आरा और फुलवारी जैसी सीटों पर एमएल के दावे को खारिज कर दिया, यहां 2015 में पार्टी ने जीत दर्ज की थी. 2015 के चुनावों में राजद जेडीयू के साथ गठबंधन में थी, जबकि 2020 में ये अपने अन्य सहयोगियों के साथ चुनाव मैदान में है. दीपांकर भट्टाचार्य ने कहा कि सीटों पर फैसला 2015 के आधार पर नहीं किया जा सकता.

सीपीआई-एमएल का ये है दावा

भट्टाचार्य ने दावा किया कि 2019 के संसदीय चुनावों में, एमएल ने राजद उम्मीदवार सहित गठबंधन के उम्मीदवारों को चार स्थानों पर समर्थन दिया था, जहां 4 लाख से अधिक वोट समर्थन में पड़े. वहीं अन्य सीटों पर गठबंधन ने ख़राब प्रदर्शन किया. बिहार में सीपीआई और सीपीआई-एम अन्य दो मुख्य वामपंथी दल अभी भी राजद के नेतृत्व वाले गठबंधन के साथ गठजोड़ की उम्मीद कर रहे हैं, लेकिन यह माना जा रहा है कि बातचीत बहुत लंबी खिंच सकती है. दोनों पार्टी मिलकर 50 सीटों पर दावा कर रही हैं.

सीपीआई के राज्य सचिव राम नरेश पांडे ने कहा हमने 1995 में राजद के साथ गठबंधन में 52 में से 26 सीटें जीतीं. हमने अपनी सीटों की सूची राजद को दे दी है. आरजेडी के साथ हमारी बातचीत सकारात्मक है. सीपीएम के राज्य सचिव अवधेश कुमार ने कहा कि उनकी पार्टी आने वाले दिनों में राजद के साथ आगे की बातचीत करने के बाद निर्णय लेगी

Related Posts