बिहार: महागठबंधन को बढ़ाने में जुटी RJD, जो ना उठाए तेजस्वी यादव पर उंगली, वही दल होंगे शामिल

RJD ऐसे दलों को ही महागठबंधन (Grand Alliance) में शामिल करना चाहती है जो RJD अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव के उत्तराधिकारी उनके छोटे बेटे तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) की मुख्यमंत्री उम्मीदवारी को लेकर उंगली ना उठा पाए.
rjd grand alliance bihar elections 2020, बिहार: महागठबंधन को बढ़ाने में जुटी RJD, जो ना उठाए तेजस्वी यादव पर उंगली, वही दल होंगे शामिल

बिहार में अक्टूबर-नवंबर में संभावित विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Elections) को लेकर सभी राजनीतिक दलों की सक्रियता बढ़ गई है. इधर, राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के नेतृत्व वाले विपक्षी दलों के महागठबंधन में अभी तक सीट बंटवारे को लेकर सहमति नहीं बनी है, लेकिन महागठबंधन के ‘थिंकटैंक’ गठबंधन के आकार को बढ़ाने में जुटे हुए हैं.

कहा जा रहा है कि इस साल होने वाले विधानसभा चुनाव में वामपंथी दल तो महागठबंधन के घटक दलों में शामिल होंगे ही, झारखंड की सत्तारूढ़ पार्टी झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) भी महागठबंधन में शामिल होकर चुनाव मैदान में उतरने वाली है, जिसके संकेत झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (Hemant Soren) खुद दे चुके हैं. दो दिन पहले झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन रांची में RJD (राजद) अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) से मिलने के बाद कह चुके हैं कि JMM बिहार में RJD के साथ मिलकर चुनाव मैदान में उतरेगी.

जिताऊ उम्मीदवारों को ही उतारना चाहती है मैदान में

बता दें कि झारखंड में JMM, कांग्रेस और RJD की सरकार है. सूत्र बताते हैं कि कई छोटे दलों को बड़े दलों में मर्ज करने के लिए भी दबाव बनाया जा रहा है. सूत्रों का कहना है कि RJD राज्य की सभी 243 सीटों पर घटक दलों के प्रभाव और क्षेत्रों में उम्मीदवारों की लोकप्रियता का भी आकलन कर रही है.

कहा जा रहा है कि RJD इस चुनाव को प्रतिष्ठा से जोड़कर देख रही है, यही वजह है कि RJD महागठबंधन में शामिल सभी घटक दलों से इच्छुक सीटों की लिस्ट भी मांग रही है. RJD नेतृत्व, घटक दलों को स्पष्ट संकेत भी भेज चुका है कि इस चुनाव में जिताऊ उम्मीदवारों को ही चुनाव मैदान में उतारा जाए.

महागठबंधन में कैसे दलों को करना चाहती है शामिल

RJD के प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी (Mrityunjay Tiwari) भी कहते हैं कि महागठबंधन का आकार अभी और बढ़ेगा. उन्होंने कहा कि कई दलों से अभी बात हो रही है. इधर, सूत्र कहते हैं कि RJD ऐसे दलों को ही महागठबंधन में शामिल करना चाहती है जो RJD अध्यक्ष लालू प्रसाद के उत्तराधिकारी उनके छोटे बेटे तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) की मुख्यमंत्री उम्मीदवारी को लेकर उंगली ना उठा पाए.

तेजस्वी यादव ही होंगे मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार

RJD प्रवक्ता तिवारी साफ कहते हैं कि RJD महागठबंधन में सबसे बड़ा दल है. RJD पहले ही घोषणा कर चुकी है कि पार्टी तेजस्वी यादव के नेतृत्व में चुनाव मैदान में उतरेगी और तेजस्वी ही मुख्यमंत्री के उम्मीदवार होंगे. मालूम हो कि पिछले विधानसभा चुनाव में महागठबंधन में शामिल कांग्रेस, RJD और जदयू (JDU) बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) के नेतृत्व में चुनाव मैदान में उतरे थे और RJD सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी थी.

बसपा को भी महागठबंधन में लाने की कोशिश

इस चुनाव में JDU राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) में शामिल है. ऐसे में कहा जा रहा है कि RJD इस चुनाव में किसी भी हाल में पिछले चुनाव की तुलना में ज्यादा सीटों पर जीतने की योजना बना रही है, जिससे कोई भी तेजस्वी के नेतृत्व पर उंगली ना उठा सके. सूत्रों का कहना है कि RJD नेतृत्व बहुजन समाज पार्टी (BSP) को भी महागठबंधन में लाने को लेकर प्रयास कर रही है.

बहरहाल, महागठबंधन का नेतृत्व भले ही अपना आकार बढ़ाकर खुद को और मजबूत करने में जुटी है, लेकिन आकार बढ़ने के बाद सभी की सहमति से सीट बंटवारा हो जाए, यह आसान नहीं होगा. (IANS)

Related Posts