10 लाख बेरोजगारों को देंगे नौकरी, पहली कैबिनेट में पास होगा प्रस्ताव-तेजस्वी का वादा

तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) ने ये भी कहा है कि नौकरियां देने के लिए पहली ही कैबिनेट में फैसला ले लिया जाएगा और ये नौकरियां स्थाई होंगी.

  • Rupesh Kumar
  • Publish Date - 1:21 pm, Sun, 27 September 20

बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election 2020) का ऐलान हो चुका है, ऐसे में सभी राजनीतिक पार्टियां चुनाव प्रचार में लगी हैं. इस दौरान वादों की बयार भी बहने लगी है. आरजेडी (RJD) के नेता और पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) ने वादा किया है कि हमारी सरकार बनी तो दस लाख बेरोजगारों को नौकरी दी जाएगी. तेजस्वी ने ये भी दावा किया है कि राजद द्वारा बेरोजगारों के लिये जारी नंबर पर 22 लाख 58 हजार लोगों ने मिस कॉल दी है.

तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) बोले कि नौकरियां देने के लिए पहली ही कैबिनेट में फैसला ले लिया जाएगा और ये नौकरियां स्थाई होंगी. दरअसल बिहार के इस विधानसभा चुनाव में बेरोजगारी एक बड़ा मुद्दा बनकर उभरा है.

ये भी पढ़ें- Bihar Election 2020: सीट शेयरिंग पर कांग्रेस का RJD को अल्टीमेटम, प्लान B तैयार

राष्ट्रीय जनता दल इसके लिए लग़ातार मुहिम छेड़े हुए है. 5 सितंबर को राजद ने बेरोजगारी हटाओ पोर्टल लॉन्च किया था, जिसके साथ ही बेरोजगार युवाओं से पार्टी के समर्थन में मिस कॉल देने के लिए एक नंबर भी जारी किया था.

राजद के युवा चेहरे तेजस्वी की नज़र राज्य के उन वोटर्स को लुभाने पर है जो युवा हैं. राज्य में 18-39 वर्ष के क़रीब 51 फीसदी मतदाता हैं. बेरोजगारी के बहाने राज्य के प्रमुख विपक्षी दल की नज़र इस बड़े वोट बैंक पर है.

किसान बिल के खिलाफ है आरजेडी

अभी हाल ही में तेजस्वी ने केंद्र और राज्य सरकार पर निशाना साधते हुए कहा था कि इस बिल की वजह से किसान हताश, निराश और लाचार हैं. इस बिल ने अन्नदाताओं को तोड़ दिया है. किसान और गरीब होता जाएगा. इस बिल को हर हाल में सरकार को वापस लेना चाहिए. तेजस्वी अपने आवास से निकलकर पार्टी कार्यालय पहुंचे. इसके बाद वे आयकर गोलंबर, डाकबंगला चैराहा होते हुए जिला कार्यालय तक गए. हालांकि बिहार के सीएम नीतीश कुमार कृषि बिल को अपना समर्थन दिया है.