Bihar election 2020:  क्या तेजप्रताप यादव और ऐश्वर्या राय की जंग का गवाह बनेगा हसनपुर ?

अगर तेजप्रताप यादव (tej pratap ) इस सीट ( hasanpur) से चुनाव लड़ने के लिए पर्चा भरते हैं तो जद यू भी यहां से उनकी पत्नी ऐश्वर्या राय ( aishwarya rai) को टिकट दे सकती है। अगर पति और पत्नी दोनों यहां से पर्चा दाखिला करते हैं तो मुकाबला बहुत दिलचस्प हो जाएगा

समस्तीपुर की यादव बाहुल्य मतदाताओं वाली हसनपुर विधानसभा सीट पर लालू प्रसाद यादव के बड़े पुत्र और प्रदेश के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव की चुनाव लड़ने की दिलचस्पी के चलते यह सीट 2020 विधानसभा चुनावों में खास हो गई है. कहा जा रहा है कि अगर तेजप्रताप इस सीट से चुनाव लड़ने के लिए पर्चा भरते हैं तो जद यू भी यहां से उनकी पत्नी ऐश्वर्या राय को टिकट दे सकती है. अगर पति और पत्नी दोनों यहां से पर्चा दाखिला करते हैं तो मुकाबला बहुत दिलचस्प हो जाएगा और यह सीट देश भर की निगाहों में होगी.

तेज प्रताप 22 और 23 सितंबर को हसनपुर में थे. इस दौरान उन्होंने इस विधानसभा क्षेत्र में कई रोड शो कर ये अंदाजा लगाते रहे कि उन्हें कितना जनसमर्थन मिल रहा है? मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो तेजप्रताप ने अपने स्वागत में उमड़ी भीड़ को वीडियो काल करके अपनी मां राबड़ी देवी और तेजस्वी को भी दिखाया. दरअसल तेजप्रताप एक सुरक्षित सीट ढूंढ रहे जहां से उनका चुनाव जीतना तय हो. उन्हें अपनी वर्तमान महुआ विधानसभा सीट पर जीतने का भरोसा कम हो गया है. हसनपुर यादव बहुल क्षेत्र है यहां से 1967 के बाद से यादव प्रत्याशी ही जीतता रहा है.

समस्तीपुर जिला मुख्यालय से हसनपुर विधानसभा सीट की दूरी 60 किलोमीटर है. वर्तमान में यहां से राजकुमार राय जेडीयू के विधायक हैं. 2015 के विधानसभा चुनाव में वे जेडीयू और आरजेडी के संयुक्त उम्मीदवार थे. एनडीए गठबंधन की तरफ से आरएलएसपी की तरफ से विनोद चौधरी उम्मीदवार ने मोर्चा संभाला था. इस सीट पर 1967 के बाद से हमेशा यादव जाति का ही झंडा बुलंद रहा है. गजेंद्र प्रसाद हिमांशु ने आठ बार इस सीट से विधानसभा का चुनाव जीता है . नए परिसीमन के बाद 2010 इस सीट पर लगातार जेडीयू जीत रही है. वर्तमान विधायक जेडीयू के राजकुमार राय भी यादव ही हैं.

ऐश्वर्या के मैदान में आने से रोमांचक होगा मुकाबला

मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो जेडीयू इस सीट से तेज प्रताप की पत्नी ऐश्वर्या राय को मैदान में उतार सकती है. तेज प्रताप अपनी पत्नी ऐश्वर्यां से डिवोर्स लेना चाहते हैं. तेज प्रताप के ससुर चंद्रिका राय पहले ही जेडीयू में शामिल हो गए हैं. दूसरी ओर राजद ने भी ऐश्वर्या की चचेरी बहन को पार्टी में शामिल करके ईंट का जवाब पत्थर से देने की तैयारी कर ली है. अगर ऐश्यर्या चुनाव लड़ती हैं तो निश्चत तौर राजद उनकी बहन को चुनाव प्रचार के लिए मैदान में उतारेगा. अगर ऐसा होता है मुकाबला काफी दिलचस्प हो जाएगा. हालांकि अधिकारिक रूप से अभी कोई कुछ नहीं कह रहा हैर. जेडीयू ने भी अभी अधिकारिक रूप से कोई बयान नहीं दिया है.

चुनाव में ये मुद्दे हावी रहेंगे

1- हसनपुर रेलवे स्टेशन पर एक्सप्रेस ट्रेनें नहीं रुकतीं. आम पब्लिक बहुत दिनों से इनके ठहराव की मांग कर रही है.

2- विधानसभा क्षेत्र की 60 फीसद खेती योग्य भूमि पर जलजमाव रहता है. जलनिकासी की कोई व्यवस्था नहीं है. खेती पर ही निर्भर आबादी और विकास के लिए जलनिकासी की व्यवस्था अपरिहार्य हो चुकी है.

3- आज तक इस विधानसभा में एक भी डिग्री कॉलेज नहीं खुल सका. इसके चलते बच्चियों को आगे की पढ़ाई करने में परेशानी होती है.
4- हसनपुर चीनी मिल आर्थिक तंगी के चलते बंदी के कगार पर है. किसानों को समय पर भुगतान नहीं होने से गन्ना की पैदावार डूब रही है.

2000 से 2015 तक का राजनीतिक परिदृश्य

2000- जदयू के गजेंद्र प्रसाद हिमांशु ने राजद के राजेंद्र यादव को हराया

2005- फरवरी राजद के सुनील कुमार पुष्पम ने एलजेपी के रामनारायण मंडल को हराया

2005- अक्तूबर -राजद के सुनील कुमार पुष्पम ने एलजेपी के रामनारायण मंडल को हराया

2010- जद यू के राजकुमार राय के राजद के सुनील कुमार पुष्पम को हराया

2015- जद यू के राजकुमार राय ने आरएलएसपी के विनोद चौधरी को हराया

Related Posts