YSR सांसद ने कांग्रेस के खिलाफ की टिप्पणी, वेंकैया नायडू ने सदन की कार्यवाही से हटाने के दिए निर्देश

वाईएसआर कांग्रेस के सांसद विजय साई रेड्डी (ysr mp vijayasai reddy) ने कांग्रेस के बारे में एक आपत्तिजनक टिप्पणी की.

  • TV9 Digital
  • Publish Date - 5:54 pm, Sun, 20 September 20
YSRCP MP Vijayasai Reddy

राज्यसभा में रविवार को कांग्रेस (congress) और वाईएसआर (YSRCP) के सदस्यों के बीच तीखी नोंकझोंक हुई. दोनों दलों के बीच यह नोंकझोंक उस समय हुई जब कृषि संबंधी दो विधेयकों पर चर्चा में वाईएसआर कांग्रेस के सांसद विजय साई रेड्डी (ysr mp vijayasai reddy) ने कांग्रेस के बारे में  टिप्पणी की. बाद में राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ने सांसद विजय साई रेड्डी के टिप्पणी को सदन की कार्यवाही से हटाने के निर्देश दिए.

राज्यसभा में कृषि संबंधी दो विधेयकों पर चर्चा के दौरान वाईएसआर कांग्रेस के सांसद विजय रेड्डी ने विधेयकों का समर्थन करते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी ने अपने घोषणा पत्र में ऐसे ही प्रावधानों का समर्थन किया था लेकिन वह अब विधेयकों का विरोध कर रही है. उन्होंने कहा, ‘यह कांग्रेस का दोहरा मापदंड है. सदन में बोलते हुए YSRCP के सांसद  रेड्डी ने कहा कि कांग्रेस के पास इन विधेयकों का विरोध करने की कोई वजह नहीं है. उन्होंने कांग्रेस को ‘दलालों की पार्टी’ कहा.

इसके बाद कांग्रेस के पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस सदस्य आनंद शर्मा ने रेड्डी की टिप्पणी पर कड़ी आपत्ति जताई. शर्मा ने कहा कि सदस्य का आचरण सदन की परंपराओं के अनुसार नहीं है और उन्हें अपने बयान को वापस लेकर माफी मांगनी चाहिए. उस समय पीठासीन उपसभापति एल हनुमंथैया ने कहा कि वह रिकॉर्ड पर गौर करेंगे और अगर कोई आपत्तिजनक टिप्पणी होगी तो उसे रिकॉर्ड से हटा दिया जाएगा. इसके बाद राज्यसभा अध्यक्ष एम वेंकैया नायडू ने सांसद विजय साई रेड्डी के टिप्पणी को सदन की कार्यवाही से हटाने के निर्देश दिए.

हंगामा करने वाले सांसदों पर होगी कार्रवाई! उपसभापति के खिलाफ विपक्ष का अविश्वास प्रस्ताव

रविवार को राज्यसभा में खेती किसानी से जुड़े दो बिल रविवार को राज्यसभा में पास तो हो गए, लेकिन इनको लेकर सदन में विपक्ष ने काफी हंगामा काटा.
वहीं अब राज्यसभा अध्यक्ष वेंकैया नायडू विपक्ष के उन संसद सदस्यों के खिलाफ कार्रवाई कर सकते हैं, जिन्होंने कृषि बिलों को लेकर उच्च सदन में हंगामा किया. इसके उलट विपक्षी दलों ने राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश नारायण के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश कर दिया है.

मालूम हो कि राज्यसभा में विपक्ष के लगातार विरोध के बीच कृषक उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सरलीकरण) विधेयक 2020 और कृषक (सशक्तिकरण और संरक्षण) कीमत आश्वासन और कृषि सेवा पर करार विधेयक 2020 ध्वनिमत से पारित हो गए.

बिल पर चर्चा के दौरान राज्यसभा में हंगामा इतना बढ़ गया कि विपक्ष के राज्यसभा सांसद उपसभापति हरिवंश नारायण सिंह की कुर्सी के बगल तक आ गए. हंगामे के दौरान टीएमसी सांसद डेरेक ओ ब्रायन (Derek O’Brien) ने उपसभापति हरिवंश नारायण के पास जाकर संसद की रूल बुक को फाड़ दिया.

इतना ही नहीं टीएमसी सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने उपसभापति का माइक को छीनने की कोशिश भी की. वहीं आप सांसद संजय सिंह ने माइक तोड़ दिया.