कांग्रेस धोखेबाज पार्टी, सिंधिया के साथ जनता को भी दिया धोखा : शिवराज सिंह चौहान

शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) ने कहा कि कांग्रेस धोखेबाज पार्टी है. उसने ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) को धोखा दिया. चेहरा किसी और का दिखाया और मुख्यमंत्री किसी और को बना दिया. उसने जनता को भी धोखा दिया.

मध्य प्रदेश में होने वाले विधानसभा के उपचुनाव (MP assembly by election) की तारीखों का ऐलान भले ही न किया गया हो, लेकिन राजनीतिक दलों के एक-दूसरे पर हमले तेज हो गए हैं. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) और पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने संयुक्त दौरा कर कांग्रेस को घेरा और कांग्रेस की पूर्ववर्ती कमलनाथ सरकार के 15 महीनों को जनता को धोखा देने वाला बताया.

मुख्यमंत्री चौहान और पूर्व केंद्रीय मंत्री सिंधिया ने शुक्रवार को गुना जिले के बमोरी, सागर के जैसीनगर और रायसेन जिले के गैरतगंज में विकास कार्यों का उद्घाटन और शिलान्यास किया.

‘कांग्रेस सरकार ने गरीबों का छीन लिया था निवाला’

उद्घाटन और शिलान्यास के इस मौके पर मुख्यमंत्री चौहान ने कहा “प्रदेश में 15 महीने रही कांग्रेस सरकार (Congress government) ने जनता के साथ धोखा किया. उस सरकार ने गरीबों और किसानों के हित की योजनाएं बंद करके उनका निवाला छीन लिया था. लेकिन अब प्रदेश में BJP की सरकार है और जनता के हितों का पूरा ध्यान रखा जा रहा है. जो योजनाएं कमलनाथ सरकार (Kamalnath government) ने बंद कर दी थीं, वह हमने दोबारा शुरू कर दी हैं.”

ये भी पढ़ें : मध्य प्रदेश में उपचुनाव की तारीखों की घोषणा टली, राजनीतिक दलों को मिली राहत

‘किसी और का चेहरा दिखाकर किसी और को बनाया CM’

चौहान ने कहा, “कांग्रेस धोखेबाज पार्टी है. उसने ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) को धोखा दिया. चेहरा किसी और का दिखाया और मुख्यमंत्री किसी और को बना दिया. उसने प्रदेश की जनता को भी धोखा दिया. किसानों का कर्ज नहीं माफ किया.” सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने आक्रामक अंदाज में कहा कि जिसने भी सिंधिया परिवार (Scindia family) के साथ धोखा किया, उसको सिंधिया परिवार ने करारा जबाव दिया है.

‘वादों से मुकर गई थी कमलनाथ सरकार’

उन्होंने कहा ,”जब प्रदेश में युवाओं पर अत्याचार हुआ, तो मेरी दादी विजयाराजे सिंधिया (Vijayaraje Scindia) ने सरकार गिरा दी. मेरे पिता को ललकारा गया, तो उन्होंने विकास कांग्रेस बनाकर करारा जबाव दिया. कमलनाथ सरकार भी जनता से किए हुए वादों से मुकर गई थी. वह युवा और किसानों के हितों का ध्यान नहीं रख रही थी. हमें मजबूरी में ऐसी सरकार गिरानी पड़ी.” (IANS)

ये भी पढ़ें : मध्य प्रदेश में अभी नहीं थमा दल-बदल का दौर, उपचुनाव से पहले और भी नेता दे सकते हैं झटका

Related Posts