मध्य प्रदेश: खरगोन में घर से अगवा कर नाबालिग से गैंगरेप, तीनों आरोपी फरार

पुलिस अधिकारी (Police Officer) शैलेंद्र कुमार ने कहा कि आरोपियों ने बच्ची के साथ खेत में कथित रूप से गैंगरेप (Gang Rape) किया. पीड़िता के भाई ने उन्हें पकड़ने की बहुत कोशिश की, लेकिन तब तक आरोपी वहां से फरार हो गए.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 9:39 am, Thu, 1 October 20
बाराबंकी जिले के एक गांव में दलित लड़की के साथ रेप का मामला सामने आया है.

उत्तर प्रदेश के हाथरस में गैंगरेप पीड़िता की मौत के एक दिन बाद अब मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के खरगोन (Khargone) जिले में भी एक नाबालिग के साथ गैंगरेप (Gang Rape) का मामला सामने आया है. नाबालिग (Minor) का अपहरण कर खेत में तीन लोगों ने उसके साथ गैंगरेप किया और उसे वहीं छोड़कर फरार हो गए.

पुलिस (Police) ने मीडिया को जानकारी दी कि पीड़िता के भाई ने बताया कि मंगलवार रात तीन लोग कथितरूप से मारुगढ़ (Marugarh) में उनके घर पहुंचे और पानी मांगा, उसके बाद उनमें झगड़ा हो गया. मदद के लिए आगे आए लड़की के भाई को आरोपियों ने धक्का देकर गिरा दिया, और लड़की (Girl) को जबरन अपने साथ ले गए. आरोपियों ने खेत में ले जाकर बच्ची के साथ गैंगरेप किया और उसे वहीं छोड़कर भाग गए.

ये भी पढ़ें- यूपी: हाथरस-बलरामपुर में दलित लड़की के बाद आजमगढ़-बुलंदशहर में नाबालिग से हैवानियत

तीन लोगों ने नाबालिग के साथ किया गैंगरेप

पुलिस अधिकारी शैलेंद्र कुमार ने कहा कि आरोपियों ने बच्ची के साथ खेत में कथित रूप से गैंगरेप किया, और उसे वहीं छोड़कर फरार हो गए, हालांकि मदद के लिए लोगों को इकट्ठा कर रहे पीड़िता के भाई ने उन्हें पकड़ने की बहुत कोशिश की, लेकिन तब तक आरोपी वहां से भाग गए. घटना की सूचना मिलने ही खरगोन पुलिस जांच के लिए घटना स्थल पर पहुंची और बच्ची के साथ किए गए गैंगरेप की शिकायत दर्ज की. पुलिस सभी आरोपियों की तलाश कर रही है, जिससे उन्हें जल्द गिरफ्तार किया जा सके.

हाथरस-बलरामपुर गैंगरेप से पूरा देश शर्मसार

हाल ही में उत्तर प्रदेश के हाथरस में एक 20 साल की युवती के साथ गैंगरेप की दुखद घटना सामने आई. गैंगरपे के साथ ही रीढ़ की हड्डी में फ्रैक्चर और जीभ में घाव के साथ पीड़िता दो हफ्तों तक जिंदगी की जंग लड़ती रही और आखिरकार मंगलवार को दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में उसने दम तोड़ दिया. यूपी के बलरामपुर में भी छात्रा से साथ गैंगरेप के बाद दरिंदगी की गई.  इन भायवह घटनाओं ने एक बार फिर देश को 2012 में हुए निर्भया गैंगरेप की याद दिला दी.

ये भी पढ़ें- हाथरस केस: आधी रात को जली चिता, सड़ा सिस्टम, बेटी जबरन ‘विदा’

निर्भया के साथ साल 2012 में 16 दिसंबर की रात एक चलती बस में आरोपियों ने गैंगरेप किया था, पीड़िता ने सिंगापुर में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया, इस घटना ने पूरे देश को हिला कर रख दिया था. पीड़िता को 9 साल बाद इंसाफ मिला और 20 मार्च 2020 को निर्भया के दोषियों को फांसी पर लटका दिया गया.