मध्य प्रदेश में उपचुनाव की तारीखों की घोषणा टली, राजनीतिक दलों को मिली राहत

ओ पी एस भदौरिया (OPS Bhadoria) का कहना है कि, "BJP चुनाव (Election) के लिए तैयार है. वहीं, जनता भी यही जनता चाहती है कि राज्य के विकास को और गति मिले. जनता यह जानती है कि उसकी इच्छा और सपनों को सिर्फ BJP ही पूरा कर सकती है."

चुनाव आयोग (Election Commission) मध्य प्रदेश के प्रस्तावित उपचुनाव (MP by Election) की तारीखों का चार दिन बाद ऐलान करेगा, इससे यहां के राजनीतिक दलों (Political Parties) ने राहत की सांस ली है. चुनाव आयोग ने शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाई थी, तब संभावना जताई जा रही थी कि बिहार के विधानसभा के चुनाव के साथ मध्य प्रदेश समेत अन्य राज्यों के उप-चुनावों की तारीखों का भी ऐलान किया जाएगा, लेकिन ऐसा हुआ नहीं.

बिहार विधानसभा (Bihar Assembly Elections) के चुनाव की तारीखों का ऐलान करते हुए आयोग ने कहा है कि कोरोना को लेकर कई राज्यों की ओर से पत्र मिले हैं, इस पर विचार मंथन जारी है और उप-चुनावों की तारीखों का ऐलान 29 सितंबर को किया जाएगा. चुनाव आयोग के तारीखों का ऐलान ना किए जाने से राज्य के राजनीतिक दलों को आचार संहिता (Code of Conduct) की जद में आने से चार दिन की और मोहलत मिल गई है.

ये भी पढ़ें : Bihar election 2020: ये हैं बिहार चुनाव से जुड़ी 10 बड़ी बातें

‘जनता के सपनों को BJP ही कर सकती है पूरा’

शिवराज सरकार के राज्यमंत्री ओ पी एस भदौरिया (OPS Bhadoria) का कहना है कि, “BJP चुनाव के लिए तैयार है. वहीं, जनता भी यही जनता चाहती है कि राज्य के विकास को और गति मिले. जनता यह जानती है कि उसकी इच्छा और सपनों को सिर्फ BJP ही पूरा कर सकती है. आने वाले उप-चुनाव में कांग्रेस को जनता सबक सिखाएगी, क्योंकि उसने सत्ता में आने के बाद अपने वादों को पूरा नहीं किया था.”

दोनों ही दाल नहीं चाहते चुनाव की जल्द घोषणा

कांग्रेस के प्रवक्ता अजय सिंह यादव (Ajay Singh Yadav) का कहना है कि, “कांग्रेस चाह रही है कि जल्दी से जल्दी उप-चुनाव हों, क्योंकि राज्य में वर्तमान में अल्पमत की सरकार है. BJP लगातार सरकारी कार्यक्रम आयोजित कर घोषणाएं करने में लगी है, उसे घोषणाएं करने के लिए चार दिन का समय और मिल गया है.” जानकारों की मानें तो दोनों ही दल यह चाह रहे हैं कि चुनाव की तारीखों का जल्दी ऐलान ना हो. इसकी मुख्य वजह दोनों दलों में बढ़ता असंतोष और खींचतान है. (IANS)

ये भी पढ़ें : मध्य प्रदेश विधानसभा उपचुनाव- BJP और कांग्रेस को अपनों से ज्यादा गैरों पर भरोसा

Related Posts