शरद पवार को सलाह देकर घिरे रामदास अठावले, कहा था – बड़ी पोस्ट के लिए एनडीए जॉइन करें

रामदास अठावले ने कहा था कि शरद पवार (Ramdas Athawale Sharad Pawar) को एनडीए में शामिल हो जाना चाहिए इससे भविष्य में उन्हें बड़ी पोस्ट मिल सकती है. इसपर एनसीपी ने कहा है कि अठावले 'मुफ्त की लोकप्रियता बटोरने' के लिए ऐसे बयान देते हैं.

Ramdas Athawale
केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले (फाइल फोटो)

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के चीफ शरद पवार को एनडीए में शामिल होने की सलाह देकर केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले (Ramdas Athawale) घिर गए हैं. एनसीपी ने कहा है कि अठावले ‘मुफ्त की लोकप्रियता बटोरने’ के लिए ऐसे बयान देते हैं. बता दें कि अठावले ने कहा था कि शरद पवार (Ramdas Athawale Sharad Pawar) को एनडीए में शामिल हो जाना चाहिए इससे भविष्य में उन्हें बड़ी पोस्ट मिल सकती है.

इसपर राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) ने रामदास अठावले पर मुफ्त की लोकप्रियता बटोरने का आरोप लगाया. अठावले ने कहा था कि अगर शिवसेना बीजेपी के साथ मिलकर सरकार नहीं बनाती है तो शरद पवार को राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन में शामिल हो जाना चाहिए. आगे कहा था कि ऐसा करने पर भविष्य में उनको बड़ी पोस्ट मिल सकती है. यह भी कहा गया था कि पवार को शिवसेना के साथ रहने से कोई ‘फायदा’ नहीं है.

पढ़ें – शिवसेना NDA में नहीं आती तो NCP को शामिल हो जाना चाहिए: अठावले

कांग्रेस ने भी रामदास अठावले को घेरा

वहीं कांग्रेस ने कहा कि कंगना रनौत के साथ हुई मुलाकात में महा विकास आघाडी की सरकार को अस्थिर करने में विफल रहने के बाद अठावले ‘डाकिए’ जैसा व्यवहार कर रहे हैं. आरपीआई (ए) के अध्यक्ष अठावले ने इस महीने की शुरुआत में रनौत से मुलाकात की थी.

पढ़ें – पायल घोष ने लगाई अगुराग कश्यप को गिरफ्तार करने की गुहार, अठावले ने किया समर्थन

एनसीपी नेता बोले – अठावले कविता लिखने में व्यस्त

एनसीपी प्रवक्ता महेश तपसे ने अठावले पर निशाना साधते हुए कहा, ‘कुछ लोग बहुत बोलते हैं और सामाजिक न्याय राज्य मंत्री अठावले उनमें से एक हैं. सरकार द्वारा उन्हें जिन वर्ग के लोगों को न्याय दिलाने की जिम्मेदारी सौंपी गई है वह उस काम को करने की बजाय कविता लिखने में व्यस्त रहते हैं. वह हमेशा मुफ्त की लोकप्रियता अर्जित करने में लगे रहते हैं और इसके लिए कारण खोजते रहते हैं.’

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी में महाराष्ट्र के प्रभारी सचिव आशीष दुआ ने ट्वीट किया, ‘गो कोरोना गो का नारा देने वाला व्यक्ति शिवसेना और एनसीपी को सिखा रहा है कि महाराष्ट्र में क्या करना चाहिए. कंगना रनौत के साथ हुई मुलाकात से महा विकास आघाडी की सरकार को अस्थिर करने में विफल रहने के बाद अब वह डाकिये की भूमिका में हैं.’

Related Posts