इंदौर में ऑनलाइन सट्टेबाजी का खुलासा, हिरासत में 8 लोग-1 करोड़ 31 लाख नगद बरामद

सट्टा कारोबारियों (Speculative Taders) के खिलाफ यह अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई है. इस गिरोह के पास से कुल दो करोड़ 80 लाख से ज्यादा की रकम बरामद की गई है. इस मामले में पुलिस ने आठ लोगों को हिरासत में लिया है.

  • IANS
  • Publish Date - 9:02 am, Thu, 15 October 20
इंदौर में ऑनलाइन सट्टेबाजी का खुलासा, हिरासत में 8 लोग-1 करोड़ 31 लाख नगद बरामद

मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) की व्यापारिक नगरी इंदौर (Indore) में पुलिस ने ऑनलाइन सट्टा कारोबार (Online Speculative business) का खुलासा करते हुए एक करोड़ 31 लाख रुपये से ज्यादा की नगदी बरामद की है. इतना ही नहीं, पुलिस को बैंक खातों में लगभग डेढ़ करोड़ रुपये जमा होने का भी पता चला है. पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक, महू थाना क्षेत्र के एक बड़े मकान से ऑनलाइन सट्टा चलने की जानकारी मिली थी, जिसके बाद पुलिस ने छापा मारा, छापेमारी में पुलिस ने 1 करोड़ 31 लाख 66,623 रुपये की नगदी बरामद की, इसके साथ ही विभिन्न बैंक खातों में डेढ़ लाख रुपये जमा होने का पता चला. सभी बैंक खातों को फ्रीज कर दिया गया है.

पुलिस उप महानिरीक्षक हरि नारायण चारी मिश्रा के अनुसार, सट्टा कारोबारियों (Speculative Taders) के खिलाफ यह अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई है. इस गिरोह के पास से कुल दो करोड़ 80 लाख से ज्यादा की रकम बरामद की गई है. इस मामले में पुलिस ने आठ लोगों को हिरासत में लिया है.

ये भी पढ़ें: अनलॉक 5: सात महीने बाद आज से खुल रहे स्कूल-सिनेमा हॉल-स्विमिंग पूल… जानें जरूरी नियम

पुलिस को मामले की जांच में पता चला है कि इस गिरोह का मुख्य आरोपी राजा वर्मा (Raja Varma) है, जो महू व इंदौर के गरीब-मजदूर वर्ग के लोगों को दुकान खुलवाने का लोन दिलवाने के नाम पर उनके आधार कार्ड, पैनकार्ड मंगवाकर गुमास्ता बनवाता था. उसके बाद अलग-अलग बैंकों में गरीब मजदूरों के नाम से व्यापारी फर्म बनाकर बैंक में करंट अकाउंट खुलवाता था, इन्ही करंट अकाउंट में ऑनलाइन सट्टे के पैसे बड़ी मात्रा में जमा होते थे. ऐसे 13 बैंक खाते शुरुआती जांच में सामने आए, जिनमें पिछले छह माह में लगभग 53 करोड़ 23 लाख 70 हजार 417 रुपयों का ट्रांजेक्शन हुआ है.

पुलिस को जांच में पता चला कि इंदौर के एक सॉफ्टवेयर इन्जीनियर मनोज उर्फ मोंटी ने धन गेम का सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन एंड्रायड प्लेटफॉर्म पर तैयार किया था, जिसे राजा वर्मा को ऑनलाइन सट्टा चलाने के लिए दिया था. राजा वर्मा ऑनलाइन सट्टे का कारोबार लगभग दो वर्षो से कर रहा था और इस सट्टे से प्राप्त रुपयों से महू और इंदौर में मंहगी करोड़ों की प्रॉपर्टी अपने और परिवार वालों के नाम से खरीद रहा था. राजा वर्मा द्वारा लगभग छह करोड़ रुपये की प्रॉपर्टी खरीदी गई है.

ये भी पढ़ें: अमेरिका: राष्ट्रपति ट्रंप के बेटे बैरन भी थे कोरोना संक्रमित, मेलानिया बोलीं- नहीं दिखा था कोई लक्षण