उज्जैन: जहीरीली शराब पीने से 14 लोगों की मौत, 4 पुलिसकर्मी निलंबित

मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के उज्जैन (Ujjain) में जहीरीली शराब पीने से 14 लोगों की मौत हो गई. जानकारी के मुताबिक, ये मौतें केमिकल युक्त नकली शराब पीने से हुई है. मामले में अभी तक एक दर्जन से ज्यादा लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है.

  • Makrand Kale
  • Publish Date - 8:28 am, Fri, 16 October 20
उज्जैन: जहीरीली शराब पीने से 14 लोगों की मौत, 4 पुलिसकर्मी निलंबित

मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के उज्जैन (Ujjain) में जहीरीली शराब पीने से 14 लोगों की मौत हो गई. जानकारी के मुताबिक, ये मौतें केमिकल युक्त नकली शराब पीने से हुई है. मामले में अभी तक एक दर्जन से ज्यादा लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan)के निर्देश पर एक एसआईटी (SIT) का गठन किया गया है, जिसकी अध्यक्षता एसीएस होम राजेश राजौरा (Rajesh Rajora) कर रहे हैं. राजौरा अपनी टीम के साथ शुक्रवार को उज्जैन का दौरा करेंगे. इस मामले में खारा कुआं टीआई समेत 4 पुलिसवालों को निलंबित कर दिया गया है.

ये भी पढ़ें: दिल्‍ली में सिनेमा हॉल खुले, पहले दिन केवल 4 लोग देखने पहुंचे शो

दरअसल उज्जैन के खारा कुआं इलाके के छत्री चौक पर बुधवार को एक साथ दो लाशें मिलने से सनसनी फैल गई. पुलिस ने जांच शुरू की, तो दो और अन्य लोगों के मरने की खबर पुलिस को मिली. गुरुवार को ये आंकड़ा 11 का हो गया जो कि शाम तक 14 पहुंच गया. प्रारंभिक जांच में सामने आया है कि जिंजर और पोटली (जिस नाम से ये शराब बिकती है) पीने से इन मजदूरों की मौत हुई है. अभी तक 14 की मौत हो चुकी है और दो अन्य का इलाज चल रहा है. पुलिस का कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही मौत के असली कारण का पता चल पाएगा.

जहरीली झिंजर पीने से हुई मौत

पुलिस के मुताबिक मामले में जहरीली झिंजर पीने की पुष्टि हुई है. पुलिस ने जिंजर बनाने वाले सिकंदर, गबरू और यूनुस समेत एक दर्जन लोगों को गिरफ्तार किया है. ये लोग छतरी चौक स्थित नगर निगम की मल्टी लेवल पार्किंग में अवैध रूप से जिंजर पोटली बनाकर मजदूरों को बेचा करते थे. पुलिस भले ही लाख दावे कर रही हो लेकिन 14 मजदूरों की मौत के लिए ज़िम्मेदार कहीं न कहीं पुलिस ही है क्योंकि सिस्टम की नाक के नीचे अवैध शराब का कारोबार चल रहा था लेकिन पुलिस अफसर आंखें मूंदे बैठे थे.

ये भी पढ़ें: बातचीत से सुलझता दिख रहा लद्दाख बॉर्डर विवाद, इन वजहों से ढीले पड़े चीन के तेवर