आगरा: 2015 में केंद्र को कहा- ‘जुमलों की सरकार’,अब पीसीएस अधिकारी पर गिरी गाज

जिला नामित अधिकारी मनोज वर्मा (Manoj Verma) पर 15 जुलाई 2015 में अपने फेसबुक पोस्ट (Facebook) में अमित शाह की फोटो के साथ 'जुमलों की सरकार' और 'अच्छे दिन 25 साल बाद' आने की टिप्पणी करने का आरोप है, इसके अलावा दो कंपनियों की खाद्य सामग्री में गड़बड़ी मिलने के बाद तत्काल कार्रवाई न करने का भी आरोप है.
agra pcs officer suspended after five years of facebook post, आगरा: 2015 में केंद्र को कहा- ‘जुमलों की सरकार’,अब पीसीएस अधिकारी पर गिरी गाज

उत्तर प्रदेश की बीजेपी सरकार को जुमलों की सरकार कहने और खाद्य सामग्री के नमूने में गड़बड़ी मिलने के बाद भी कार्रवाई न करने के मामले में आगरा के खाद्य और औषधि प्रशासन के जिला नामित अधिकारी मनोज वर्मा को पद से निलंबित कर दिया गया है. प्रमुख सचिव ने मनोज वर्मा पर यह कार्रवाई की है, जिसके बाद मनोज वर्मा को लखनऊ कार्यालय में तलब किया गया है. वहीं मामले की जांच सहायक कमिश्नर खाद्य विभाग को सौंपी गई है.

अमर उजाला वेबसाइट के मुताबिक प्रमुख सचिव अनीता सिंह की चिट्ठी में जिला नामित अधिकारी मनोज वर्मा पर आरोप है कि उन्होंने 15 जुलाई 2015 में अपने फेसबुक पोस्ट में अमित शाह की फोटो के साथ ‘जुमलों की सरकार’ और ‘अच्छे दिन 25 साल बाद’ आने की टिप्पणी की थी. इसके अलावा आरोप है कि मां भगवती इंटरप्राइजेज और श्रीजी कृष्णा भोग छेना पाउडर के नमूने में गड़बड़ी मिलने के बाद भी मनोज वर्मा ने तत्काल कोई कार्रवाई नहीं की थी, रिपोर्ट आने के पांच महीने के बाद दोनों कंपनियों पर कार्रवाई का आदेश दिया गया.

खाद्य सामग्री में गड़बड़ी के बाद कंपनी पर नहीं की कार्रवाई

कानून के हिसाब से दोनों कंपनियों के प्रोडक्ट के नमूनों की जांच रिपोर्ट 19 जुलाई को ही आ गई थी. जांच रिपोर्ट आने के बाद दोनों कंपनियों के लाइसेंस रद्द करते हुए खाने के खराब सामान को तुरंत नष्ट किया जाना चाहिए था. वहीं जिला नामित अधिकारी का कहना है कि उसने अपने फेसबुक पोस्ट में अमित शाह को लेकर कोई टिप्पणी नहीं की थी. वहीं कृष्णा इंटरप्राइजेज और श्रीजी कृष्णा छेना मामला उनके पद ग्रहण करने से पहले का है. इस मामले की उन्हें कोई जानकारी नहीं थी.

Related Posts