बाबरी विध्वंस पर फैसला सुनाने वाले जज सुरेंद्र कुमार यादव आज ही होंगे रिटायर

सुरेंद्र कुमार यादव (Surendra Kumar Yadav) पिछले साल 30 सितंबर को ही रिटायर होने वाले थे लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने 19 जुलाई को जज की मुद्दत में इजाफा कर दिया था. इसके तहत उनका कार्यकाल बाबरी मस्जिद मामले की सुनवाई मुकम्मल होने तक बढ़ा दिया.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 10:19 am, Wed, 30 September 20

अयोध्या बाबरी विध्वंस (Babri Demolition Case) मामले में बुधवार को सीबीआइ की विशेष अदालत (CBI Special Court) फैसला कुछ ही देर में आने वाला है. सीबीआई के विशेष जज सुरेंद्र कुमार यादव (Surendra Kumar Yadav) आज 11 बजे के करीब फैसला सुनाएंगे. जानना दिलचस्प है कि विशेष जज सुरेंद्र कुमार यादव के कार्यकाल का आज यह अंतिम फैसला होने वाला है. दरअसल, वो आज ही रिटायर होने वाले हैं.

सुरेंद्र कुमार यादव पिछले साल 30 सितंबर को ही रिटायर होने वाले थे लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने 19 जुलाई को जज की मुद्दत में इजाफा कर दिया था. इसके तहत उनका कार्यकाल बाबरी मस्जिद मामले की सुनवाई मुकम्मल होने तक बढ़ा दिया. साथ ही यूपी सरकार ने भी नोटिफिकेशन जारी कर फैसला आने तक जज की मुद्दत बढ़ा दी थी.

जज ने की थी सुरक्षा की मांग

मालूम हो कि ट्रायल के दौरान जज ने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दाखिल कर सिक्योरिटी की मांग की थी. इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश सरकार को जज की गुजारिश पर गौर करने और हलफनामा दाखिल करने का निर्देश दिया था. साथ ही दो हफ्तों में सरकार से जवाब भी तलब किया था.

जौनपुर के रहने वाले हैं एसके यादव

सुरेंद्र कुमार यादव पूर्वी उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले से ताल्लुख रखते हैं. उनके पिता का नाम रामकृष्ण यादव है. सुरेंद्र कुमार यादव 31 बरस की उम्र में राज्य न्यायिक सेवा के लिए चुने गए थे. फैजाबाद में एडिशनल मुंसिफ के पद की पहली पोस्टिंग से शुरू हुआ उनका न्यायिक जीवन गाजीपुर, हरदोई, सुल्तानपुर, इटावा, गोरखपुर के रास्ते होते हुए राजधानी लखनऊ के जिला जज के ओहदे तक पहुंचा.

बीजेपी के कई नेता आरोपी

बता दें कि 28 साल तक चले इस मुकदमे में भारतीय जनता पार्टी के कई वरिष्ठ नेता भी आरोपित हैं और फैसला सुनाने के समय इनमें से अधिकांश मौजूद रहेंगे. बताया जा रहा है कि निर्णय करीब दो हजार पेज का हो सकता है. इसे सुनाने के तुरंत बाद कोर्ट की वेबसाइट पर अपलोड कर दिया जाएगा.