बलिया: 6 गिरफ्तार, बीजेपी MLA ने किया आरोपी का बचाव, जानिए गोलीकांड में अब तक क्या हुआ

बलिया (Balia Firing) में विवाद दो गुटों के बीच राशन के सरकारी कोटे को लेकर हुआ था. जो पहले बहस, फिर पत्थरबाजी से होते हुए गोलीबारी पर खत्म हुआ. इस मामले में अबतक क्या कुछ हुआ जानिए

Balia-MLA
बलिया से बीजेपी विधायक हैं सुरेंद्र सिंह

उत्तर प्रदेश का बलिया जिला (Balia Firing) गुरुवार से चर्चा का विषय बना हुआ है. वजह है पुलिस और एसडीएम के सामने एक शख्स की हत्या. हत्या का आरोप बीजेपी से जुड़े शख्स पर है जिस वजह से मामला राजनीतिक रंग भी ले चुका है. मामले को बढ़ता देख फिलहाल सरकार ने SDM और CO को निलंबित कर दिया है. अबतक 6 आरोपी गिरफ्तार हो चुके हैं. बलिया से बीजेपी विधायक ने आरोपी का बचाव भी किया है.

विवाद दो गुटों के बीच राशन के सरकारी कोटे को लेकर हुआ था. जो पहले बहस, फिर पत्थरबाजी से होते हुए गोलीबारी पर खत्म हुआ. इस मामले (Balia Firing) में अबतक क्या कुछ हुआ जानिए

  • बलिया के दुर्जनपुर गांव में राशन की दुकानों के आवंटन को लेकर बैठक चल रही थी. बैठक एक टेंट में हो रही थी जहां पर बड़ी संख्या में लोग जमा थे. स्थानीय लोगों ने बताया कि प्रशासन और पुलिस अधिकारी भी बैठक में मौजूद थे.
  • वहां दो समूहों के बीच पहले कहासुनी हुई, जिसके चलते बैठक को स्थगित करने का फैसला हुआ. इसी बीच एक पक्ष की तरफ से धीरेंद्र प्रजापति ने गोली चला दी, जिसमें जय प्रकाश उर्फ गामा पाल (46) की मौत हो गई.
  • बलिया में जिन दो समूहों के बीच कहासुनी शुरू हुई थी उनका नाम मां साईं जगदम्बा स्वयं सहायता समूह और शिव शक्ति स्वयं सहायता समूह है. तय किया गया था कि कोटा देने का फैसला वोटिंग से होगा, इसपर ही विवाद हुआ था.
  • एक समूह का आरोप था कि प्रशासन के लोग दूसरे समूह का पक्ष ले रहे हैं. इसके बाद ईंट पत्थर चलने लगे और अंत में गोली भी चल गई.

  • पता चला कि गोली चलानेवाला शख्स धीरेंद्र प्रजापति बीजेपी का नेता है. बाद में यह बाद बीजेपी विधायक ने भी मानी.
  • फिलहाल इस मामले में 6 लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है. एक का नाम देवेंद्र प्रताप सिंह बताया गया है. वह धीरेंद्र का भाई है. पुलिस एफआईआर में 8 लोगों के नाम और 25 अज्ञात लोग भी नामजद हैं.
  • मौके पर मौजूद सब डिविजन मजिस्ट्रेट, सर्कल ऑफिसर के अलावा 9 पुलिसवालों को सस्पेंड कर दिया गया है. बताया गया है कि एसडीएम सुरेश पाल, सीओ चंद्रराकेश सिंह, बीडीओ गजेंद्र सिंह के साथ-साथ रेतवी पुलिसथाने के कुछ जवान भी वहां मौजूद थे. अब गोलीकांड में उनके रोल की भी जांच हो रही है.

पढ़ें – बलिया हत्याकांड: BJP विधायक के करीबी पर गोली मारने का आरोप, SDM-CO निलंबित

  • अपर मुख्य सचिव, गृह, अवनीश कुमार अवस्थी ने लखनऊ में कहा, “मामले को गंभीरता से लेते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एसडीएम, सीओ और घस्टनास्थल पर मौजूद पुलिस अधिकारियों को तुरंत निलंबित करने का आदेश दिया है. साथ ही आरोपी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का निर्देश है.”
  • बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह ने कहा कि ऐसी घटना कहीं भी हो सकती है. उनके मुताबिक, वहां दोनों तरफ से पहले पत्थरबाजी भी हुई थी. उन्होंने माना कि शख्स उनकी पार्टी से जुड़ा था. आगे कहा कि कानून को अपना काम करना चाहिए. उन्होंने कहा कि आरोपी ने आत्मरक्षा में गोली चलाई. सुरेंद्र सिंह ने कहा, ‘अगर धीरेंद्र गोली नहीं चलाता तो उसके दर्जनों रिश्तेदार मारे जाते. दूसरे ग्रुप पर भी कार्रवाई होनी चाहिए जिन्होंने महिलाओं को भी डंडे और लोह की रॉड से मारा है. 6 महिलाएं घायल हुई हैं.’
  • विपक्षी पार्टियों ने इसमें योगी सरकार को घेरना शुरू कर दिया है. कांग्रेस, समाजवादी पार्टी की तरफ से बीजेपी को घेरा जा रहा है. कहा गया है कि ऐसी घटनाएं दिखाती हैं कि यूपी में कानून का राज नहीं है.

Related Posts