• Home  »  उत्तर प्रदेश   »   बिकरू एनकाउंटर चार्जशीट: विकास दुबे तक पहुंचाई जानकारी, दरोगा केके शर्मा और एसओ विनय तिवारी मुख्य आरोपी

बिकरू एनकाउंटर चार्जशीट: विकास दुबे तक पहुंचाई जानकारी, दरोगा केके शर्मा और एसओ विनय तिवारी मुख्य आरोपी

कानपुर के गैंगस्टर विकास दुबे (Vikas Dubey) से जुड़े बिकरू एनकाउंटर कांड (Bikru Encounter) में पुलिस की चार्जशीट तैयार हो गई है. इसमें तत्कालीन दरोगा केके शर्मा और एसओ विनय तिवारी पर गंभीर आरोप लगे हैं.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 9:10 am, Tue, 29 September 20
vikas dubey
गैंगस्टर विकास दुबे (फाइल फोटो)

कानपुर के गैंगस्टर विकास दुबे (Vikas Dubey) से जुड़े बिकरू एनकाउंटर कांड में पुलिस की चार्जशीट (Bikru Encounter Chargesheet) तैयार हो गई है. इसमें तत्कालीन दरोगा केके शर्मा और एसओ विनय तिवारी पर गंभीर आरोप लगे हैं. पुलिस ने एसओ विनय तिवारी और दरोगा केके शर्मा को साजिश का आरोपी माना है. बता दें कि विकास दुबे खुद कानपुर लाते वक्त एनकाउंटर में मारा गया था. इससे पहले उसे पकड़ने पहुंची पुलिस टीम पर उसने अपने साथियों के संग मिलकर प्लानिंग से हमला कर दिया था. इसमें उसने 8 पुलिसवालों को मार दिया था.

बिकरू एनकाउंटर कांड में तैयार चार्जशीट (Bikru Encounter Chargesheet) के मुताबिक, एसओ ने विकास दुबे को संरक्षण दिया, दबिश की सूचना लीक की. यह चार्जशीट इसी हफ्ते दाखिल की जा सकती है. चार्जशीट दाखिल करने की आखिरी तारीख 4 अक्टूबर है.

पढ़ें – क्या बिकरू में विकास दुबे के भूत का है साया? गांववालों का दावा रात में आती है गोलियों की आवाज

दरोगा केके शर्मा और एसओ विनय तिवारी मुख्य आरोपी

सूत्रों के मुताबिक, पुलिस की चार्जशीट में दावा है कि एसओ ने दरोगा केके शर्मा के जरिए विकास तक रेड की सूचना पहुंचाई थी. उस रात विनय तिवारी और विकास दुबे की कोई बात नहीं हुई थी. विकास ने सूचना मिलने के बाद सभी को मारने की बात कही थी. बावजूद इसके एसओ विनय तिवारी ने किसी अधिकारी को इसकी जानकारी नहीं दी थी.

पढ़ें – बिकरू कांड का आखिरी आरोपी रामू बाजपेयी गिरफ्तार, 50 हजार का था इनामी

एनकाउंटर में मारा गया था विकास दुबे

पुलिसवालों की हत्या करने विकास दुबे और उसके साथी फरार हो गए थे. बाद में पुलिस ने विकास दुबे को उज्जैन से पकड़ा था. फिर कानपुर लाते वक्त विकास दुबे ने भागने की कोशिश की, जहां उसका एनकाउंटर हो गया. विकास दुबे से पहले मामले से जुड़े कई लोगों का भी अलग-अलग जगह पर एनकाउंटर हुआ था.