बहन बेटियों को सुरक्षा दें सीएम योगी नहीं तो इस्तीफा, हाथरस-बलरामपुर मामले पर बोलीं मायावती

बीएसपी सुप्रीमो मायावती (Mayawati) ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर योगी सरकार (Yogi Government) पर हमला बोला और कहा कि पीड़ित परिवार को आर्थिक मदद देने से जुल्म-ज्यादती नहीं रुकेगी, इसके लिए सख्त कदम उठाने होंगे.

  • TV9 Digital
  • Publish Date - 12:20 pm, Thu, 1 October 20
BSP Chief Mayawati
Bihar Election 2020: बीएसपी विरोधियों के हथकंडों से सावधान रहें मतदाता - मायावती

उत्तर प्रदेश के हाथरस (Hathras) और बलरामपुर (Balrampur)  में दलित लड़कियों के साथ हुई गैंगरेप की घटना के बाद बीएसपी सुप्रीमो मायावती (Mayawati) ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर योगी सरकार पर हमला बोला है. उन्होंने कहा कि पीड़ित परिवार को आर्थिक मदद देने से जुल्म-ज्यादती नहीं रुकेगी, इसके लिए सख्त कदम उठाने होंगे.

मायावती ने कहा कि सीएम योगी (CM Yogi) को पद से इस्तीफा दे देना चाहिए. उन्हें बोल देना चाहिए कि वह सरकार नहीं चला सकते. मायावती ने कहा कि सीएम योगी यूपी में लॉ एंड आर्डर (Law & Order) को नहीं संभाल सकते, अब भी सरकार की आंखें नहीं खुल रही हैं, लेकिन बीएसपी (BSP) पीड़ितों के साथ खड़ी है.

ये भी पढ़ें- हाथरस LIVE Updates: सिद्धार्थ नाथ सिंह का तंज – राहुल-प्रियंका पर कर रहे हैं राजनीति

 ‘पद से इस्तीफा दें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ’

‘हाथरस मामले को दबाने की कोशिश कर रही पुलिस’

बीएसपी अध्यक्ष मायावती ने कहा कि पुलिस ने पीड़ित परिवार को उनकी बेटी के अंतिम दर्शन भी नहीं करने दिए, डेडबॉडी परिवार को नहीं सौंपी गई, पुलिस पूरे मामले को दबाने में लगी है, ये जंगल राज है.  उन्होंने कहा कि हाथरस का मामला अभी ठंडा नहीं हुआ था कि बलरामपुर की घटना ने झकझोर कर रख दिया, इस घटना ने एक बार फिर निर्भया केस की याद दिला दी. कोई भी दिन ऐसा नहीं जाता जब यूपी में महिलाओं के खिलाफ अपराध न हुआ हो. अगर योगी सरकार महिलाओं को सुरक्षा नहीं दे सकती तो उन्हें इस्तीफा दे देना चाहिए, और केंद्र सरकार को उन्हें वापस गोरखनाथ मठ में भेज देना चाहिए.

मायावती ने कहा कि बीजेपी राज में बहू-बेटियां बिल्कुल भी सुरक्षित नहीं हैं. कहीं न कहीं राज्य में बहन बेटियों के साथ उत्पीड़न हो रहा है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि यूपी सरकार को जल्द महिलाओं के खिलाफ हो रहे अपराधों पर एक्शन लेना होगा. बीजेपी सरकार में अपराधी, माफिया, रेपिस्ट सब फ्री घूम रहे हैं.

ये भी पढ़ें- अब बलरामपुर में हाथरस जैसी हैवानियत, गैंगरेप के बाद युवती के पैर, कमर तोड़ने का आरोप

14 सितंबर को हाथरस के एक गांव में 19 साल की दलित लड़की के साथ चार लोगों ने गैंगरेप किया था. गैंगरेप के साथ ही रीढ़ की हड्डी में फ्रैक्चर और जीभ में घाव के बाद पीड़िता दो हफ्तों तक जिंदगी की जंग लड़ती रही, और आखिरकार मंगलवार को दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में उसने दम तोड़ दिया. वहीं यूपी के बलरामपुर में भी एक 22 साल की लड़की के साथ हैवानियत की गई. गैंगरेप के साथ ही पीड़िता की कमर और दोनों टांगें तोड़ दी गईं.  इस भायवह घटना ने एक बार फिर देश को 2012 में हुए निर्भया गैंगरेप की याद दिला दी. इन घटनाओं के बाद पूरे देश में गुस्से का माहौल है.