मुसलमानों के लिए हराम है सैनिटाइजर का इस्तेमाल: मुफ्ती नश्तर फारूक़ी

गाइडलाइन में धार्मिक स्थलों को सैनिटाइज (Sanitize) करके ही सीमित संख्या में वहां पर पूजा या इबादत करने की इजाजत दी गई है. इस पर शहर इमाम मुफ्ती खुर्शीद आलम का कहना है कि इस्लाम (Islam) में अल्कोहल (Alcohol) नाजायज है, इसलिए हम इसका इस्तेमाल नहीं करेंगे.

अनलॉक-1 में 8 जून से मस्जिदें (Mosques) खोली गई हैं. ऐसे में शासन की तरफ से जरूरी गाइडलाइंस के तहत मस्जिदों पर सैनिटाइजर (Sanitizer) से छिड़काव करने के लिए कहा गया है. उत्तर प्रदेश के बरेली में दरगाह आला हज़रत के सुन्नी मरकज़ दारुल इफ्ता के मुफ़्ती नश्तर फ़ारूक़ी ने कहा कि इस्लाम में अल्कोहल हराम है, इसलिए हम अल्लाह के घर को अल्कोहल वाले सैनिटाइजर से नापाक नहीं होने देंगे.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

मुसलामानों के लिए हराम है सैनिटाइजर का इस्तेमाल

सैनिटाइजर से मस्जिदों की सफाई को लेकर उन्होंने कहा कि अल्कोहल (Alcohol) से बने सैनिटाइजर का इस्तेमाल मुसलमानों के लिए हराम है और मस्जिदों को सैनिटाइज करने का मतलब पूरी मस्जिद को नापाक करना है और नापाक जगह पर या नापाकी के साथ नमाज़ नहीं होगी. जानबूझकर ऐसा करना गुनाह है, इसलिए मस्जिदों के इमामों और मस्जिद कमेटी से अपील की गई है कि मस्जिदों में अल्कोहल वाले सैनिटाइजर का बिल्कुल इस्तेमाल न किया जाए.

साबुन, शैम्पू और सर्फ वगैरह से हो मस्जिदों की सफाई

शहर इमाम मुफ्ती खुर्शीद आलम का कहना है कि इस्लाम में अल्कोहल नाजायज है, इसलिए हम इसका इस्तेमाल नहीं करेंगे. मुसलमानों को चाहिए कि अल्कोहल वाले सैनिटाइजर का इस्तेमाल कर वे अपनी नमाज़ बर्बाद न करें, बल्कि अपने हाथों और मस्जिदों की सफाई के लिए साबुन, शैम्पू और सर्फ वगैरह का इस्तेमाल करें. हाथों और मस्जिदों की सफाई इन चीजों से भी हो सकती है.

गाइडलाइन के तहत जरूरी है सैनिटाइजेशन

अनलॉक के लिए जारी की गई गाइडलाइन में धार्मिक स्थलों को सैनिटाइज करके ही सीमित संख्या में वहां पर पूजा या इबादत करने की इजाजत दी गई है. इसी क्रम में मस्जिदों को भी सैनिटाइज किया जाना है, लेकिन मुफ्ती खुर्शीद आलम ने कहा है कि सैनिटाइजर में अल्कोहल का इस्तेमाल होता है, इसलिए मस्जिदों की सफाई के लिए सैनिटाइजर का इस्तेमाल नहीं किया जाएगा, बल्कि साबुन, सर्फ, शैंपू जैसे अन्य पदार्थों से हम मस्जिदों को साफ करेंगे.

वहीं, मथुरा और वृंदावन में इस्कॉन, बांके बिहारी, मुकुट मुखारविंद और श्री रंगनाथजी सहित कुछ प्रमुख मंदिरों ने सोमवार से श्रद्धालुओं के लिए मंदिर के द्वार ना खोलने का फैसला लिया और उनके इस निर्णय के पीछे का एक कारण यही सैनिटाइजेशन है, जिसका इस्तेमाल सरकार ने अनिवार्य कर दिया है.

भारत में कोरोनावायरस के मामले

बता दें कि भारत में अब तक कोरोना संक्रमण (Coronavirus) के 2,87,000 मामले सामने आ चुके हैं. 8,102 लोगों की इससे मौत हो चुकी है. केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के अनुसार, संक्रमण के चलते पिछले 24 घंटों में 357 मौत हुई हैं. कुल मामलों में से 1,37,448 एक्टिव हैं. वहीं, 1,41,029 लोग इलाज के बाद ठीक भी हो चुके हैं. 94,041 मामलों के साथ महाराष्ट्र सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य है. इसके बाद संक्रमण के सबसे ज्यादा मामले तमिलनाडु (36,841) और दिल्ली (32,810) में हैं.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts