हाथरस गैंगरेप केस: पीड़िता के परिजनों की सहमति से हुआ अंतिम संस्कार- जिलाधिकारी

जिलाधिकारी (DM) ने कहा, "AMU मेडिकल कॉलेज की रिपोर्ट में रेप का मामला नहीं आया है, न ही जीभ काटी थी. शरीर पर 4 जगह चोट थी. रीढ़ की हड्डी टूटी हुई थी. जीभ इसलिए कटी क्योंकि अगर गला दबाया जाता है तो जीभ बाहर आती है, तब दांत के बीच में आने से कटी होगी."

हाथरस पीड़ित परिवार (Hathras Victim Family) से मिलने जिलाधिकारी (District Magistrate) बुधवार को उनके घर पहुंचे. डीएम ने पीड़िता का अंतिम संस्कार (Funeral) जबरन किए जाने के आरोपों से इनकार किया. उन्होंने कहा कि पिता और बाकी परिवार ने पीड़िता का दाह संस्कार किया. डीएम ने कहा कि पीड़िता के परिवार वालों से बात हुई है. उन्होंने कहा की रात में अंतिम संस्कार किया गया. इस मामले में जो आरोप जो लगाया गया है वो गलत है. उन्होंने कहा कि आरोप क्यों लगा रहे हैं, वो हमें नहीं पता है.

पीड़ित परिवार का आरोप लगा रहा है कि रात को जबरन न सिर्फ अंतिम संस्कार किया गया, बल्कि बेटी का चेहरा तक नहीं देखने दिया. वहीं, डीएम ने बताया कि लड़की जब हाथरस के जिला अस्पताल में एडमिट थी, तभी पीड़ित परिवार को लड़की को बड़े अस्पताल में शिफ्ट करने की गुजारिश की थी, लेकिन परिवार नहीं माना था. हालांकि बाद में प्रशासन के कहने पर ही पीड़िता को अलीगढ़ में एएमयू के मेडिकल कॉलेज में एडमिट करवाया गया.

हाथरस गैंगरेप: पीड़िता के अंतिम संस्कार का वीडियो वायरल, पुलिसवाला बोला- मैं थर्ड क्लास का अधिकारी हूं

‘सफदरजंग शिफ्ट करने के लिए मना कर दिया’

उन्होंने कहा, “29 तारीख को हमारे एडीएम ने जाकर बयान लिया था. उस समय लड़की के पिता ने सफदरजंग शिफ्ट करने के लिए मना कर दिया था. उसके परिवार से ये लिखित में दिया गया था.”

‘रिपोर्ट में रेप का मामला नहीं मिला’

जिलाधिकारी ने कहा, “AMU मेडिकल कॉलेज की रिपोर्ट में रेप का मामला नहीं आया है, न ही जीभ काटी थी. शरीर पर 4 जगह चोट थी. रीढ़ की हड्डी टूटी हुई थी. जीभ इसलिए कटी क्योंकि अगर गला दबाया जाता है तो जीभ बाहर आती है, तब दांत के बीच में आने से कटी होगी.”

‘FIR लिखने में नहीं हुई देरी’

उन्होंने कहा कि 14 तारीख को सुबह साढ़े 9 बजे की घटना थी, हमने साढ़े 10 बजे लड़की के भाई के आरोप के आधार 307 और एसी-एसटी एक्टर में एफआईआर लिखी थी. लड़की के भाई ने संदीप और उसके साथियों पर मारपीट और जान से मारने की कोशिश का आरोप लगाया था. प्रशासन ने खुद लड़की की बिगड़ती तबियत देखकर उसे सफदरजंग अस्पताल में भेजा था.

हाथरस गैंगरेप केस: सीएम योगी ने बनाई SIT, पीएम मोदी बोले- करें कठोरतम कार्रवाई

Related Posts