हाथरस गैंगरेप: विपक्ष का आक्रोश, कांग्रेस ने किए SIT पर सवाल-मांगा सीएम का इस्तीफा

राहुल गांधी (Rahul Gandhi) के ट्वीट कर लिखा भारत की एक बेटी का रेप-क़त्ल किया जाता है, तथ्य दबाए जाते हैं और अन्त में उसके परिवार से अंतिम संस्कार का हक़ भी छीन लिया जाता है. ये अपमानजनक और अन्यायपूर्ण है.

hathras gangrape
प्रतीकात्मक तस्वीर

हाथरस गैंग रेप (Hathras Gangrape Case) मामले में पुलिस पर उठ रहे सवालों के बीच पुलिस ने मंगलवार देर रात पीड़िता के शव का अंतिम संस्कार कर दिया. परिवार वाले मना करते रहे लेकिन पीड़िता का देर रात क़रीब 2 बजे अंतिम संस्कार कर दिया गया. साथ ही घरवालों को भी शव के पास भी नहीं आने दिया गया. हाथरस में गैंगरेप के बाद पीड़िता की मौत और पुलिस की भूमिका को संदेह में रखते हुए विपक्ष सवाल उठा रहा है. परिवार का कहना है कि वह अपनी बेटी को आखिरी बार घर तक नहीं लेकर जा पाए. गांव के ही चार लड़कों पर 19 साल की दलित लड़की के साथ गैंगरेप (Hathras Gangrape Case) करने का आरोप है.

राहुल गांधी के ट्वीट कर लिखा भारत की एक बेटी का रेप-क़त्ल किया जाता है, तथ्य दबाए जाते हैं और अन्त में उसके परिवार से अंतिम संस्कार का हक़ भी छीन लिया जाता है. ये अपमानजनक और अन्यायपूर्ण है.

ये भी पढ़ें-हाथरस गैंगरेप: परिवार की नहीं सुनी, पुलिस ने देर रात किया पीड़िता का अंतिम संस्कार

अपराध रोका नहीं, अपराधियों की तरह व्यवहार किया- प्रियंका गांधी

प्रियंका गांधी ने ट्वीट किया…रात को 2.30 बजे परिजन गिड़गिड़ाते रहे लेकिन हाथरस की पीड़िता के शरीर को उप्र प्रशासन ने जबरन जला दिया. जब वह जीवित थी तब सरकार ने उसे सुरक्षा नहीं दी. जब उस पर हमला हुआ सरकार ने समय पर इलाज नहीं दिया. पीड़िता की मृत्यु के बाद सरकार ने परिजनों से बेटी के अंतिम संस्कार का अधिकार छीना और मृतका को सम्मान तक नहीं दिया.. घोर अमानवीयता. आपने अपराध रोका नहीं बल्कि अपराधियों की तरह व्यवहार किया. अत्याचार रोका नहीं, एक मासूम बच्ची और उसके परिवार पर दुगना अत्याचार किया. सीएम योगी इस्तीफा दो. आपके शासन में न्याय नहीं, सिर्फ अन्याय का बोलबाला है.

किसी आतंकवादी का अंतिम संस्कार किया- पुनिया

पीएल पुनिया ने कहा है हाथरस में एक दलित के साथ गैंगरेप हुआ उसका इलाज सही से नहीं किया गया. उसकी मौत हो गई. कल रात जो ड्रामा हुआ उसने सारी हदें पार कर दीं. इस तरह से हुआ जैसे किसी आतंकवादी का अंतिम संस्कार किया जा रहा हो. रात के अंधेरे में बगैर परिवार की मौजूदगी के अकेले पुलिस वालों ने प्रशासन ने उनका अंतिम संस्कार कर दिया. क्या वजह थी? क्या कारण था ? इसको बताया जाना चाहिए. हम पूछना चाहते हैं क्या उसके साथ ही सुलूक इसलिए किया कि वह दलित महिला थी. योगी सरकार में दलित अपनी आवाज उठा नहीं सकते? उन्होंने आगे कहा, योगी आदित्यनाथ से पूछना चाहते हैं कि क्या अपनी बिरादरी के इस तरह से कोई होता तो क्या उसके साथ भी इस तरह का सलूक होता. आप तत्काल इस्तीफा दें आपको कोई अधिकार नहीं अपने पद पर बने रहने का.

जबरिया लाठी के बूते अंतिम संस्कार-अजय कुमार लल्लू

अजय कुमार लल्लू ने कहा …बंद कर जबरिया लाठी के बूते अंतिम संस्कार कर दिया. आखिर सरकार को किस बात की जल्दबाजी थी कि परिजनों को अंतिम संस्कार नही करने दिया. सरकार किसको बचाने की जल्दी में है? सरकार ने असंवेदनशीलता की हद को पार कर दिया है, यह सरकारी दमन की पराकाष्ठा है. हाथरस की बेटी को समुचित इलाज़ नहीं मिला, बेटी जिंदगी की जंग हार गयी. पीड़ित परिजन अंतिम संस्कार सुबह करने के लिए गुहार लगाते रहे लेकिन पुलिस ने परिजनों – गांववालों को.

पूरे सिस्टम ने किया बलात्कार-दिल्ली सीएम

अरविंद केजरीवाल ने लिखा हाथरस की पीड़िता का पहले कुछ वहशियों ने बलात्कार किया और कल पूरे सिस्टम ने बलात्कार किया. पूरा प्रकरण बेहद पीड़ादायी है. वहीं मनीष सिसोदिया ने इस मामले पर कहा उत्तर प्रदेश में कल रात पुलिस ने जिस तरह पीड़िता का अंतिम संस्कार किया वह भी बलात्कारी मानसिकता का ही प्रतीक है. सत्ता, जाति और वर्दी के अहंकार के आगे इंसानियत तार तार हो रही है.

कुछ तो सोचिए योगी जी- दिग्विजय सिंह

योगी जी, क्या ऐसे कृत्यों से आप अपनी पवित्र गुरू गोरखनाथ जी द्वारा स्थापित पीठ का सम्मान बड़ा रहे हैं? कुछ तो सोचिए. यदि बच्ची के परिवार जनों को उसके दाह संस्कार करने देते तो क्या हर्ज था? पूर्णतः शर्मनाक!!

ये भी पढ़ें- देश में बीते साल हर दिन 87 रेप केस, NCRB ने बताया- महिलाओं और बच्चों के खिलाफ अपराध बढ़े

गलत रवैये की कड़ी निंदा करती है बीएसपी-मायावती

बीएसपी प्रमुख मायावती ने ट्वीट किया यूपी पुलिस द्वारा हाथरस की गैंगरेप दलित पीड़िता के शव को उसके परिवार को न सौंपकर उनकी मर्जी के बिना व उनकी गैर-मौजूदगी में ही कल आधी रात को अन्तिम संस्कार कर देना लोगों में काफी संदेह व आक्रोश पैदा करता है। बीएसपी पुलिस के ऐसे गलत रवैये की कड़े शब्दों में निन्दा करती है. अगर माननीय सुप्रीम कोर्ट इस संगीन प्रकरण का स्वयं ही संज्ञान लेकर उचित कार्रवाई करे तो यह बेहतर होगा, वरना इस जघन्य मामले में यूपी सरकार व पुलिस के रवैये से ऐसा कतई नहीं लगता है कि गैंगरेप पीड़िता की मौत के बाद भी उसके परिवार को न्याय व दोषियों को कड़ी सजा मिल पाएगी.

भाजपा सरकार ने घोर पाप किया- अखिलेश यादव

हाथरस की बेटी बलात्कार-हत्याकांड’ में शासन के दबाव में, परिवार की अनुमति बिना, रात्रि में पुलिस द्वारा अंतिम संस्कार करवाना, संस्कारों के विरुद्ध है. ये सबूतों को मिटाने का घोर निंदनीय कृत्य है. भाजपा सरकार ने ऐसा करके पाप भी किया है और अपराध भी.

कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी ने उठाए एसआईटी पर सवाल

कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी ने कहा कल कानून के रखवाले ने हिंदू धर्म का अपमान किया है. सूर्यास्त के बाद हिंदुओं में और खास तौर से अंतिम संस्कार नहीं होता. अंतिम संस्कार तो परिवार का अधिकार था. उसके परिवार वालों का हक था, उसकी चिता को आग देने का, उससे भी वंचित कर दिया. हिंदू धर्म में ऐसा नहीं होता. बेटी के साथ ही नहीं कल कानून के साथ भी बलात्कार हुआ है. हर मां-बाप की इच्छा होती है परिवार वालों की इच्छा होती है की उस बेटी के अंतिम दर्शन तो कर लेता. ऐसी जोर जबरदस्ती कोई अपराधी होता तो उसके शव को इस तरह जला सकते हैं, लेकिन एक मासूम बेटी के साथ ऐसा….भाजपा ने तो हत्या कर दी कानून की. एक पल भी उत्तर प्रदेश सरकार को बनी रहने का अधिकार नहीं है. एसआईटी गठन को लेकर रोज़ाना सुनवाई हो. चारों मुलजिम गिरफ्तार हो चुके हैं और पीड़िता का बयान है. डेढ़ महीने के अंदर अंदर ऑर्डर आना चाहिए. एसआईटी का गठन वह भी गृह सचिव की अगुवाई में मुझे लगता है कि इससे मामले को खींचेगा. इससे मामले की जांच में देरी होगी.

Related Posts