हाथरस की गैंगरेप पीड़िता की सफदरजंग अस्पताल में मौत, अलीगढ़ से लाई गई थी दिल्ली

हाथरस (Hathras) की गैंगरेप पीड़िता ने आज दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया. नाजुक हालत के बीच लाइफ सपोर्ट एंबुलेंस में कड़ी सुरक्षा के साथ उसे अलीगढ़ से दिल्ली भेजा गया था.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 9:40 am, Tue, 29 September 20
बाराबंकी में दलित रेप पीड़िता के अंतिम संस्कार को लेकर विवाद सामने आया है.

हाथरस की गैंगरेप पीड़िता (Gang Rape Victim) की दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में इलाज के दौरान मौत (Death) हो गई.  नाजुक हालत को देखते हुए उसे अलीगढ़ से लाइफ सपोर्ट एंबुलेंस में कड़ी सुरक्षा के बीच दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल भेजा गया था,  लेकिन पीड़िता जिंदगी की जंग हार गई.  घटना के हफ्ते भर बाद दूसरी बार में पीड़िता पुलिस को अपना पूरा बयान दे सकी थी, दरअसल दहशत और बेहोशी की हालत में पीड़िता अपनी आपबीती पुलिस को नहीं बता पा रही थी. 22 सितंबर को जेएन मेडिकल कॉलेज पहुंचकर पुलिस ने दोबारा पीड़ित लड़की का बयान दर्ज किया, उसके बाद पुलिस ने गैंगरेप की धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज कर चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था.

हाथरस के चंपदा गांव में 14 सितंबर की सुबह चार युवकों ने 19 साल की दलित लड़की के साथ गैंगरेप किया और उसके साथ मारपीट कर रीढ़ की हड्डी तोड़ दी, जब इतने से भी हैवानों का मन नहीं भरा तो उन्होंने पीड़ित लड़की की जीभ भी काट दी. पीड़ित लड़की को घायल हालत में अलीगढ़ मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था.

ये भी पढ़िए- हाथरस में 19 साल की दलित लड़की से हैवानियत, गैंगरेप के बाद काटी जीभ

गांव के चार युवकों ने लड़की से की हैवानियत

दरअसल 14 सितंबर की सुबह लड़की (Girl) अपने घर से गायों के लिए चारा लेने निकली थी, उसके बाद वह गायब हो गई. काफी तलाश करने पर लड़की खून से लथपथ हालत में मिली, उसे ई-रिक्शा से तुरंत अस्पताल पहुंचाया गया.

पुलिस को दिए गए बयान के मुताबिक लड़की के साथ गांव में ऊंची जाति (High Cast) के चार युवकों ने गैंगरेप किया, और उसे जान से मारने की कोशिश की. पुलिस से एससी/एसटी एक्ट के तहत आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. अस्पताल की शुरुआती जांच में लड़की के साथ रेप, गला घोंटने और मारपीट की पुष्टि हुई थी.

ये भी पढ़ें- लुटियंस दिल्ली के फाइव स्टार होटल में टूरिस्ट गाइड के साथ गैंगरेप, मुख्य आरोपी गिरफ्तार

दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल भेजी गई गैंगरेप पीड़िता

पीड़ित लड़की की मां ने बताया कि 14 सितंबर की सुबह वह अपने बेटे और बेटी के साथ चारा लेने गई थी, इस दौरान उसने अपने बेटे को दूर भेज दिया था, जब उसने मुड़कर देखा तो उसे बेटी नहीं दिखाई दी, उसे लगा कि वह घर चली गई होगी, लेकिन जैसे ही उसकी नजर पास में गुलाबी चप्पलों पर पड़ी, उसने बेटी को ढूढने की कोशिश की और उसे घायल हालत में वह एक पेड़ के पास पाया, उस दौरान वह खून से लथपथ थी, लड़की को तुरंत जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया, जिसके बाद उसे अलीगढ़ मेडिकल कॉलेज भेज दिया गया था, पीड़िता की गंभीर हालत को देखते हुए उसे दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल भेजा गया था, जहां इलाज के दौरान ही उसने दम  तोड़ दिया.