यूपी: जेवर एयरपोर्ट की औपचारिक प्रक्रियाएं पूरी, डीएम ने की प्रभावित किसानों से बात

जिलाधिकारी सुहास एल वाई (Suhas LY) ने मंगलवार को किसानों के प्रतिनिधियों के साथ एक अहम बैठक की. बैठक में गौतमबुद्धमनगर में बनाए जा रहे इंटरनेशनल ग्रीन फील्ड जेवर एयरपोर्ट से प्रभावित किसानों की समस्या, उनके मुआवजे के भुगतान, विस्थापन और उनके बच्चों के रोजगार को लेकर चर्चा हुई.

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के गौतम बुद्ध नगर जिले में जेवर इंटरनेशनल ग्रीनफील्ड एयरपोर्ट (Jewar International Greenfield Airport) के निर्माण को लेकर कार्य तेजी से आगे बढ़ रहा है. यमुना अथॉरिटी के सीईओ डॉ. अरुण वीर सिंह ने मंगलवार को बताया कि एयरपोर्ट से जुड़ी सभी औपचारिक प्रक्रियाएं पूरी कर ली गई हैं. सिंह ने कहा, “जेवर इंटरनेशनल ग्रीनफील्ड एयरपोर्ट से जुड़ी सभी औपचारिक प्रक्रियाएं पूरी कर ली गई हैं. एयरपोर्ट को लेकर पर्यावरण और सुरक्षा से जुड़ी सभी मंजूरियां मिल गई हैं. अक्टूबर के पहले या दूसरे हफ्ते में रियायत समझौते पर हस्ताक्षर हो जाएगा.”

वहीं, यूपी के गौतमबुद्धनगर जिले के जिलाधिकारी सुहास एल वाई ने मंगलवार को किसानों के प्रतिनिधियों के साथ एक अहम बैठक की. इस बैठक में गौतमबुद्धमनगर में बनाए जा रहे इंटरनेशनल ग्रीन फील्ड जेवर एयरपोर्ट से प्रभावित किसानों की समस्या, उनके मुआवजे के भुगतान, विस्थापन और उनके बच्चों के रोजगार को लेकर चर्चा हुई. ताकि सभी किसानों की समस्याओं को दूर करके जिले में अंतर्राष्ट्रीय प्रोजेक्ट को तेजी से आगे बढ़ाया जा सके.

डीएम ने दिए अधिकारियों को निर्देश

जिलाधिकारी ने जेवर एयरपोर्ट के प्रभावित किसानों की समस्याओं और व्यक्तिगत समस्याओं को बहुत ही गहनता के साथ सुना. उन्होंने अपर जिलाधिकारी भूमि अध्याप्ति, उप जिलाधिकारी जेवर गुंजा सिंह, तहसीलदार जेवर दुर्गेश सिंह और अन्य संबंधित अधिकारियों को कुछ स्पष्ट निर्देश दिए.

CM योगी आदित्यनाथ का बड़ा फैसला, PAC हेड कांस्टेबल और SI को मिलेगा तुरंत प्रमोशन

जिलाधिकारी ने कहा कि जिन किसानों की भूमि जेवर एयरपोर्ट के अधिग्रहण में गई है, सभी संबंधित अधिकारी प्राथमिकता के आधार पर अवशेष मुआवजे की कारवाई करें. वहीं जिन किसानों का मुआवजा छूट गया है, उनको जल्द मुआवजा दिलाने का प्रयास करें और इस कार्य में संबंधित अधिकारियों और कर्मचारियों के द्वारा किसानों को सुविधा प्रदान करते हुए उनके भुगतान कराने की कार्यवाही सुनिश्चित करेंगे.

जिलाधिकारी ने स्पष्ट किया है कि इस कार्य में यदि कहीं पर भी लापरवाही या किसी प्रकार की गड़बड़ी पाई जाएगी तो संबंधित अधिकारी और लेखपाल तथा अन्य कर्मचारियों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई होगी.

किसानों के विस्थापन पर हुई बातचीत

जिलाधिकारी ने आगे कहा कि जिला प्रशासन की ओर से संबंधित किसानों को सुविधा प्रदान करने के उद्देश्य से उनके परिचय पत्र बनाने का पूर्व अधिकारी द्वारा निर्णय लिया गया था. सभी किसानों के परिचय पत्र सर्वोच्च प्राथमिकता के आधार पर बनाने की कार्रवाई की जाए. सभी किसानों के विस्थापन के संबंध में अगर कोई समस्या आ रही है तो उसका भी निराकरण तत्परता के साथ करते हुए विस्थापन की कार्यवाही अधिकारी सुनिश्चित करेंगे.

इस अवसर पर उन्होंने सभी किसान प्रतिनिधियों का आह्वान किया कि जिन किसानों ने जेवर एयरपोर्ट के लिए अपनी भूमि दी है, उनकी सभी समस्याओं का निराकरण कराने के लिए जिला प्रशासन उनके साथ है. वहीं सभी किसानों की समस्याओं का चरणबद्ध ढंग और नियमानुसार निराकरण कराने की कार्रवाई जिला प्रशासन की ओर से निरंतर स्तर पर सुनिश्चित की जाएगी.

‘2 हफ्ते के अंदर निकाला जाए समाधान’

जिलाधिकारी ने इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी बलराम सिंह, उप जिलाधिकारी जेवर, गुंजा सिंह और जेवर एयरपोर्ट के प्रभारी अधिकारी रजनीकांत को भी निर्देश दिए. उन्होंने कहा कि संबंधित किसानों की समस्याओं का निराकरण कराने के उद्देश्य से एक अभियान संचालित किया जाए और 2 सप्ताह के भीतर उनके सम्मुख आने वाली समस्याओं का सर्वोच्च प्राथमिकता के आधार पर निराकरण सुनिश्चित कराएं.

उन्होंने साफ कर दिया कि 2 सप्ताह के भीतर उनके द्वारा फिर इस संबंध में बैठक की जाएगी और किसानों की समस्याओं की गहन समीक्षा की जाएगी. सभी अधिकारी व कर्मचारी संबंधित किसानों के कार्य को सर्वोच्च प्राथमिकता देकर पूरा करें.

यूपी: ‘जहर’ बेचने वाली महिलाएं अब लोगों को बाटेंगी ‘अमृत’

(IANS इनपुट के साथ)

Related Posts