दूर्गा पूजा पंडालों को अनुमति दें, सपा और कांग्रेस पार्टी की योगी सरकार से अपील

सपा (SP) के वरिष्ठ नेता और विधानसभा में विपक्ष के नेता राम गोविंद चौधरी ने कहा कि दुर्गा पूजा (Durga Puja) पंडालों पर प्रतिबंध लगाना "लोगों के धार्मिक स्वतंत्रता के मौलिक अधिकार पर सीधा हमला करना है."

बोकारो से 30 किलोमीटर दूर, मारहरा गांव में इस साल ऑनलाइन दुर्गा पूजा के लिए वाई-फाई लगाया जा रहा है.

उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी और कांग्रेस ने योगी आदित्यनाथ (Yogi Aditayanath) सरकार से कोरोनावायरस महामारी के कारण दुर्गा पूजा पंडालों पर लगाए गए प्रतिबंध को हटाने की मांग की है. सपा के वरिष्ठ नेता और विधानसभा में विपक्ष के नेता राम गोविंद चौधरी ने कहा कि दुर्गा पूजा पंडालों पर प्रतिबंध लगाना “लोगों के धार्मिक स्वतंत्रता के मौलिक अधिकार पर सीधा हमला करना है.”

उन्होंने कहा, “दुगार्पूजा पंडालों को अनुमति नहीं देने का राज्य सरकार का निर्णय मौलिक अधिकारों का उल्लंघन है. सरकार को समारोह के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग और अन्य सुरक्षा प्रोटोकॉल सुनिश्चित करना चाहिए. यदि राज्य सरकार लोगों की निर्धारित संख्या के साथ रामलीला आयोजित करने की अनुमति दे सकती है तो दुर्गा पूजा पंडालों को अनुमति क्यों नहीं दे सकते.”

ये भी पढ़ें- अराजक तत्‍वों ने ढांचा तोड़ा, पूर्वनियोजित नहीं-आकस्मिक घटना… बाबरी केस में कोर्ट ने क्या कहा

कांग्रेस के जितिन प्रसाद ने उत्तर प्रदेश सरकार पर साधा निशाना

कांग्रेस ने भी इस मसले पर उत्तर प्रदेश सरकार को निशाना बनाया है. कांग्रेस द्वारा हाल ही में बंगाल प्रभारी नियुक्त किए गए जितिन प्रसाद ने कहा, “मध्य प्रदेश में बड़े पैमाने पर राजनीतिक रैलियां निकालने की अनुमति दी जा सकती है लेकिन उत्तर प्रदेश में भाजपा सरकार बंगाली समुदाय को प्रतिबंधों के साथ दुर्गा पूजा मनाने की अनुमति नहीं दे रही है. यह साफ तौर पर दर्शाती है कि उनके लिए राजनीति ही जरूरी है.”

कांग्रेस नेता ने कहा कि धार्मिक स्वतंत्रता को लेकर भाजपा चयनात्मक नहीं हो सकती है, ना ही इसके लिए वो महामारी का उपयोग कर सकती है. बता दें कि उत्तर प्रदेश सरकार ने दुर्गा पूजा को लेकर निर्देश दिए हैं कि लोग घर पर ही पूजा करें. वहीं अधिकारियों को कोविड-19 (Covid-19) प्रोटोकॉल सुनिश्चित करते हुए 100 लोगों के साथ रामलीला आयोजित करने की अनुमति दी है.

Related Posts