आप के राज्यसभा सांसद संजय सिंह पर राजद्रोह का केस, 20 सितंबर तक हाजिर होने का नोटिस

आप (AAp) की उत्तर प्रदेश इकाई के प्रभारी संजय (Sanjay Singh) सिंह ने कहा कि योगी आदित्यनाथ सरकार ने मेरे खिलाफ देशद्रोह (Sedition) का मामला दर्ज किया है क्योंकि मैंने यूपी में ब्राह्मणों और दलितों के खिलाफ हो रही हिंसा व अत्याचार के बारे में बात की.

  • TV9 Digital
  • Publish Date - 8:19 am, Sat, 19 September 20

आम आदमी पार्टी (AAP) के राज्यसभा सांसद और पार्टी की उत्तर प्रदेश इकाई के प्रभारी संजय सिंह (Sanjay Singh) के खिलाफ लखनऊ पुलिस (Lucknow Police) ने हजरतगंज पुलिस थाने में दर्ज मामले में राजद्रोह (Sedition) की धारा जोड़ दी है. एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि 2 सितंबर को हजरतगंज पुलिस स्टेशन में जो एफआईआर (FIR) दर्ज की गई थी उसमें आईपीसी की धारा 124-A (राजद्रोह) को जोड़ दिया गया है. हजरतगंज के एसएचओ अंजनी कुमार पांडेय की ओर से इसकी पुष्टि की गई है.

पुलिस की ओर से जारी नोटिस में कहा गया है, ‘आपके विरुद्ध मुकदमा अपराध संख्या 242/2020 भारतीय दंड संहिता की धारा 153 ए/153 बी/,505 :1::बी:/505:2:/468/469/124 ए/120 बी व 66 सी/66 डी आईटी अधिनियम के तहत पुलिस थाना हजरंतगंज लखनऊ के संबंध में जांच विवेचना की जा रही है, जो संज्ञेय और गैर जमानती अपराध है, जिसके संबंध में अपने पक्ष में तथ्यों/अभिलेखीय साक्ष्य प्रस्तुत करने हेतु मेरे समक्ष 20 सितंबर को सुबह 11 बजे उपस्थित होना सुनिश्चित करें. यदि आप नियत तिथि/समय पर उपस्थित नहीं होते है तो आपके विरूद्ध दंडनीय कार्यवाही की जाएगी.’

पुलिस शिकायत में क्या कहा गया…

पुलिस शिकायत जिसके आधार पर प्राथमिकी दर्ज की गई, उसमें कहा गया है कि ‘1 सितंबर को एक मोबाइल नंबर बड़े पैमाने पर साझा किया जा रहा था. जांच में पता चला कि पहले से रिकॉर्ड किए गए कॉल एक विशेष नंबर से लोगों के लिए किए जा रहे थे, जिसमें ऐसी बातें कही गईं जो समुदायों को विभाजित कर सकती हैं. इस नंबर पर एक इंटरैक्टिव वॉयस रिस्पांस (IVR) सिस्टम लगाया गया था. अज्ञात शख्स का यह काम समुदायों को विभाजित और समाज में सद्भाव को प्रभावित करने वाला है.’

‘मुझे जेल भेज दिया जाएगा क्योंकि…’

संजय सिंह शुक्रवार को दिल्ली में थे. उन्होंने कहा कि वो 20 सितंबर को लखनऊ जाएंगे और खुद को पुलिस को सरेंडर कर देंगे. आप नेता ने कहा, “योगी आदित्यनाथ सरकार ने मेरे खिलाफ देशद्रोह का मामला दर्ज किया है क्योंकि मैंने यूपी में ब्राह्मणों और दलितों के खिलाफ हो रही हिंसा व अत्याचार के बारे में बात की. योगी सरकार ने मुझ पर देशद्रोह का मामला दर्ज किया क्योंकि मैंने महामारी के समय में कोविड-19 किट्स खरीदे जाने में हुए भारी भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाई. मैं जानता हूं कि जल्द ही मुझे जेल भेज दिया जाएगा क्योंकि मैंने योगी सरकार का पर्दाफाश किया है.”