• Home  »  उत्तर प्रदेश   »   उत्तर प्रदेश: उपचुनावों के लिए तैयार सभी दल, मैदान में उतरे सियासी योद्धा

उत्तर प्रदेश: उपचुनावों के लिए तैयार सभी दल, मैदान में उतरे सियासी योद्धा

उपचुनाव को लेकर हर दल ने कमर कस ली है और इस उपचुनाव के संग्राम को जीतने के लिए अपने-अपने सियासी योद्धाओं को मैदान में उतराना भी शुरू कर दिया है. बस सभी को इंतजार है तो चुनावी युद्धघोष का.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 6:27 pm, Mon, 28 September 20

उत्तर प्रदेश हमेशा ही चुनावी मोड पर रहता है और जब बात चुनावों की हो तो सियासी योद्धा चुनावी मैदान में दम खम के साथ ताल ठोकते नजर आते हैं. ऐसे में यूपी में खाली 8 विधानसभा सीटों पर सभी दलों की निगाहें हैं. कोई भी दल कोर कसर नहीं छोड़ रहा है. सत्तारूढ़ पार्टी बीजेपी से लेकर समाजवादी पार्टी और कांग्रेस लगातार अपनी ताकत का एहसास करा रहीं है. तो वहीं उपचुनाव से दूरी बनाए रखने का इतिहास संजोने वाली पार्टी बीएसपी भी इस बार उपचुनाव के मैदान में ताल ठोकने के लिए तैयार है.

ये हालात तब हैं जब यूपी में होने वाले 8 सीटों पर उपचुनाव का ऐलान अभी तक हुआ नही है. सबसे पहले आपको बताते हैं कि कौन-कौन सी सीटों पर उपचुनाव होना है.

इन सीटों पर होना है उप चुनाव

  • फिरोजाबाद की टूंडला सीट पर उपचुनाव
  • रामपुर की स्वार सीट पर होगा उपचुनाव
  • बुलंदशहर सीट पर भी होगा उपचुनाव
  • अमरोहा की नौगांवा सादात सीट पर उपचुनाव
  • कानपुर की घाटमपुर सीट पर उपचुनाव
  • उन्नाव की बांगरमऊ सीट पर उपचुनाव
  • जौनपुर की मल्हनी सीट पर उपचुनाव
  • देवरिया सदर सीट पर भी होना है उपचुनाव

ये उपचुनाव बीजेपी और समाजवादी पार्टी के लिए सबसे अहम हैं क्योंकि जिन 8 सीटों पर उपचुनाव होने हैं, उनमें से 6 सीटें बीजेपी के पास थीं. तो वहीं 2 सीटों पर समाजवादी पार्टी का कब्जा था. जौनपुर की मल्हनी सीट पारसनाथ यादव के निधन की वजह से खाली हुई है. तो वहीं रामपुर की स्वार सीट भी समाजवादी पार्टी के पास थी. ऐसे में समाजवादी पार्टी ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी है.

ट्रैक्टर जलाने की घटना पर बोले तेजस्वी सूर्या, ‘असली किसान ऐसा कभी नहीं करता’

वहीं इन 8 विधानसभा सीटों में से 6 सीटों पर काबिज रही बीजेपी ने अभी तक पत्ते नही खोले हैं, लेकिन बीजेपी के निचले स्तर के नेताओं से लेकर मंत्रियों के ताबड़तोड दौरे इस उपचुनाव में बीजेपी की गंभीरता को बयां कर रहे हैं. एक तरफ खुद सीएम योगी आदित्यनाथ ताबड़तोड दौरे कर रहे हैं, तो वहीं योगी कैबिनेट के मंत्री भी लगातार दौरे कर रहे हैं.

जिन 8 सीटों पर उपचुनाव होने हैं उन पर लगातार बीजेपी नजर बनाए हुए है और गडाए हुए भी. सीएम योगी आदित्यनाथ लगातार दौरे कर रहे हैं. जौनपुर में सीएम का दौरा हुआ. जिसके बाद अब उन्नाव का दौरा भी सीएम करने वाले हैं. वहीं रामपुर सीट पर बीजेपी की बढ़त बनाने के लिए डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने दौरा किया और उपचुनाव से पहले ही रामपुर की जनता को 200 करोड़ की परियोजनाओं की सौगात दी.

उपचुनाव के जरिए अस्तित्व बचाने कि कोशिश में कांग्रेस

ऐसे में विधानसभा चुनावों के दौरान लगातार रसातल में जाती कांग्रेस भी उपचुनाव के जरिए अपने सियासी अस्तित्व को बचाने और बनाए रखने की लड़ाई लड़ रही है. उपचुनाव में जहां समाजवादी पार्टी और बीजेपी ने अपने पत्ते नहीं खोले हैं. तो वहीं कांग्रेस ने दो सीटों पर प्रत्याशियों का एलान कर दिया है.

कांग्रेस पार्टी ने स्वार सीट से हमजा खान और बांगरमऊ सीट से आरती वाजपेयी को प्रत्याशी बनाया है. कांग्रेस के साथ-साथ बीएसपी ने भी अपने उम्मीदवारों का ऐलान करना शुरू कर दिया है और उपचुनाव से दूरी रखने वाली बीएसपी ने उपचुनाव में कूदने का फैसला कर लिया है. नौगांवा सादात सीट से फुरकान अहमद और बुलंदशहर सीट से हाजी यूनुस गाजी बीएसपी के उम्मीदवार हैं.

फिलहाल इस उपचुनाव को लेकर हर दल ने कमर कस ली है और इस उपचुनाव के संग्राम को जीतने के लिए अपने-अपने सियासी योद्धाओं को मैदान में उतराना भी शुरू कर दिया है. बस सभी को इंतजार है तो चुनावी युद्धघोष का. यानि तारीखों का और फिर ये सियासी लड़ाई और भी दिलचस्प हो जाएगी.

मध्य प्रदेश उपचुनाव को सिंधिया बनाम सिंधिया बनाने के लिए कांग्रेस का सियासी दांव