• Home  »  उत्तराखंडराज्य   »   आगरा: कोरोना ने छीना रोजगार, ‘रोटी वाली अम्मा’ काम न चलने से परेशान

आगरा: कोरोना ने छीना रोजगार, ‘रोटी वाली अम्मा’ काम न चलने से परेशान

रोटी वाली अम्मा आगरा (Agra) के सेंट जॉन कॉलेज के पास लोगों को मात्र 20 रुपए में एक वक्त का खाना मुहैया कराती हैं, और इसी काम से वह अपना घर चलाती हैं. लेकिन कोरोना (Corona) महामारी के दौरान उनका काम पूरी तरह से ठप पड़ा है.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 7:11 pm, Sun, 18 October 20
गरीब महिला भगवान देवी आज अपनी रोजी-रोटी कमाने के लिए काफी जद्दोजहद कर रही हैं.

कोरोना महामारी की मार आज पूरी दुनिया झेल रही है. गरीब आदमी का काम पूरी तरह से ठप है, लोग अपना घर चलाने के लिए भी मोहताज हो गए हैं. ऐसा ही मामला उत्तर प्रदेश के आगरा से सामने आया है. यहां एक गरीब महिला भगवान देवी, जो कि ‘रोटी वाली अम्मा’ के नाम से प्रसिद्ध हैं, आज अपनी रोजी-रोटी कमाने के लिए काफी जद्दोजहद कर रही हैं.

रोटी वाली अम्मा आगरा के सेंट जॉन कॉलेज के पास लोगों को मात्र 20 रुपए में एक वक्त का खाना मुहैया कराती हैं, और इसी काम से वह अपना घर चलाती हैं. लेकिन कोरोना महामारी के दौरान उनका काम पूरी तरह से ठप पड़ा है. उन्होंने न्यूज एजेंसी से बातचीत में अपना दर्द साझा किया.

ये भी पढ़ें- 73 साल में पहली बार ‘अर्थव्यवस्था और आम आदमी’, दोनों की कमर टूटी: कांग्रेस

काम न चलने से परेशान ‘रोटी वाली अम्मा’

ये भी पढ़ें-COVID-19 महामारी में बिजनेस सेक्टर कैसे हो मजबूत? पार्लियामेंट्री कमेटी की मीटिंग में इन बातों पर फोकस

‘रोटी वाली अम्मा’,  भगवान देवी का कहना है कि वह पिछले 15 सालों से खाना बेचने का काम कर रही हैं, लेकिन मुश्किल से ही उन्होंने ऐसा समय देखा हो जब, उनका खाना न बिका हो. कोरोना महामारी की वजह से इन दिनों उनका काम पूरी तरह से ठप है, इन दिनों मुश्किल से ही कोई खरीदार उनकी दुकान पर खाना खरीदने आ रहा है. इससे उनके सामने आजीविका का बड़ा संकट खड़ा हो गया है.

कोरोना महामारी की वजह से ज्यादातर लोग काम न चलने से परेशान है, रोजाना कमाने खाने वालों के सामने भोजन का संकट खड़ा हो गया है.  लोग अपने परिवार की जीविका चलाने के लिए काफी परेशान हैं. रोटी वाली अम्मा भी पिछले 15 साल से खाने का बिजनेस कर रही हैं, लेकिन कोरोना महामारी के बीच ग्राहक उनकी दुकान पर नहीं पहुंच रहे हैं, जिससे वह बहुत परेशान हैं.