कार्यालय नेता के घर से चलता है, तो पार्टी खास आदमी की हो जाती है : जेपी नड्डा

जेपी नड्डा (JP Nadda) ने अप्रत्यक्ष रूप से  कांग्रेस पर निशाना साधते हुए बीजेपी को दूसरे दलों से अलग (BJP Different From Others) बताया, और कहा कि सभी पार्टियां आज परिवार भी पार्टियां बन गई हैं,

जेपी नड्डा ने कहा कि अगर कार्यालय किसी नेता के घर से चलता है तो पार्टी एक व्यक्ति की हो जाती है.

भारतीय जनता पार्टी (BJP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने आज वर्चुअल तरीके से उत्तराखंड (Uttarakhand) के नए बीजेपी कार्यालय (BJP Office) का शिलान्यास किया. इस दौरान उन्होंने कई पार्टियों को घेरते हुए परिवारवाद (Familyism) के मुद्दे पर बात की. उन्होंने कहा कि अगर कार्यालय किसी नेता (Leader) के घर से चलता है तो संगठन या पार्टी एक व्यक्ति की हो जाती है. दूसरी पार्टियां परिवार की पार्टी बन गई हैं,जबकि बीजेपी में पार्टी ही परिवार है.

उन्होंने अप्रत्यक्ष रूप से  कांग्रेस (Congress) पर निशाना साधते हुए बीजेपी को दूसरे दलों से अलग (Different To Other Parties) बताया, और कहा कि सभी पार्टियां आज परिवार भी पार्टियां बन गई हैं, और परिवार तक ही सीमित हो गई हैं. कोई भाई-बहन तो कोई मां-बेटे को बचाने में लगा हुआ है. आज सभी राजनीतिक दल एक छोटे से परिवार के लिए सीमित होकर रह गए हैं.

ये भी पढ़ें- Bihar election 2020: विकास विरोधियों को पहचानें, बड़े-बड़े वादों से बचे जनता- जेपी नड्डा

पार्टी कार्यालय का खास महत्व-जेपी नड्डा

जेपी नड्डा ने कहा कि आने वाले 50 साल तक उत्तराखंड बीजेपी ऑफिस बहुत अच्छा काम करेगा. उन्होंने कहा कि कार्यालय में हमारे काम के लिए सही वातावरण मिलता है, यह हमारे काम को स्थायित्व देता है और विचार भी देता है.

जेपी नड्डा ने कार्यालय के महत्व को बताते हुए कहा कि किताबें तो घर में भी पढ़ी जा सकती हैं, लेकिन पार्टी की लाइब्रेरी में किताबें पढ़ने से कार्यकर्ता को प्रेरणा मिलती है.

संगठन चलाने के लिए ‘पांच क’ बहुत जरूरी

बीजेपी अध्यक्ष ने पार्टी और संगठन संचालन के लिए ‘पांच क’ को जरूरत बताया. उन्होंने कहा कि कार्यकर्ता, कार्यक्रम, कोष, कार्यकारणी और कार्यालय का बहुत ही महत्व है.

ये भी पढ़ें- उत्तराखंड कैबिनेट ने दिया राज्यकर्मियों को बड़ी राहत, अब नहीं कटेगी एक दिन की सैलरी

जेपी नड्डा ने उत्तराखंड की बीजेपी इकाई की तारीफ करते हुए कहा कि उन्होंने कार्यकर्ता का निर्माण किया, कार्यक्रमों को बढ़ाया, कार्यकारणी के माध्यम से संगठन को सशक्त किया, इसके साथ ही फंड का भी ध्यान रखा, और अब एक भव्य कार्यालय बनाया जा रहा है.

Related Posts