क्यों काले कपड़े पहनना पसंद करती हैं बिहार की नई CM कैंडिडेट पुष्पम प्रिया चौधरी?

बिहार में खुद को मुख्यमंत्री पद का दावेदार बताने वाली पुष्पम प्रिया चौधरी (Pushpam priya) ज्यादातर काले कपड़ों में नजर क्यों आती हैं?

  • TV9 Digital
  • Publish Date - 8:00 am, Wed, 30 September 20
पुष्पम प्रिया चौधरी

नई दिल्ली: क्या आप पुष्पम प्रिया चौधरी (Pushpam Priya Choudhary) के बारे में जानते हैं. वही, जो बिहार चुनाव (Bihar Election) का युवा चेहरा हैं. लंदन से पढ़कर आई हैं और पॉलिटिक्स में उतरकर बिहार को नई दिशा और विकास देने का दावा कर रही हैं. वो भी कॉर्पोरेट स्टाइल में. अगर आप बिहार में रहते हैं तो आपने उन्हें कैंपेन करते देखा होगा, और अगर बिहार के बाहर हैं तो मीडिया में उनके काफी इंटरव्यू और अखबारों में इश्तेहार भी आ रहे हैं. लेकिन क्या आपने नोटिस किया है कि वह ज्यादातर मौकों पर काले कपड़े ही क्यों पहनती हैं? यहां तक कि इस बात की तस्दीक के लिए हमने उनकी ऑफिशियल वेबसाइट विजिट की और उनका फोटो सेक्शन देखा. इस सेक्शन में उन्होंने अपने कैंपेन की काफी तस्वीरें शेयर की हैं. इनमें भी वह ज्यादातर फोटो में काले कपड़ों में ही नजर आ रही हैं.

क्या है काला पहनने का जवाब?

इसके जवाब में पुष्पम प्रिया कहती हैं कि वैसे तो सारे नेता सफेद कपड़े ही पहनते हैं. लेकिन संविधान में ऐसा कोई ड्रेस कोड नेताओं के लिए तय नहीं किया गया है, इसलिए उन्हें जो पसंद है वो वही पहनती हैं. और काला रंग उनका फेवरेट है.

ये हैं उनके इंस्टाग्राम और वेबसाइट पर शेयर की गईं खास तस्वीरें, जिनमें वह काले कपड़ों में नजर आ रही हैं.

पुष्पम प्रिया चौधरी

कॉरपोरेट स्टाइल है खास
हम पुष्पम प्रिया के चुनावी तरीके को कॉरपोरेट क्यों कह रहे हैं? इसकी दो वजह हैं. पहली वह सफेद कुर्ता पायजामा पहनने वाले नेताओं से अलग हैं. वह सिर्फ अपने एजेंडे पर फोकस करती हैं. यहां तक कि उन्होंने एक मीडिया इंटरव्यू में ये दावा भी किया कि वह बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को छोड़कर दूसरे किसी नेता को फॉलो नहीं करतीं. चाहे फिर वह RJD के तेजस्वी यादव हों या LJP के चिराग पासवान. दूसरी वजह ये हैं कि उन्होंने अपनी जो पार्टी बनाई है, जिसका नाम है प्लूरल्स उसके दो विंग बनाएं हैं. पहला विंग पॉलिटिकल है और दूसरा है एग्जिक्यूटिव यानी आसान भाषा में कहें तो प्राशासनिक कामकाज देखता है.