बिहार चुनाव के पहले सियासी दलों में छिड़ी पोस्टर वार

लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) और उनके परिवार के लोगों पर नए स्लोगन से पोस्टर से हमला किया गया है. लालू प्रसाद और तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) को 'लूट एक्सप्रेस' चलाने वाला बताया गया. पोस्टर में एक बस को लूट एक्सप्रेस के तौर पर दिखाया गया है.

bihar assembly elections

बिहार में इस साल होने वाले विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Elections) को लेकर राजनीतिक दलों के बीच जुबानी जंग धीरे-धीरे परवान चढ़ रही है, लेकिन दूसरी ओर राजनीतिक दल सड़कों पर भी एक नई लड़ाई लड़ रहे है. राजनीतिक दल एक-दूसरे पर आरोप लगाने या कटाक्ष करने के लिए पोस्टरों का सहारा ले रहे हैं.

ये पोस्टर पटना (Patna) की सड़कों के किनारे लगाए जा रहे हैं, जो आने-जाने वाले लोगों के लिए आकर्षण का केंद्र भी बने हुए हैं. पिछले एक हफ्ते से यहां की सड़कों पर पोस्टर वार (Poster War) जोरों पर है.

पटना की सड़कों पर गुरुवार को JDU ने एक पोस्टर लगाया है, जिसके जरिए RJD पर जोरदार कटाक्ष किया गया है. पीले रंग के इस पोस्टर में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) की तस्वीर है जिसमें लिखा गया है, ‘पूरा बिहार, हमारा परिवार’. इसी पोस्टर के एक कोने में ‘न्याय के साथ तरक्की, नीतीश की बात पक्की’ का नारा लिखा हुआ है. कहा जा रहा है कि इस पोस्टर के जरिए जदयू ने लालू परिवार को निशाना बनाने की कोशिश की है.

‘एक ऐसा परिवार, जो बिहार पर भार’ शीर्षक वाला पोस्टर

इससे पहले शनिवार को पटना की सड़कों पर राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) के परिवार पर तीखा राजनीतिक प्रहार करते हुए एक पोस्टर लगाया गया था. ‘एक ऐसा परिवार, जो बिहार पर भार’ शीर्षक से लगे इन पोस्टरों के सबसे ऊपर RJD के अध्यक्ष लालू प्रसाद को बतौर कैदी दिखाया गया.

ये भी पढ़ें : बिहार विधानसभा चुनाव : पटना में लगे सत्ता विरोधी पोस्टर, ‘मारते रहे बस पलटी, नीतीश की हर बात कच्ची’

पोस्टर के निचले हिस्से में तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) और तेजप्रताप यादव की तस्वीर लगाई गई है जिसे विधायक और पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी की तस्वीर पर उन्हें विधानपार्षद और मीसा भारती की तस्वीर पर राज्यसभा सांसद लिखा गया है.

लालू और तेजस्वी को बताया लूट एक्सप्रेस चलाने वाले

इसके एक दिन बाद ही फिर से लालू प्रसाद और उनके परिवार के लोगों पर नए स्लोगन से पोस्टर से हमला किया गया है. लालू प्रसाद और तेजस्वी को ‘लूट एक्सप्रेस’ चलाने वाला बताया गया. पोस्टर में एक बस को लूट एक्सप्रेस के तौर पर दिखाया गया है, जिसके अंदर पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी, तेजप्रताप यादव और मीसा भारती को बैठे हुए दिखाया गया है जबकि लालू और तेजस्वी बस के ऊपर खड़े दिख रहे हैं. इस पोस्टर के एक छोर पर बड़े-बड़े अक्षरों में लिखा गया ‘एक परिवार बिहार पर भार’.

नीतीश कुमार पर निशाना साधने वाले पोस्टर

बुधवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर निशाना साधते हुए पोस्टर पटना की सड़कों पर चस्पा कर दिए गए. पोस्टर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की तस्वीर है. पोस्टर में प्रधानमंत्री को यह कहते हुए दिखाया गया है, “नीतीश कुमार के DNA में ही गड़बड़ी है. मारते रहे पलटी, नीतीश की हर बात कच्ची.”

पोस्टर जारी करने वाला नहीं बता रहा अपना नाम

इसके अलावा एक और पोस्टर लगाया गया है. इस पोस्टर में भी प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री की तस्वीर है. जिसमें बिहार की जनता को यह बोलते हुए दिखाया गया है कि BJP को तो बिहार की जनता ने विपक्ष में बिठाया था, फिर आप सत्ता में कैसे पहुंच गए. हालांकि पोस्टर जारी करने वाले पोस्टर पर अपने नाम का भी उल्लेख नहीं कर रहे हैं.

‘पोस्टर के जरिए चुनाव नहीं जीते जा सकते’

JDU के प्रवक्ता संजय सिंह (Sanjay Singh) कहते हैं कि JDU अपने प्रचार के लिए पोस्टर लगा रहा है. RJD या लालू प्रसाद के परिवार के विरोध में लगाए पोस्टर के विषय में उन्होंने कहा कि यह पोस्टर कौन लगाता है, उन्हें नहीं पता. उन्होंने कहा कि पोस्टर के जरिए चुनाव नहीं जीते जा सकते, पोस्टर लगाकर अगर चुनाव जीते जा सकते, तो कोई बात नहीं.

इधर, RJD के प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी (Mrityunjay Tiwari) कहते हैं कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी पोस्टर से वार कर रही है जबकि लालू प्रसाद को बिहार की जनता दिल में बसाए हुए है. इस चुनाव में ऐसे पोस्टर लगाने वालों को पता चल जाएगा. (IANS)

ये भी पढ़ें : बिहार विधानसभा चुनाव: RLSP की नाराजगी आई सामने, पार्टी ने आनन-फानन में बुलाई बैठक

Related Posts