बीजेपी ने शिवसेना को दिखाए तेवर, ‘7 नवंबर तक नहीं बनी सरकार तो महाराष्‍ट्र में राष्‍ट्रपति शासन

सुधीर मुनगंटीवार ने यह भी कहा कि सरकार गठन में सबसे बड़ी बाधा शिवसेना की सीएम पद की मांग है.

  • TV9.com
  • Publish Date - 4:36 pm, Fri, 1 November 19

मुंबई: महाराष्ट्र के वित्त मंत्री और बीजेपी नेता सुधीर मुनगंटीवार ने शुक्रवार को कहा कि अगर राज्य में सात नवंबर तक नई सरकार नहीं बनती है तो राष्‍ट्रपति शासन लागू हो सकता है.

सुधीर मुनगंटीवार ने यह भी कहा कि सरकार गठन में सबसे बड़ी बाधा शिवसेना की सीएम पद की मांग है. मुनगंटीवार ने एक टीवी चैनल से बातचीत में कहा कि दीपावली उत्सव के कारण भाजपा और शिवसेना के बीच बातचीत में देर हो गई. एक या दो दिन में बातचीत शुरू सकती है. उन्होंने कहा, ‘महाराष्ट्र के लोगों ने केवल एक पार्टी को नहीं बल्कि महायुति (भाजपा, शिवसेना गठबंधन) को जनादेश दिया है. हमारा गठबंधन फेविकोल या अंबुजा सीमेंट से भी मजबूत है.’

हालांकि, मुनगंटीवार ने यह भी उम्‍मीद जताई कि महाराष्‍ट्र में बीजेपी-शिवसेना नई सरकार का गठन जल्द कर लेंगे. उन्होंने कहा, ‘निर्धारित समय के भीतर हमें सरकार बनानी होगी, नहीं तो राष्ट्रपति को हस्तक्षेप करना पड़ेगा. अगर समयसीमा के भीतर सरकार नहीं बनती है तो राष्ट्रपति शासन लागू होगा.’

दूसरी तरफ शिवसेना सीएम पद की मांग पर अड़ी हुई है. शुक्रवार को पार्टी नेता संजय राउत ने कहा कि सीएम तो शिवसेना की ही रहेगा, इस बात को लिखकर ले लीजिए.

संजय राउत ने बीजेपी पर तंज कसते हुए कहा, ‘बीजेपी कहां से बहुमत जुटाएगी? जिनके पास बहुमत नहीं हो वे डेरिंग न करें सरकार बनाने की. हम व्यापारी नही हैं. नेता कार्यकर्ता व्यापारी नहीं. यहां मोलभाव नहीं होता. अभी भी सरकार बनाने को लेकर बीजेपी से कोई बात नहीं हुई. वे बड़े लोग हैं. अंतरराष्ट्रीय पार्टी है और पूरे विश्व में है.’

संजय राउत ने कहा, ‘कांग्रेस के साथ पर समर्थन नही मानूंगा. हर पार्टी का अपना एजेंडा होता है वो भी नहीं चाहेंगे कि बीजेपी की सरकार हो. हमारे विचार अलग हैं. मैं फिर कहूंगा कि शिवसेना समर्थन जुटा लेगी. मोदी जी भी शरद पवार का मार्गदर्शन लेते है मैं भी गया था.’

महाराष्‍ट्र विधानसभा चुनाव 2019 के नतीजे 21 अक्‍टूबर को आए थे, जिसमें बीजेपी-शिवसेना गठबंधन को जनता ने पूर्ण बहुमत दिया. अब दोनों दल सीएम पद पर आमने-सामने हैं और अभी तक सरकार बनाने का कोई रास्‍ता बनता नहीं दिख रहा है. महाराष्‍ट्र की मौजूदा विधानसभा का कार्यकाल 8 नवंबर को पूरा हो जाएगा.